न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अलर्ट : रात 8 बजे से पहले और 10 बजे के बाद पटाखे फोड़े, तो होगी कार्रवाई

पटाखे फोड़नेवालों पर प्रशासन की रहेगी नजर

120

Ranchi : दिवाली में पटाखे फोड़नेवालों पर प्रशासन की नजर रहेगी. 10 बजे रात के बाद पटाखा फोड़नेवालों पर प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जायेगी. सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी किये गये आदेश के अनुपालन के लिए प्रशासन ने यह कदम उठाया है. राजधानी रांची में तय समय सीमा के पहले या उसके बाद पटाखे फोड़नेवालों के खिलाफ स्थानीय थाना की सूचना पर कार्रवाई की जायेगी. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस मुख्यालय और गृह विभाग द्वारा यह जानकारी दी गयी.

रात 8 से 10 बजे तक पटाखे फोड़ने की मिली है अनुमति

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार राज्य सरकार ने दिवाली में पूरे राज्य में रात 8 से 10 बजे तक पटाखे फोड़ने की अनुमति दी है. इस बीच रांची पुलिस ने शहर के 20 थानों में उड़न दस्ते का गठन किया है. दस्ते का नेतृत्व संबंधित क्षेत्र के थानेदार करेंगे, जबकि चार डीएसपी भी इसकी निगरानी करेंगे.

इसे भी पढ़ें- पीटीआर को हर साल मिलता है 4.5 करोड़ का फंड, फिर भी पांच माह से पीटीआर में नहीं दिखा बाघ

पांच साल तक की कैद और एक लाख रुपये तक के जुर्माने की हो सकती है सजा

पटाखे फोड़ने को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये निर्देश के बाद जो व्यक्ति तय समय-सीमा से पहले, यानी रात 8 बजे से पहले और तय समय-सीमा के बाद, यानी रात 10 बजे के बाद पटाखा फोड़ेगा, उस पर पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 15 के तहत केस किया जायेगा. इस धारा का उल्लंघन करने पर अधिकतम पांच साल तक की जेल और अधिकतम एक लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है. अगर कानून तोड़ने की तीव्रता अधिक होगी, तो जेल और जुर्माना दोनों की सजा हो सकती है.

स्कूल, हॉस्पिटल, कोर्ट की 100 मीटर की परिधि में पटाखा फोड़ने पर पाबंदी

वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग और झारखंड पुलिस के मुताबिक, राज्य सरकार द्वारा पटाखे फोड़ने को लेकर आम नागरिकों के लिए एडवायजरी जारी कर दी गयी है. इसमें शैक्षणिक संस्थान, हॉस्पिटल और कोर्ट के 100 मीटर की परिधि में पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इसके अलावा अधिकतम 145 डेसीबल से ज्यादा शोर उत्पन्न करनेवाले पटाखों पर बैन रहेगा. झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद ने भी अपनी ओर से अपील जारी की है. लोगों से अपील की जा रही है कि लड़ी वाले पटाखे फोड़ने से परहेज करें.

इसे भी पढ़ें- 42 दिनों से धरने पर मिड डे मील कर्मी, बच्चों को छोड़ कर रहीं संघर्ष

क्या है सुप्रीम कोर्ट का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि पर्यावरण को कम नुकसान पहुंचानेवाले पटाखों के उत्पादन एवं बिक्री की अनुमति दी गयी है. दिवाली पर पटाखे फोड़ने के लिए कोर्ट ने समय-समी भी तय की है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक, दिवाली पर रात 8 बजे से रात 10 बजे तक (दो घंटे) ही पटाखे फोड़े जा सकेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: