HEALTHLead NewsLIFESTYLENationalNEWSOFFBEATTOP SLIDER

Alarming :  अब कम होने लगी है भारत में लोगों की लंबाई, जानें क्या हैं इसके कारण

भारतीय महिलाओं और पुरुषों दोनों की औसत लंबाई में आयी है कमी

New Delhi : अब तक तो हम लोग ये पढ़ते आए हैं कि दुनियाभर में लोगों की औसत आयु बढ़ रही है. लेकिन अब दो बातें पता लगी हैं. एक सर्वे बताता है कि भारत में वयस्कों की औसत लंबाई घटने लगी है. दुनिया के बारे में यही कहा जा रहा है कि अब नए ट्रेंड्स बताते हैं कि लोगों की लंबाई घट रही है.

भारत में नेशनल फैमिली एंड हेल्थ सर्वे बताता है भारत में वयस्कों की लंबाई बहुत अलार्मिंग रेट से कम हो रही है. सर्वे में कहा गया है कि हमें इस ओर ध्यान देने की जरूरत है कि ऐसा क्यों हो रहा है. भारत में अलग अलग वर्गों की लंबाई की वजह उनके अलग जेनेटिक ग्रुप हैं. लेकिन भारत में अब वयस्कों की लंबाई जो घट रही है, उसकी कई वजहें हैं, उसमें लाइफ स्टाइल, पोषण, सामाजिक औऱ आर्थिक असर भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें :महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी, आहत

पुरुषों और महिलाओं दोनों की कम हो रही है लंबाई

इस सर्वे में पूरे देश में वयस्कों की लंबाई का अध्ययन किया गया. इससे पता लगा कि 15-25 वर्ष आयुवर्ग के पुरुष और महिलाओं की लंबाई पर पिछले कुछ बरसों में वाकई फर्क पड़ा है. भारतीय महिलाओं की औसत लंबाई में 0.42 सेंटीमीटर की कमी आई तो पुरुषों की औसतन लंबाई में 1.10 सेंटीमीटर की कमी हुई है. ये असर सभी तरह के जातीय और धार्मिक समूहों में देखा गया.

इसे भी पढ़ें :

 

वो देश जहां सबसे लंबे लोग होते हैं

ऐसे ही कुछ शोध दुनिया भर में भी हुए हैं. उनसे भी पता लगता है कि दुनिया में अब लोगों की लंबाई कम होने लगी है. लंबे समय से नीदरलैंड का दावा रहा है कि उसके लोग दुनिया में सबसे लंबे होते हैं लेकिन हालिया शोध बताते हैं कि डच लोगों की मौजूदा पीढ़ी पहले की पीढ़ी की तुलना में थोड़ी छोटी हो गई है. पुरुषों की औसत लंबाई 1 सेंटीमीटर, तो महिलाओं की औसत लंबाई 1.4 सेंटीमीटर तक कम हो गई है.

इसे भी पढ़ें :हजारीबाग : बरकट्ठा में पांच हजार रुपये घूस लेते पंचायत सेवक को एसीबी ने दबोचा

भारत में इसकी मुख्य वजह क्या है

भारत में लंबाई कम होने को आमतौर पर बचपन के पोषण से मुख्य तौर पर जोड़ा गया है. अगर बच्चों की शुरुआती उम्र में ही सही पोषण मिले तो उनकी लंबाई पर सकारात्मक पड़ता है. लेकिन इसका असर हमारे घर के माहौल, तनाव से भी जुड़ा हुआ है. तनाव सामाजिक से लेकर धार्मिक भी हो सकता है.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : एयर इंडिया को सरकार ने कहा बाय,  70 साल बाद फिर TATA  का हुआ महाराजा

डचों की लंबाई भी कम हो रही है

वहीं नीदरलैंड में वहां का केंद्रीय सांख्यिकी ब्यूरो (सीबीएस) हर चार साल में देशभर में स्वास्थ्य सर्वेक्षण करता है. इसी में लोगों की लंबाई भी नापी जाती है. 2020 में 19 साल के डच पुरुषों की औसत लंबाई 182.9 सेंटीमीटर थी, जबकि उसी उम्र की महिलाओं की लंबाई 169.3 सेंटीमीटर थी.
हालांकि डच लोगों की लंबाई 60 से लेकर 80 के दशक के बीच काफी तेजी से बढ़ी. 1930 में पैदा हुए पुरुषों की तुलना में 1980 में जन्म लेने वाले पुरुषों की ऊंचाई औसतन 8.3 सेंटीमीटर बढ़ गई. इसी तरह महिलाओं की लंबाई इस दौरान 5.3 सेंटीमीटर बढ़ गई.

इसे भी पढ़ें :Ranchi News : राजधानी की बहुमंजिला इमारतें नहीं हैं सुरक्षित, ये इमारतें बन रही सुसाइड व मर्डर स्पॉट

क्या दूध पीने से बढ़ती है लंबाई

इसकी वजह वहां के लोगों का ज्यादा दूध पीना बताया गया. हालांकि इसकी दूसरी वजहें भी हैं. नीदरलैंड मानव विकास सूचकांकों में पहले नंबर पर है यानि जीवनशैली बेहतर है, पोषण अच्छा है. तनाव कम रहता है. सामाजिक और आर्थिक हालात भी अच्छे हैं. लोग खुशहाल हैं. दूसरे देशों में डेनमार्क का भी यही सूचकांक है. वहां के लोग भी लंबे हैं.

इसे भी पढ़ें :रूपा तिर्की मौत मामला : मोबाइल मैसेज को सुसाइड नोट नहीं मान रही है CBI, जानिये-किस डायरी की है तलाश

वैसे लंबाई का ताल्लुक कई बातों से होता है लेकिन नीदरलैंड में आमतौर पर ये माना जाता है कि उनकी लंबाई का रिश्ता ज्यादा दूध पीने की उनकी आदत के चलते है.

वैसे ज्यादातर शोध ये बताते हैं कि लंबा होने आपकी सफलता को बढ़ाता है. आप जितने लंबे होते हैं, उतना अधिक पैसा कमाते हैं. आप लोगों के बीच ज्यादा असर छोड़ते हैं. माना जाता है कि सामान्य तौर पर महिलाएं भी लंबे पुरुषों की ओर ज्यादा आकर्षित होती हैं.

इसे भी पढ़ें :केसरी का ‘तेरी मिट्टी में मिल जावां ‘ गाना पाकिस्तानी गाने से कॉपी करने के मनोज मुंतशिर पर लगे आरोप पर सिंगर Geetaben Rabari ने बताई सच्चाई

कई वजहों के चलते कम होती है लंबाई

लेकिन अब आखिर क्यों डच लोगों की लंबाई बढ़ना बंद हो गई है. बल्कि लंबाई कम होने लगी है. 2000 के बाद पैदा हुए 19 साल के पुरुषों की लंबाई 1980 के दशक में पैदा हुए पुरुषों की तुलना में औसतन 1 सेमी कम हो गई.

महिलाओं का क़द भी 1.4 सेंटीमीटर छोटा हो गया. इसकी मुख्य वजह खान-पान में बदलाव और आर्थिक संकट के असर बताए जा रहे हैं. हैरानी की बात है कि इसकी वजह है नीदरलैंड में प्रवासियों का आना भी माना गया है. वैसे अब डच भी ये मानने लगे हैं कि उनकी जीवन शैली में खराबियां आ रही हैं. खान-पान की पौष्टिकता भी घटी है. साथ ही लोगों की फिजिकल एक्टीविटीज कम हो रही है.

इसे भी पढ़ें :विधानसभा सत्र के बाद झारखंड में लागू हो जाएगा नया लेबर वेज कोड, सुझाव के लिए पब्लिक डोमेन में डाली गयी है नियमावली

सबसे लंबे कद वाले लोगों के देश

वर्ल्ड पापुलेशन रिव्यू वेबसाइट के अनुसार दुनिया में सबसे ज्यादा लंबाई वाले देश इस तरह हैं, जहां लोगों की औसत ऊंचाई ज्यादा है
1. नीदरलैंड 72.36 इंच
2. मांटेनेग्रो 72.13 इंच
3. डेनमार्क 71.89 इंच
4. नार्वे 71.81 इंच
5. सर्बिया 71.65 इंच
6. जर्मनी 71.26 इंच
7. क्रोएशिया 71.06 इंच
8. स्लोवानिया 70.98 इंच
9. चेक गणराज्य 70.97 इंच
10. लक्जमबर्ग 70.83 इंच

इसे भी पढ़ें :BREKING : मानगो बाजार में व्यापारी से पिस्तौल के बल पर दिनदहाड़े डेढ़ लाख की लूट, तीन अपराधियों ने दिया घटना को अंजाम

 

 

Related Articles

Back to top button