JharkhandLead NewsRanchi

खतरे की घंटी, झारखंड के साढ़े चौदह हजार घरों में मिला डेंगू का लार्वा

♦2 लाख 29 हजार घरों में पहुंची टीम, 14,457 घरों में मिला डेंगू का लार्वा, 8 महीने में डेंगू के 77 और चिकनगुनिया के 107 केस

Ranchi : कोरोना के बीच झारखंड में डेंगू-मलेरिया पर विभाग का ध्यान ही नहीं था. स्टाफ भी कोविड ड्यूटी में तैनात कर दिये गये थे. जिससे इंटोमोलॉजी डिपार्टमेंट काम ही नहीं कर पा रहा था. कोरोना संक्रमण के बीच जून महीने से स्टेट इंटोमोलॉजी डिपार्टमेंट ने डोर टू डोर सर्वे शुरू किया है जो नवंबर तक जारी रहेगा. जिसके तहत टीम 2,29,224 घरों में पहुंची. 14,457 घरों में टीम को डेंगू का लार्वा मिला. वहीं इस साल अगस्त तक डेंगू के 77 मामले सामने आये हैं. जबकि चिकनगुनिया के 107 मरीजों की पुष्टि हुई है. जिससे साफ है कि डेंगू के मामले तेजी से बढ़े हैं. लेकिन इसका आउटब्रेक झारखंड में कहीं भी नहीं हुआ. स्टेट इंटोमोलॉजी एक्सपर्ट का कहना है कि इसमें भी ज्यादातर मामले बाहर से आनेवाले लोगों में मिले हैं. जिनकी टेस्टिंग में संक्रमित होने की पुष्टि हुई.

इसे भी पढ़ें – रूपा तिर्की मौत मामलाः सीबीआई के अलावा आयोग की भी जांच जारी, 18 नवंबर को होनी है अहम बैठक

advt

15 जून से शुरू किया गया सर्वे

झारखंड स्टेट इंटोमोलॉजी डिपार्टमेंट सभी निकायों के साथ मिल कर डोर टू डोर सर्वे कर रहा है. जिसके तहत लोगों के घरों में जाकर जल जमाव की जांच की जा रही है. वहीं घरों में स्टोर किये गये पानी का सैंपल भी चेक किया जा रहा है. जिससे मच्छरों के लार्वा का पता लगाया जा सके. इस दौरान टीम ने डोर टू डोर सर्वे के दौरान 5 लाख 43,082 कंटेनरों की जांच की. जिसमें 26,010 में लार्वा मिले. टीम ने देर न करते हुए तत्काल लार्वा को नष्ट किया. इतना ही नहीं लोगों को इसके लिए जागरूक भी किया गया कि कहीं भी साफ पानी को जमा न होने दें.

इसे भी पढ़ें – Porn Movies Case : दो महीने बाद जेल से रिहा हुआ राज कुंद्रा, शिल्पा शेट्टी ने ये दिया रिएक्शन

सभी जिलों के डीसी को किया अलर्ट

स्वास्थ्य सचिव ने नगर विकास सचिव को इसे लेकर पत्र लिखा है. वहीं सभी जिलों के डीसी को भी अलर्ट जारी कर दिया है. जिससे अभियान को तेज किया जाये. साथ ही लार्वा के सोर्स को नष्ट किया जा सके. इस काम के लिए विभाग ने अपना मैनपावर लगा दिया है. वहीं 127 कम्युनिटी वालेंटियर भी हायर किये गये हैं ताकि अभियान को तेज किया जा सके.

इसे भी पढ़ें- रूपा तिर्की केसः तीन वायरल ऑडियो को जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजेगी सीबीआइ

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: