JharkhandRanchi

Akanksha Yojana : छात्र-छात्राओं को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराएगी सरकार, मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी

Ranchi: आकांक्षा कार्यक्रम के तहत सरकारी विद्यालयों में कक्षा सातवीं से लेकर 10वीं तक के छात्र-छात्राओं को राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा (एनटीएसई), ओलंपियाड व कक्षा 11वीं एवं 12वीं के विद्यार्थियों को Common Law Admission Test (क्लैट) की विशेष कोचिंग करायी जाएगी. वहीं, एनडीए के लिए भी तैयारी कराये जाने से संबंधित प्रस्ताव तैयार किया गया है. मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. अब इसे मंत्रिमंडल की बैठक में स्वीकृति के लिए रखा जाएगा.

कितने विद्यार्थियों का कोचिंग के लिये होगा नामांकन

राज्य के सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग तथा मेडिकल के अलावा अन्य प्रतिस्पर्धी प्रतियोगिताओं की तैयारी के लिए आकांक्षा कार्यक्रम का विस्तार किया जा रहा है. इसके अंतर्गत अब राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान परिषद द्वारा संचालित राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा एवं ओलंपियाड की विशेष आवासीय कोचिंग के लिए कुल 100 विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा. इनमें कक्षा 7 से 25 कक्षा से 8 से 25, कक्षा 9 से 25 और कक्षा 10 के 25 विद्यार्थी होंगे. वही कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (CLAT) के लिए कक्षा 11 से 50 और कक्षा 12 से 50 यानी कुल 100 विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा.

राज्य स्तर पर कार्यक्रम का होगा संचालन

झारखंड एकेडमिक काउंसिल द्वारा अलग-अलग पाठ्यक्रमों के लिए आयोजित प्रवेश परीक्षा के आधार पर छात्र -छात्राओं का चयन आकांक्षा कार्यक्रम के तहत कोचिंग के लिए होगा. चयनित विद्यार्थियों का नामांकन स्थानांतरण प्रमाण पत्र के आधार पर तथा माता-पिता या अभिभावक की सहमति से रांची जिला के विद्यालय में कराया जाएगा. राज्य आकांक्षा कार्यक्रम को प्रभावी रूप से मार्गदर्शन करने के लिए अनुश्रवण समिति का गठन किया जाएगा, जिसके अध्यक्ष निदेशक , माध्यमिक शिक्षा होंगे. वहीं, आकांक्षा कार्यक्रम को प्रभावी रूप से संचालित करने के लिए रांची के उपायुक्त की अध्यक्षता में संचालन समिति होगी.

विशेषज्ञ शिक्षकों की सेवा ली जाएगी

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा, ओलंपियाड और क्लैट परीक्षा के पैटर्न के अनुसार वार्षिक विश्व कैलेंडर भी निर्धारित किया जाएगा. संचालन समिति द्वारा इस योजना के कार्यान्वयन हेतु भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित, अंग्रेजी एवं अन्य विषयों के उच्च योग्यताधारी एवं विषय को पढ़ाने में विशेषज्ञ शिक्षकों की सेवा ली जाएगी. वहीं, ई-कंटेंट तथा वर्चुअल क्लास रूम के माध्यम से गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्रदान की जाएगी.

नियमित जांच परीक्षा का भी आयोजनः

आकांक्षा कार्यक्रम के लिए चयनित विद्यार्थियों का पाक्षिक, मासिक एवं त्रैमासिक जांच परीक्षा ली जाएगी. संचालन समिति द्वारा देखा जाएगा कि कोचिंग प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों का शैक्षणिक संवर्धन लक्ष्य के अनुरूप हो.

आकांक्षा के विद्यार्थियों का रहा है बेहतर रिजल्टः

आकांक्षा कार्यक्रम के तहत कोचिंग प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों का मेडिकल और इंजीनियरिंग की प्रतियोगिता परीक्षाओं में बेहतर रिजल्ट रहा है. अब तक यहां के 92 विद्यार्थियों ने जेईई मेन्स, 11 विद्यार्थियों ने जेई एडवांस और 64 विद्यार्थियों ने नीट में सफलता पायी है.

Related Articles

Back to top button