न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विश्व आदिवासी दिवस पर सुदेश बोले ‘नीतियों से कुछ नहीं होगा, मिलकर करें अस्तित्व, की हिफाजत’

आदिवासी दिवस झारखंड के लिए गौरव का दिन- सुदेश महतो

453

Ranchi: सिर्फ नीतियां बनाने से आदिवासी समुदाय की स्थिति नहीं बदलेगी. अब तक कितनी ही योजनाएं आदिवासी कल्याण के नाम पर चलाई गईं, लेकिन वे क्या बदलाव ला पायीं, इस पर सरकार को मंथन करना होगा. यह बातें आजसू प्रमुख सुदेश महतो ने विश्‍व आदिवासी दिवस के मौके पर उलगुलान फाउंडेशन द्वारा जोन्‍हा में आयोजित कार्यक्रम में कही.

mi banner add

इसे भी पढ़ें-रांची-टाटा रोड की बदहाली के लिए यूपीए सरकार जिम्मेवार: बीजेपी

उलगुलान फाउंडेशन द्वारा बिरसा मुंडा की प्रतिमा का अनावरण

विश्‍व आदिवासी दिवस के मौके पर उलगुलान फाउंडेशन जोन्हा के द्वारा जोन्हा फॉल-सीताफॉल मार्ग पर स्थापित भगवान बिरसा मुंडा के आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया गया. इस कार्यक्रम में आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो, विधायक विकास मुंडा, संजय बसु मल्लिक, डोमन सिंह मुण्डा, डॉ देवशरण भगत सहित क्षेत्र के गणमान्य लोग मौजूद रहे.

इसे भी पढ़ें-एसटी सूची में शामिल होने की मांग करते हैं, पर विश्व आदिवासी दिवस नहीं मनाते कुरमियों के अगुआ राजनेता

मजबूत झारखंड के निर्माण के लिए आगे बढ़ना होगा

इस अवसर पर आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो ने कहा कि आदिवासी दिवस गौरव का दिन है, खास कर झारखंड के लिए. यह दिवस हमें संघर्ष करने की उर्जा देता है. खुशियां साझा करने के लिए उत्साह-उमंग देता है. यह भी ध्यान दिलाता है कि अस्तित्व की हिफाजत के लिए सचेत और एकजुट रहें. आदिवासी समाज के समक्ष मौजूदा चुनौती अपनी जमीन, भाषा, संस्कृति, परंपरा, रिति रिवाज, पहचान एवं संवैधानिक अधिकार को बरकरार रखने की है. आधुनिक दौर में अपनी पंरपराओं के साथ समन्वय बनाना भी एक चुनौती है. आदिवासी समाज की भाषा, संस्कृति, परंपरा बेमिसाल है. आंदोलन का लंबा इतिहास है. उन्मुक्त जिंदगी के लिए प्रकृति से उनका अटूट रिश्ता है. लेकिन भाषा, संस्कृति पर खतरे बढ़े हैं. जमीन की सुरक्षा बड़ा सवाल है. हम सब को मिलकर मजबूत झारखंड के निर्माण के लिए आगे बढ़ना होगा.

इसे भी पढ़ें-भाजपा के 12 सांसद स्कूल मर्जर के खिलाफ, सीएम को लिखा पत्र

संघर्ष ही आदिवासियों की पहचान- संजय बसु

इस मौके पर संजय बसु मल्लिक ने कहा कि संघर्ष ही आदिवासियों की पहचान है. इससे वे कभी पीछे नहीं हटते. लेकिन भौगोलिक प्रशासनिक दृष्टिकोण से झारखंड अलग राज्य होने के बाद भी झारखंड में इस समुदाय की समस्याएं बढ़ी है. आदिवासी दिवस को लेकर आजसू पूरी दुनिया में धूम है यही वक्त है हम कहां खड़े हैं इसकी विवेचना भी होनी चाहिए.

Related Posts

कोल्हान के बाद पलामू में नक्सलियों की सक्रियता बढ़ी, वाहन जला पुलिस को दे रहे खुली चुनौती

विकास कार्यों में लगे वाहनों को निशाना बना रहे नक्सली संगठन, लेवी के लिए खौफ पैदा करना चाहते हैं

इसे भी पढ़ें-जेएमएम ने कहा-मसानजोर डैम हमारा मुद्दा, बीजेपी को नहीं है विस्थापितों की परवाह

आदिवासी हितों की रक्षा के लिए आजसू प्रतिबद्ध

पार्टी के विधायक विकास मुण्डा ने कहा कि पार्टी आदिवासी हितों तथा अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. झारखंड अलग राज्य का गठन जिन मकसद को लेकर हुआ था उसमें आदिवासी दिवस की प्रासंगिकता और ज्यादा है. लिहाजा आजसू पार्टी उन मकसद को पूरा करने के लिए आदिवासी दिवस की सार्थकता को पूरा करेगी. इधर अखिल झारखण्ड छात्र संघ (आजसू) ने आज विश्व आदिवासी दिवस मनाया. आजसू के पदाधिकारियों ने आज विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर पद्मश्री डॉ राम दयाल मुंडा की धर्मपत्नी प्रो. अमिता मुंडा एवम डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. सत्यनारायण मुंडा से भेंट किया एवम उनको पुष्पगुच्छ देकर विश्व आदिवासी दिवस की बधाई देते हुए आशीर्वाद प्राप्त  किया.

इसे भी पढ़ें-भूमि अधिग्रहण बिल वापस लेने की मांग को लेकर माले कार्यकर्ताओं ने घेरा उपायुक्त कार्यालय

आजसू के प्रदेश प्रभारी हरीश कुमार ने कहा कि 09 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस में मनाए जाने ने आदिवासी समाज को पूरी दुनिया में एक अलग पहचान देने का काम किया है.

रामदयाल मुंडा के संघर्ष की वजह से मना आदिवासी दिवस

आजसू के प्रदेश अध्यक्ष गौतम सिंह ने कहा कि डॉ रामदयाल मुंडा के प्रयास से ही संयुक्त राष्ट्र संघ में लंबी बहस के बाद प्रस्ताव पारित हुआ था कि हर वर्ष 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस मनाया जाएगा. ऐसे में पद्म श्री डॉ राम दयाल मुंडा के परिवार को सम्मलित किये बिना विश्व आदिवासी दिवस मनाने की परिकल्पना भी बईमानी होगी. इसलिए हमें संकल्प लेना चाहिए कि इस परिवार के हर सुख सुख में हम सभी एकजुटता से खड़े रहेंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: