न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सभी महाविद्यालयों का अपना आदिवासी/मूलवासी छात्रावास हो – राजकिशोर महतो

झारखंड के सभी महाविद्यालयों के खाली पड़ी भूमि पर आदिवासी/मूलवासी छात्रावास निर्माण की मांग

291

Ranchi: अखिल झारखण्ड छात्र संघ (आजसू) की राँची विश्वविद्यालय इकाई ने झारखंड के सभी महाविद्यालयों के खाली पड़ी भूमि पर आदिवासी/मूलवासी छात्रावास निर्माण की मांग की है. इसके लिए मंगलवार को छात्रों ने रांची विश्वाविद्लय के कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडेय को ज्ञापन सौंपा.

‘आदिवासी-मूलवासी समुदाय में बढ़ी पढ़ने की ललक’
रांची विश्व विद्लय के कुलपति को ज्ञापन सौंपने के बाद आजसू के राँची विश्वविद्यालय, महासचिव राजकिशोर महतो ने कहा कि देश के पुराने विश्वविद्यालयों में से एक राँची विश्वविद्यालय मूलभत सुविधाओं को उपलब्ध कराने में अत्यंत पिछड़ा रहा है. इसके बावजूद समाज मे शिक्षा के प्रति बढ़े जागरूकता के कारण के रांची विश्वविद्यालय में छात्र छात्राओं की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है. जबकि छात्रावास रूपी मूलभूत सुविधा की ओर ध्यान दें तो यह गिने चुने महाविद्यालयों में ही नजर आते है और जहां छात्रावास है भी तो क्षमता के आधार पर उस महाविद्यालय में पठन पाठन करने वाले विद्यार्थियों के अनुपात में नगण्य है. इसी का फायदा उठाकर व्यवसायिक छात्रावास (लॉज) छात्र छात्राओं का आर्थिक दोहन कर रहे है जबकि स्थानीय प्रसाशन एवम सरकार भी इन व्यवसायिक छात्रावासों पर नकेल कसने में नाकाम रही है.

इसे भी पढ़ें-हाईकोर्ट के निर्देश पर त्रिवेणी सैनिक के एजीएम, सुरक्षा एजेंट सहित अन्य पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज

आर्थिक बोझ से आजादी दिलाएंगे छात्रावास
आजसू के विश्वविद्यालय अध्यक्ष नीतीश सिंह ने कहा की झारखण्ड का निर्माण ही यहां के आदिवासी मूलवासी नागरिकों को सुदृढ करने एवम उनका शोषण रोकने के लिए हुए था. लेकिन अगर वर्तमान परिस्थिति पर गौर किया जाए तो महाविद्यालयों में अध्ययन कर रहे छात्र-छात्राओं पर शिक्षा संबंधी आर्थिक बोझ व्यवसायिक छात्रावासों में रहने की वजह से अप्रत्याशित रूप से बढ़ा है. इसका मूल कारण छात्र-छात्राओं के अनुपात में विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में छात्रावास की व्यवस्था ना होना है. जबकि विश्वविद्यालय प्रसाशन पहल कर सभी महाविद्यालयों के खाली पड़े भूमि पर ज्यादा से ज्यादा क्षमता वाले आदिवासी/मूलवासी छात्रावासों का निर्माण करा कर हजारों छात्र छात्राओं का आर्थिक दोहन होने से रोक सकती है.

इसे भी पढ़ेंः बूढ़ा पहाड़ पर अफसरों की गलती से गयी छह जवानों की जान, कार्रवाई करने व गलती सुधारने के बजाय गलतियों को छिपाने में जुटा पुलिस महकमा
अखिल झारखंड छात्र संघ (आजसू) का के विभिन्न महाविद्यालयों के खाली पड़े भूमि पर आदिवासी/मूलवासी छात्रावास के निर्माण करने की मांग पर राँची विश्वविद्यालय द्वारा सकारात्मक पहल करने की कुलपति महोदय ने कही. ज्ञापन सौंपने के दौरान मुख्य रूप से आजसू के नीतीश सिंह, राजकिशोर महतो, अमन वोहरा, जमाल गद्दी, पवन कुमार, प्रज्ञा कुमारी, नेहा कुमारी, अमन दुबे, राहुल पांडेय आदि उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: