JharkhandLead NewsRanchi

2 अक्टूबर को 4404 पंचायतों में एक साथ पंचायत सम्मेलन करेगी आजसू पार्टी

Ranchi : आजसू पार्टी 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर सभी 4404 पंचायतों में एक साथ सम्मेलन करेगी. इसे लेकर आजसू पार्टी ने सभी स्तरों पर तैयारियां तेज कर दी हैं. पार्टी प्रवक्ता डा देवशरण भगत ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी.

कहा कि इस सम्मेलन के जरिए पार्टी के कार्यकर्ता समर्थक जनता के सवालों पर संघर्ष तेज करने के साथ हर घर हर परिवार से सीधा और सामाजिक सरोकार बनाये रखने का संकल्प लेंगे. पूर्व में भी आजसू पार्टी ने 2 अक्टूबर को स्वराज स्वाभिमान यात्रा एवं मानव श्रृंखला का आयोजन किया था.

गांधी जी की परिकल्पना थी कि गांवों की स्वायत्त पंचायती व्यवस्था में ही देश की सच्ची प्रजातांत्रिक छवि देखी जा सकती है. गांव समाज के समग्र विकास के लिए ग्राम पंचायत को मजबूत करना ही होगा.

advt

इसे भी पढ़ें:पलामू : 16 हजार की उंचाई पर चढ़कर एशिया रिकार्ड बनाने वाले तरहसी के मंजीत बनाना चाहते हैं वर्ल्ड रिकार्ड, आर्थिक तंगी बनी बाधा

गांधी जी की परिकल्पना को साकार करने एवं ग्राम सभा तथा ग्राम पंचायत को मजबूत करने के लक्ष्य के साथ आजसू पार्टी पूरे राज्य में एक साथ पंचायत सम्मेलन करेगी.

adv

कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस को यह मालूम होना चाहिए कि वे सरकार का हिस्सा हैं. खुद निर्णय लेने के लिए सक्षम हैं. ओबीसी आरक्षण को लेकर उनके द्वारा किया जा रहा धरना बस एक दिखावा है. झारखंड में लोकतंत्र और संवैधानिक अधिकारों की हत्या हो रही है.

पिछले कुछ दिनों में लगातार कई ऐसी घटनाएं हुई हैं, जिसने राज्य की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किये हैं. पत्रकार बैजनाथ महतो के बाद राहुल पांडेय पर भी हमला हुआ.

इसे भी पढ़ें:वैक्सीनेशन की नई गाइडलाइंस जारी: दिव्यांगों और बुजुर्गों को घर के पास ही लगेगा टीका

लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर एक के बाद एक हमला होना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. झारखण्ड की छवि को धूमिल करने वाली ऐसी घटनाओं की जितनी भी निंदा की जाए, कम है.

सरकार राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को गंभीरता से ले. साथ ही असामाजिक तत्वों, अपराधियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई सुनिश्चित करे.

इससे पूर्व पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में बिनोद बाबू महतो को पार्टी की ओर से श्रद्धांजलि दी गयी. भगत ने इस मौके पर कहा कि हम सबके प्रेरणास्रोत, झारखंड की माटी के लाल स्व. बिनोद बिहारी महतो शोषितों, पीड़ितों व उपेक्षितों के मसीहा थे. उनकी लड़ाई के कारण ही हमें अलग राज्य मिला लेकिन उनके सपनों का झारखंड बनाने का सफर अभी अधूरा है.

इसे भी पढ़ें: त्योहारों को लेकर जारी गाइडलाइन का हो सख्ती से पालन, अभी थोड़ी सी लापरवाही से स्थिति हो सकती है विस्फोटकः हाइकोर्ट

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: