JharkhandLead NewsRanchi

AJSU पार्टी ने हेमंत सरकार पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, कहा- 1932 के खतियान पर नहीं बनायी स्थानीय नीति

♦27% आरक्षण पर भी दे रही धोखा

Ranchi : आजसू पार्टी ने राज्य सरकार पर जनता से वादाखिलाफी का आरोप लगाया है. 1932 के खतियान के आधार पर स्थानीय नीति लाने का बात कहनेवाली हेमंत सोरेन सरकार अब वादों से पलट गयी है. पार्टी की केंद्रीय समिति की बुधवार को पार्टी मुख्यालय में बैठक हुई. इसमें फैसला लिया गया कि अब सड़कों पर उतर कर आंदोलन किया जायेगा. बैठक के बाद प्रेस वार्ता में पार्टी के केंद्रीय प्रवक्ता देव शरण भगत ने कहा कि पिछड़ों को आरक्षण के मुद्दे पर चरणबद्ध तरीके से पार्टी आंदोलन करेगी. देशभर के सभी प्रकृति पूजकों को एक साथ लाने की मुहिम में पार्टी जुटेगी.

झारखंड विधानसभा की सीटों को बढ़ाये जाने के मसले पर भी पार्टी राष्ट्रपति, पीएम से लेकर चुनाव आयोग से मिलेगी. बैठक में मुख्य रूप से राज्य के वर्तमान राजनीतिक हालात, राज्य के ज्वलंत विषयों, संगठन के विस्तार और पार्टी के भावी कार्यक्रमों पर भी चर्चा की गयी. बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने की. इसमें सांसद सीपी चौधरी, विधायक लंबोदर महतो, पूर्व मंत्री रामचंद्र सहिस, उमाशंकर रजक सहित अन्य लोग भी शामिल थे.

इसे भी पढ़ें – रांची डीसी के निर्देश पर प्रतिबंधित पान मसाला व सिगरेट बेचनेवालों पर हुई कार्रवाई

खतियान को बेचने में लगी सरकार

देवशरण भगत के अनुसार चुनाव जीतने से पहले महागठबंधन की ओर से कहा गया था कि राज्य में नयी स्थानीय नीति बनायी जायेगी. इसके लिए 1932 के खतियान को आधार बनाया जायेगा. पर सत्ता में आने के बाद इस खतियान को ही बेचने में सरकार लग गयी है. पहली कैबिनेट में ही राज्य के पिछड़ा वर्ग के 27 फीसदी लोगों को आरक्षण का लाभ दिये जाने की घोषणा हुई थी. कई राज्यों में आबादी और मानकों के अनुरूप 27 फीसदी तक आऱक्षण दिया भी गया है. अब राज्य सरकार की इस वादाखिलाफी को लेकर चरणबद्ध तरीके से आंदोलन किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – जैविक और व्यावसायिक फार्मिंग से किसानों को मिलेगा लाभ, इस बार 20 हजार हेक्टेयर में होगी जैविक खेती

प्रकृति पूजकों को एक प्लेटफॉर्म पर लाने की मुहिम

झारखंड विधानसभा ने पिछले दिनों सरना धर्म कोड के मुद्दे पर प्रस्ताव पारित कर दिल्ली को भेज दिया है. इस संबंध में आजसू पार्टी देशभर के सभी प्रकृति पूजकों को एक प्लेटफॉर्म पर लायेगी ताकि इसका लाभ जनजाति समाज के लोगों को मिल सके. अलग-अलग राज्यों की सरकारों से भी इस संबंध में मदद ली जायेगी. राष्ट्रपति, पीएम से मिल कर उन्हें मेमोरेंडम दिया जायेगा. झारखंड विधानसभा की सीटों को बढ़ाये जाने को 2-2 बार प्रस्ताव केंद्र को दिया गया है. इस पर अब तक एक्शन नहीं लिया जा सका है. इसके लिए आजसू पार्टी पीएम, गृह मंत्री से लेकर चुनाव आयोग को स्मार पत्र देगी.

वृहत झारखंड पर काम

वृहत झारखंड बनाये जाने का काम अधूरा है. इसमें पश्चिम बंगाल के मिदनापुर, बांकुड़ा, ओड़िशा के मयूरभंज को भी शामिल किया जाना चाहिए था. पार्टी इस संबंध में इन जिलों में सम्मेलन करेगी. जनमत संग्रह कराया जायेगा. पार्टी का सांगठनिक ढांचा नये सिरे से गठित किया जायेगा. 50,000 से अधिक झारखंड आंदोलनकारी अपने हक के लिए तरस रहे हैं. उन्हें पेंशन नहीं मिल रहा, पार्टी इस पर आवाज उठायेगी.

इसे भी पढ़ें – धान की खरीदारी पर मंत्री रामेश्वर उरांव ने लगायी रोक, कहा- गीला धान खरीद कर सरकारी खजाने को नहीं पहुंचायेंगे नुकसान

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: