न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अजित पवार बोले- मैं NCP में हूं और पार्टी में ही रहूंगा, बहन सुप्रिया ने भी गले लगाकर कहा ‘ये उनका घर’

893

Mumbai: महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए पिछले सप्ताह भाजपा को समर्थन देने वाले एनसीपी नेता अजित पवार ने बुधवार को कहा कि वह अपनी पार्टी में बने रहेंगे और इसके बारे में भ्रम ‘‘पैदा करने’’ की कोई वजह नहीं है.

अजित पवार ने कहा कि अभी मेरे पास कहने के लिए कुछ नहीं है, मैं सही समय आने पर बोलूंगा. मैंने पहले भी कहा था कि मैं एनसीपी में हूं और मैं एनसीपी में ही रहूंगा. भ्रम पैदा करने की कोई वजह नहीं है. 

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection: आज यूपी के सीएम योगी, केंद्रीय मंत्री प्रसाद समेत कई दिग्गजों की चुनावी रैली

सुप्रीया सुले ने गले लगाकर किया स्वागत

इसी के साथ अब एक बार फिर से अजित पवार एनसीपी के खेमे में आ गये हैं. गौरतलब है कि अजित पवार एनसीपी छोड़कर बीजेपी के साथ चले गये थे और साथ मिलकर सरकार बनायी थी. अजित पवार ने उपमुख्यमंत्री का पद संभाला था. हांलाकि तीन दिनों में ही उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया और वापस एनसीपी में शामिल हो गये.

hotlips top

अजित पवार पार्टी में वापस आने के बाद बुधवार सुबह अजित पवार भी विधानसभा पहुंचे. यहीं एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने गले लगाकर उनका स्वागत किया. सुप्रिया सुले ने कहा कि ये उनका घर है और जिंदगी में कुछ खट्टा-मीठा चलता रहता है.

इसे भी पढ़ें- #INXMediaCase: तिहाड़ जेल में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम से मिले राहुल और प्रियंका

30 may to 1 june

अपने नेता से मुलाकात करना मेरा अधिकार: अजित पवार

अपने चाचा और राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के ‘सिल्वर ओक’ आवास पर मंगलवार देर रात जाने के बारे में अजित पवार ने कहा कि अपने नेता से मुलाकात करना मेरा अधिकार है.

पुणे की बारामती सीट से 1.65 लाख मतों के अंतर से विधानसभा चुनाव जीतने वाले राकांपा विधायक ने अपनी पार्टी और परिवार को पिछले शनिवार को उस समय अचंभे में डाल दिया था जब उन्होंने भाजपा से हाथ मिला लिया और वह देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार में उपमुख्यमंत्री बने.

इसके बाद उसी दिन एनसीपी ने उन्हें अपने विधायक दल के नेता पद से हटा दिया.  हालांकि वह पार्टी के सदस्य बने रहे. अजित पवार ने मंगलवार को ‘‘निजी वजहों’’ का हवाला देते हुए उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. इसके बाद फडणवीस ने भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया जिससे भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार गिर गयी. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like