National

#AjitDoval ने कहा, समुद्र, अंतरिक्ष और साइबर क्षेत्र में अवसरों के साथ चुनौतियां भी मिलेंगी

Panaji  : आने वाले वक्त में समुद्र, अंतरिक्ष और साइबर ऐसे तीन क्षेत्र होंगे, जिनमें राष्ट्रों को सर्वाधिक अवसरों के साथ साथ चुनौतियां भी मिलेंगी.  यह बात राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने शुक्रवार को गोवा मेरिटाइम कॉन्क्वेल में कही.  अजीत डोभाल ने कहा कि भोगौलिक रूप से भारत कई मायनों में लाभ की स्थिति में हैं. उन्होंने अपने नजदीकी और दूरस्थ पड़ोसियों से कहा कि समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में सभी को मिलकर काम करना चाहिए. बता दें कि पणजी में गुरुवार को गोवा मेरिटाइम कॉन्क्वेल शुरू हुआ.

इसे भी पढ़ें : मध्य प्रदेशः बापू भवन से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अस्थि अवशेष चोरी, तस्वीर पर लिखे अपमानजनक शब्द

सम्मेलन में दस देशों के नौसेना प्रमुख शामिल हुए

Catalyst IAS
ram janam hospital

इस तीन दिवसीय कार्यक्रम का उद्देश्य हिंद महासागर क्षेत्र के तटीय राष्ट्रों की साझा सागर प्राथमिकताओं की पहचान करना है. डोभाल इसी कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. यह सम्मेलन दूसरी बार हो रहा है. इस सम्मेलन में दस देशों के नौसेना प्रमुख शामिल हुए है. इन देशों में श्रीलंका, मालदीव, बांग्लादेश, म्यामां, थाइलैंड, इंडोनेशिया, मॉरिशस, सेशल्स, सिंगापुर और मलेशिया शामिल हैं. डोभाल ने अपने संबोधन में कहा, आने वाले वक्त में समुद्र, अंतरिक्ष और साइबर ऐसे तीन क्षेत्र होंगे, जो सबसे बड़े अवसर देंगे लेकिन ये ही वह तीन क्षेत्र होंगे, जहां से सबसे गंभीर खतरे भी पैदा होंगे.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें : NewsWing Impact: #JPSC ने पहले रद्द किया असिस्टेंट इंजीनियर का विज्ञापन, फिर 637 पदों के साथ निकाली नियुक्ति

दिल्ली अपने पड़ोसियों के लिए उपयोगी बनना चाहती है

उन्होंने कहा कि देशों के समक्ष चुनौती यह है कि खतरों को किस तरह से कम से कम किया जा सके और अधिक से अधिक अवसरों का लाभ उठाया जा सके. डोभाल ने कहा, यही भावना हमें साथ लाती है.  यह भावना है कि हम किस तरह अपनी शक्तियों को पहचानें और उन्हें साथ लायें. सम्मेलन में शिरकत करने वाले राष्ट्रों के संदर्भ में उन्होंने कहा, हम महत्वाकांक्षी देश हैं, जो क्षेत्र में शांति देखना चाहते हैं और देशों को तरक्की और विकास करते देखना चाहते हैं.

डोभाल ने कार्यक्रम में शामिल देशों को क्षेत्रीय समुद्री रणनीतियों में एक दूसरे का पूरक बताया और कहा, बहुत कुछ किये जाने की जरूरत है लेकिन शायद हममें से कोई भी अकेला अपने दम पर उन्हें करने में सक्षम नहीं है, मगर हम मिलकर ये काम करने में सक्षम हैंय उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि इन देशों में से किसी का भी एक दूसरे के साथ कूटनीतिक संघर्ष नहीं है. डोभाल ने कहा कि नयी दिल्ली अपने पड़ोसियों के लिए उपयोगी बनना चाहती है.

इसे भी पढ़ें : #PMC_Bank छह स्थानों पर ED का छापा, धनशोधन के लगाये आरोप

Related Articles

Back to top button