न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शाह पर तंज कसना अजय आलोक को पड़ा भारी, जेडीयू प्रवक्ता के पद से दिया इस्तीफा

कहा- सीएम नीतीश कुमार को नहीं करना चाहता शर्मिंदा

617

Patna: आम चुनाव के बाद जनता दल यूनाइटेड को एक झटका लगा है. पार्टी के तेजतर्रार नेता और प्रवक्ता अजय आलोक ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. अपने ट्विटर हैंडल पर इस बात की जानकारी उन्होंने दी.

‘नीतीश कुमार को शर्मिंदा नहीं करना चाहता’

अजय आलोक ने ट्विटर पर लिखा कि उनकी विचारधारा पार्टी की विचारधारा से मेल नहीं खा रही है, जिसकी वजह से उन्होंने पार्टी के प्रवक्ता पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है.

इसे भी पढ़ेंःSCO समिटः आमने-सामने हुये पीएम मोदी-इमरान लेकिन नहीं हुआ दुआ-सलाम

साथ ही अजय आलोक ने मुख्यमंत्री और जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार को धन्यवाद देते हुए कहा कि वो उनके लिए शर्मिंदगी का कारण नहीं बनना चाहते थे, इसीलिए उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दिया है.

शाह पर निशाना साधना पड़ा भारी !

Related Posts

विधायक अनंत सिंह घर से  एके 47 रायफल बरामद, एफआईआर दर्ज, मांझी बोले, फंसाया गया है

अनंत सिंह  के  समर्थन में  राजद,  कांग्रेस और जन अधिकार पार्टी के बाद अब बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी भी उतर आये है.

SMILE

भले ही अजय आलोक विचारों के मेल नहीं खाने की बात कर रहे हो. लेकिन राजनीतिक गलियारे में चर्चा यही है कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधने के कारण उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा हैं.

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली तक पहुंची प. बंगाल के हड़ताली डॉक्टरों की गूंज, मरीज हलकान

उल्लेखनीय है कि अजय आलोक ने बधुवार को अमित शाह पर तंज कसा था, और उसके एकदिन बाद ही उनके इस्तीफे की बात सामने आयी है. माना जा रहा है कि शाह पर तंज कसने के कारण बीजेपी और जदयू के रिश्ते में खटास आ गयी है.

क्या कहा था अजय आलोक ने

दरअसल, बुधवार को अजय आलोक ने अमित शाह के कामकाज पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया था, “सिर्फ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कोसने से काम नहीं चलेगा अपने तंत्र को कसने की जरूरत है, खासकर तब जब अमित शाह हमारे गृह मंत्री हैं। अवैध घुसपैठ पे रोक अति आवश्यक  है। अब नहीं होगा तो कब होगा.“

उन्होंने पश्चिम बंगाल के अंदर सीमा पर बीएसएफ की मदद से बांग्लादेशी घुसपैठियों की धड़ल्ले से एंट्री को लेकर सवाल खड़े किए थे. अजय आलोक ने आरोप लगाया था कि सीमा पर बीएसएफ के अधिकारी 5000 रुपये लेकर बांग्लादेशी घुसपैठियों को अवैध तरीके से भारत में प्रवेश करवाते हैं.

इसे भी पढ़ेंःगुमला में नक्सलियों का तांडवः पुलिस मुखबिरी के आरोप में व्यापारी की अगवा कर हत्या, ट्रक भी फूंका

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: