न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची की ‘निर्भया’ को इंसाफ देने की मांग के साथ AISF ने निकाला कैंडल मार्च

54

Ranchi : ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन, रांची जिला ने रविवार की शाम पांच बजे अल्बर्ट एक्का चौक से सर्जना चौक तक कैंडल मार्च निकाला. 16 दिसंबर 2016 को बूटी बस्ती में हुए बहुचर्चित निर्भया हत्याकांड के दो साल बीत जाने के बाद भी इंसाफ नहीं मिलने पर अल्बर्ट एक्का चौक में जन श्रद्धांजलि का आयोजन मोमबत्तियां जलाकर किया गया. इस मौके पर सदस्यों ने दिल्ली की निर्भया को भी श्रद्धांजलि दी. जन श्रधांजलि सभा को संबोधित करते हुए ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष मेहुल मृगेंद्र ने कहा कि महिलाओं और बच्चों पर अपराध बढ़ रहे हैं.

सिर्फ आश्वासन दे रही पुलिस

मेहुल मगेंद्र ने कहा कि रांची की निर्भया की हत्या की घटना के दो साल बाद भी सरकार और पुलिस सिर्फ आश्वासन दे रही है. उन्होंने कहा कि दो साल से निर्भया को इंसाफ दिलाने के लिए एआईएसएफ ने निरंतर संघर्ष किया है और आगे भी करेगा. एआईएसएफ के प्रदेश सचिव लोकेश आनंद ने कहा कि अगर दोषियों को पकड़ा नहीं गया, तो उनका मनोबल बढ़ेगा और भविष्य में भी वे ऐसी घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं. एआईएसएफ के जिला अध्यक्ष विष्णु सिंह ने कहा कि यह बहुत चिंता की बात है कि इस मामले में अभी तक पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है. बूटी बस्ती में रहकर बीटेक की पढ़ाई करनेवाली छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गयी थी, लेकिन अब तक इस हत्‍याकांड का खुलासा न तो रांची पुलिस, न सीआईडी और न  ही सीबीआई ही कर पायी है. हमें निर्भया के लिए इंसाफ चाहिए.

आश्वासन नहीं, हमें न्याय चाहिए : मनीषा सिंह

मौके पर एआईएसएफ की मनीषा सिंह ने कहा कि महिलाओं पर बढ़ रहे अपराध शर्मनाक हैं. आश्वाशन नहीं, हमें न्याय चाहिए. सरकार और प्रशासन झूठी है. आज देश में नारी सुरक्षित नहीं है. पुलिस और सरकार महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचारों को लेकर विफल है. इस मौके पर एआईएसएफ के प्रदेश अध्यक्ष मेहुल मृगेंद्र, प्रदेश सचिव लोकेश आनंद, रांची जिला अध्यक्ष विष्णु सिंह, अनीश अंशुल, अमन कुमार, कौशल सिंह, मनीषा सिंह, जूही कुमारी, अनिकेत चौधरी, संदेश सिंह, यश प्रकाश, कौशिक चौहान, अंकित बाखला और छात्र-छात्राएं उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- कोबरा बटालियन के साथ घूमता है 10 लाख का वांटेड उग्रवादी पप्पू लोहरा व 5 लाख का इनामी सुशील उरांव…

इसे भी पढ़ें- डायलिसिस के लिए रिम्स में वसूले जा रहे हैं पैसे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: