न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एयरसेल-मैक्सिस मनी लॉन्ड्रिंग केस : पी चिदंबरम सहित नौ लोगों के खिलाफ ईडी ने चार्जशीट पेश की

आखिरकार कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम समेत नौ लोगों के खिलाफ एयरसेल-मैक्सिस मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी.

21

 NewDelhi :  आखिरकार कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम समेत नौ लोगों के खिलाफ एयरसेल-मैक्सिस मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी. बता दें कि  ईडी ने एयरसेल-मैक्सिस मनी लॉन्ड्रिंग मामले में चिदंबरम पर विदेशी निवेशकों के साथ साजिश रचकर फॉरेन इन्‍वेस्‍टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी देने का आरोप मढ़ा है.  बता दें कि चार्जशीट में कहा गया है कि नियमों की अनदेखी कर एफआईपीबी की मंजूरी दी गयी.  पटियाला हाउस कोर्ट में अगली सुनवाई 26 नवंबर को होगी.  इस मामले में जून में ईडी ने पी चिदंबरम के बेटे कार्ती चिदंबरम को आरोपी बनाया था.  पांच जून को एजेंसी ने पूछताछ के लिए उसे बुलाया था.  जानकारी दी गयी है कि चिदंबरम के अलावा चार्जशीट में एस भास्करन (कार्ती का सीए), वी श्रीनिवासन (एयरसेल के सीईओ), ए रल्फ मार्शल, एस्ट्रो ऑल एशिया नेटवर्क मलेशिया, एयरसेल टेलिवेन्चर्स लिमिटेड समेत नौ लोग शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : आलोक वर्मा के पास राफेल मामले की फाइल होने की बात से सीबीआई का इनकार

 चिदंबरम  की गिरफ्तारी पर लगी रोक 29 नवंबर तक बढ़ी

hosp1

दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर लगी रोक 29 नवंबर तक बढ़ा दी गयी है.  बता दें कि हाईकोर्ट ने पी चिदंबरम की याचिका पर सुनवाई की, जिसमें उन्होंने ईडी और सीबीआई द्वारा उनके खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग की थी. जान लें कि सीबीआई ने चिदंबरम के खिलाफ 15 मई 2017 को मामला दर्ज किया था.  ईडी की जांच भी चल रही है. आरोप हैं कि चिदंबरम ने 2006 में वित्त मंत्री रहते एफडीआई के लिए नियमों की अनदेखी कर एयरसेल-मैक्सिस कंपनी को लाभ पहुंचाया. ईडी का यह केस एफआईपीबी से जुड़ा है.  एयरसेल-मैक्सिस डील को पी चिदंबरम ने वित्त मंत्री के रूप में 2006 में मंजूरी दी थी. ईडी का कहना है कि पी चिदंबरम को 600 करोड़ रुपए तक के प्रोजेक्‍ट प्रपोजल्‍स को मंजूरी देने का अधिकार था.  इससे ऊपर के प्रोजेक्‍ट के लिए कैबिनेट कमेटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स की मंजूरी की जरूरत थी. मामला 3,500 करोड़ रुपए की एफडीआई की मंजूरी का था, बावजूद इसकेएयरसेल-मैक्सिस एफडीआई मामले में चिदंबरम ने मंजूरी प्रदान कर दी.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: