BusinessNational

#AirIndia कर्ज के बोझ तले दबी, 10 लाख से अधिक बकाये वाली सरकारी कंपनियों को उधार  टिकट देने से  इनकार

NewDelhi : सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया भारी बोझ तले दबी हुई है. खबर है कि फंड की कमी से जूझ रहे एयर इंडिया ने अब  सरकारी कंपनियों को उधार  टिकट देना बंद कर दिया है.  एयर इंडिया  ने उन सरकारी एजेंसियों के अधिकारियों को टिकट जारी करना बंद कर दिया है, जिनपर 10 लाख रुपये से अधिक बकाया है.  एयरलाइंस के सूत्रों के अनुसार विभिन्न सरकारी एजेंसियों ने 268 करोड़ रुपये के टिकट एयर इंडिया से उधार लिये हैं और यह रकम बकाया है.

इसे भी पढ़ें : #DetentionCente : राहुल के ट्वीट पर भाजपा ने कहा, किसी भी विषय पर राहुल गांधी को ज्ञान नहीं है, पर हर विषय पर बोलना है

एयर इंडिया ने पहली बार इस तरह का कदम उठाया

दशकों के इतिहास में एयर इंडिया ने पहली बार इस तरह का कदम उठाया है. कंपनी ने सरकारी डिफॉल्टर्स और उनके बकाये की लिस्ट बनाई है, जिसमें सीबीआई, आईबी, ईडी, कस्टम कमिश्नर्स, सेंट्रल लेबर इंस्टिट्यूट, इंडियन ऑडिट बोर्ड, कंट्रोलर ऑफ डिफेंस अकाउंट्स और बॉर्डर सिक्यॉरिटी फोर्स के नाम शामिल हैं.  सरकार और इसकी एजेंसियों के लिए आधाकारिक दौरे के लिए AI पहली प्राथमिकता है और प्राइवेट कंपनियों के टिकट तभी खरीदे जा सकते हैं, जब उस गंतव्य के लिए AI की सेवा उपलब्ध नहीं है.  हालांकि, दुर्भाग्य से ये सरकारी अधिकारी पेमेंट के मामले में सक्रियता नहीं दिखाते हैं.

advt

इसे भी पढ़ें : गृह मंत्री #AmitShah ने कहा, दिल्‍ली में अशांति के लिए टुकड़े-टुकड़े गैंग जिम्‍मेदार, जनता सबक सिखाये…

लोक सभा को इसमें छूट दी गयी है

पिछले महीने एयर इंडिया के फाइनैंस डिपार्टमेंट ने प्रत्येक क्षेत्र/स्टेशन से सरकारी बकाये का ब्योरा लेना शुरू किया.  एयरलाइन के एक अधिकारी ने कहा, पिछले कुछ सप्ताह में 10 लाख से अधिक बकायेदारों को कैश ऐंड कैरी पर रखा गया है.  उन्हें पेमेंट देने पर ही टिकट दिया जा रहा है.  एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया, सिविल एविएशन मिनिस्ट्री और लोक सभा को इसमें छूट दी गयी है. ।

एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, पिछले कुछ सप्ताह में हमने करीब 50 लाख रुपये की वसूली की है.  इन एजेंसियों से बकाया मिलने में काफी देरी होती है और हम वास्तव में पेमेंट पाने के लिए सख्त रवैया नहीं इस्तेमाल कर सकते हैं.  पहली बार एयर इंडिया ने गवर्नमेंट डिफॉल्टर्स की लिस्ट बनाई है और इसपर काम शुरू हो चुका है.

एयरलाइन के प्रवक्ता का टिप्पणी से इनकार

TOI के अनुसार एयर इंडिया वेस्टर्न रीजन के द्वारा तैयार लिस्ट एक्सेस की है,  जहां 22.8 करोड़ रुपये बकाया हैं. इसमें सबसे अधिक 5.4 करोड़ रुपये मुंबई स्थित कंट्रोलर ऑफ डिफेंस अकाउंट्स ऑफिस के पास बकाया है.  इसके बाद बोर्ड ऑफ रेडिएशन ऐंड आइसोटोप टेक साइंटिफिक ऑफिसर-डी को 2.4 करोड़ रुपये चुकाने हैं. लोक सभा एक्जिक्युटिव ऑफिसर एमएसए के पास 2.2 करोड़ रुपये उधार हैं.  CBI को 95 लाख रुपये देने हैं.  ईडी ने 12.8 लाख रुपये के बिल लंबित रखे हैं.  सेंट्रल रेलवे पर 36 लाख रुपये उधार हैं तो वेस्टर्न रेलवे के पास 4.8 लाख रुपये बकाया हैं.   एयरलाइन के प्रवक्ता ने इस पर टिप्पणी से इनकार किया है.

adv

इसे भी पढ़ें : #CAAProtest : मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने कहा, यूपी में आतंक का राज, सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी जांच जरूरी

advt
Advertisement

5 Comments

  1. I love looking through a post that can make people think. Also, many thanks for permitting me to comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button