Court NewsLead NewsNational

वायु प्रदूषण: दिल्ली में स्कूल खोलने पर SC की फटकार, कहा- बड़े लोग वर्क फ्राम होम हैं और बच्चों को जाना पड़ता है स्कूल

17 वर्षीय छात्र आदित्य दुबे की तरफ से वायु प्रदूषण को लेकर दायर की गयी है याचिका

New Delhi : राजधानी दिल्ली में वायु प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई. कोर्ट ने स्कूल खोले जाने पर दिल्ली सरकार को फटकार लगाई है. साथ ही अदालत ने सरकार से सीएनजी बसों को लेकर भी सवाल किया.

24 घंटे की समय सीमा दी

इससे पहले हुई सुनवाई में शीर्ष अदालत ने नियमों के अनुपालन के लिए टास्क फोर्स गठित करने की बात कही थी. अदालत दिल्ली के 17 वर्षीय छात्र आदित्य दुबे की तरफ से दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है.

Catalyst IAS
SIP abacus

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार को वायु प्रदूषण नियंत्रण उपायों के कार्यान्वयन के लिए एक गंभीर योजना पर कार्य करने के लिए के लिए 24 घंटे की समय सीमा दी है.

MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें:भारत पहुंचा कोविड-19 का नया वैरिएंट ओमिक्रोन, जानें क्या कहा स्वास्थ्य मंत्रालय ने

क्या कहा कोर्ट ने

दिल्ली सरकार की तरफ से पेश हुए वकील एएम सिंघवी से मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना ने कहा कि हम इसे आक्रामक रूप से देख रहे हैं और आपने हमें बताया था कि स्कूल बंद हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. 3 से 4 साल के बच्चों को स्कूल भेजा जा रहा है. सीजेआई ने कहा कि आज के अखबार में देखिए बच्चे स्कूल जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर आप आदेश चाहते हैं, तो हम किसी को नियुक्त कर सकते हैं.

जस्टिस रमन्ना ने कहा कि बड़ों को घर से काम करना पड़ता है और बच्चों को स्कूल जाना पड़ता है. जस्टिस सूर्यकांत ने भी कहा कि किसी भी चीज का पालन नहीं हो रहा है.

सुनवाई के दौरान जस्टिस सूर्यकांत ने युवाओं के प्रदर्शन को लेकर भी सरकार की फटकार लगाई. दरअसल, दिल्ली सरकार की ओर से कुछ युवाओं ने सड़क के किनारे खड़े होकर रेड लाइट पर ‘कार का इंजन बंद’ करने का संदेश दिया था. इन पोस्टर्स पर अरविंद केजरीवाल की भी फोटो थी.

इसे भी पढ़ें:सरकार से शेयर करें आदर्श बजट का आइडिया, ‘हमर अपन बजट’ एप का करें इस्तेमाल

Related Articles

Back to top button