न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार के निर्देश पर एयर इंडिया ने प्रमोशन और नयी नियुक्तियां पर लगायी रोक

573

New Delhi: राष्ट्रीय विमानन कंपनी एयर इंडिया ने अपने कर्मचारियों की पदोन्नति और नये कर्मचारियों की नियुक्ति रोक दी है.

खबर है कि केंद्र सरकार के सख्त निर्देश पर ये कदम उठाया गया है. निजीकरण से पहले सरकार ने एयर इंडिया को ये कदम उठाने के निर्देश दिये हैं.

सरकार द्वारा एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया जल्द शुरू किए जाने की उम्मीद है. एयर इंडिया पर 50,000 करोड़ रुपये से अधिक के कर्ज का बोझ है.

इसे भी पढ़ेंःकर्नाटकः कुमारस्वामी सरकार का तय होगा भविष्य, फ्लोर टेस्ट से पहले सीएम की बागियों से लौटने की अपील

एक अधिकारिक सूत्रों ने कहा कि विनिवेश प्रक्रिया के लिए एयरलाइन के 15 जुलाई तक बही खाते को बंद कर दिया गया है. बोलियां मंगाने के लिए इन्हीं वित्तीय ब्यौरों का इस्तेमाल किया जाएगा.

सूत्रों की मानें तो, ‘यह निर्देश लगभग एक हफ्ते पहले आया है. इसके अनुसार निजीकरण के प्रस्ताव को देखते हुए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जाना है. और नियुक्तियां और पदोन्नति भी रोक दी जायेंगी.’ यह निर्देश निवेश और जन संपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) ने दिया है.

एयर इंडिया ने साधी चुप्पी

इस बारे में एयर इंडिया से तत्काल प्रतिक्रिया नहीं मिली है. नागर विमानन सचिव प्रदीप सिंह खरोला से भी इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं मिल पाई है.

Related Posts

देश को दानव भूमि बना रहे मोदी,  तारीफ करने वाले कांग्रेसियों को  बाहर निकालें :  केके तिवारी

 केके तिवारी ने यह बयान  कांग्रेस नेता जयराम रमेश, शशि थरूर और अभिषेक सिंघवी द्वारा मोदी को  खलनायक की तरह पेश करने को गलत करार दिये जाने को लेकर दिया है.

SMILE

एयरलाइन के स्थानीय कर्मचारियों की संख्या करीब 10,000 है. फिलहाल एयर इंडिया का प्रतिदिन का राजस्व 15 करोड़ रुपये है. एयर इंडिया पर कुल लगभग 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज है.

वित्त वर्ष 2018-19 में विमानन कंपनी को 7,600 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. सरकार ने 2018 में एयर इंडिया की 76 प्रतिशत हिस्सेदारी के विनिवेश का प्रयास किया था, लेकिन यह सफल नहीं हो पाया था.

इसे भी पढ़ेंःपलामू : डायरिया से बच्चे की मौत, माता-पिता व भाई गंभीर, गांव में दर्जन भर लोग पीड़ित

वित्तीय लेनदेन सलाहकार ईवाई ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि सरकार द्वारा अपने पास 24 प्रतिशत हिस्सेदारी और अधिकार रखने के फैसले और ऊंचे कर्ज के बोझ की वजह से विनिवेश प्रक्रिया विफल रही.

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने तीन जुलाई को राज्यसभा को बताया कि सरकार एयर इंडिया बचाने के लिए उसका निजीकरण करना होगा.

उन्होंने कहा था कि हिस्सेदारी बिक्री से पहले सरकार एयरलाइन को परिचालन की दृष्टि से अधिक व्यावहारिक बनाना चाहती है.

इसे भी पढ़ेंः रिम्स में हर रस्म के लगते हैं पैसे…शेविंग के 150, लाश पहुंचाने के 300 और भी बहुत कुछ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: