न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वायुसेना दिवस 2018: 86 वें स्थापना दिवस पर जांबाजों ने दिखायी आसमानी ताकत

150

Ghaziabad: भारत देश की शान कही जाने वाली एयफोर्स ने सोमवार 8 सितंबर को 86वां ‘वायुसेना दिवस’ मनाया बड़े ही धूमधाम से मनाया. गाजियाबाद के हिंडन एयरफोर्स स्टेशन पर वायुसेना का कार्यक्रम सुबह 8 बजे से शुरू हुआ. इस कार्यक्रम में वायुसेना के जवान अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रहे थे. कार्यक्रम में 44 जांबाज अधिकारी और 258 वायुसेना के जवानों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया. वायुसेना के जांबाज जमीन से लेकर आसमान तक अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रहे थे. वायुसेना के 86वें स्थापना दिवस के मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय वायुसेना के कार्यों की सराहना करते हुए बधाई दी है. पीएम मोदी ने ट्वीट किया- महान देश भारतीय वायु सेना के जवानों और उनके परिवार को सलाम करता है. वे हमारे आकाश को सुरक्षित रखते हैं और किसी भी आपदा के वक्त मानवता की सेवा करने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं.’

इसे भी पढ़ें: गुजरात से बिहार-यूपी वासियों का पलायन : भाजपा-जदयू का कांग्रेस पर निशाना, अल्पेश की सेना पर आरोप

वायुसेना के एमआई 17 हेलिकॉप्टर्स ने दी सलामी

कार्यक्रम की शुरुआत में आकाशगंगा टीम के पैरा जंपर्स 8000 फीट की ऊंचाई से उतरे, जिसे देखकर लोग भी दंग रह गए. परेड ग्राउंड से जाते आकाशगंगा टीम के सदस्यों का दर्शकों ने तालियां बजाकर अभिनंदन किया. बता दें कि आकाशगंगा टीम का नारा है- ‘छतरी माता की जय’. वायुसेना दिवस के मौके पर परेड ग्राउंड पर लगे पर्दे पर वायुसेना की ताकत गगन शक्ति का परिचय कराया गया. गगन शक्ति इसी साल किए गए युद्ध अभ्यास में शामिल हुआ था. इस दौरान एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ को वायुसेना के एमआई 17 हेलिकॉप्टर्स ने सलामी भी दी. समारोह में वायुसेना, थल सेना और जल सेना के प्रमुख बतौर मुख्य अतिथि शामिल हैं. वहीं वायुसेना के पश्चिम जोन के एयर मार्शल ने परेड का निरीक्षण किया. हिंडन एयर फोर्स स्टेशन में वायुसेना दिवस के समारोह में पूर्व क्रिकेटर व ग्रुप कैप्टन सचिन तेंदुलकर भी पहुंच चुके हैं. वायुसेना दिवस समारोह की अग्रिम पंक्ति में बैठे ग्रुप कैप्टन सचिन तेंदुलकर ने आर्मी चीफ विपिन रावत से बातचीत भी की. फ्लाइट लेफ्टिनेंट अंगद की अगुवाई में परेड ग्राउंड निशान टोली पहुंची तो सभी वायुसेना के जवानों ने सेल्यूट कर अभिवादन किया.

इसे भी पढ़ें: बैंकों और डाकघरों में आधार नामांकन का काम चलता रहेगा : यूआईडीएआई

तीनों सेना के प्रमुख बतौर मुख्य अतिथि हुए शामिल

समारोह में कई देशों से आने वाले राजनयिक भारतीय वायुसेना की ताकत को करीब से देखा. हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर डकोटा मालवाहक विमान ने उड़ान भरी. साथ ही निशान टोली की कमान महिला फ्लाइंग लेफ्टिनेंट पी. राव संभालती नजर आ रही थी. वायुसेना का हरक्यूलिस, ग्लोबमास्टर सी-17, मिराज, सारंग और सूर्य किरण टीम हैरतअंगेज करतब कर रोमांचित कर दिया. रोहिणी और स्पाइडर रडार ने भारत की ताकत का एहसास कराया. वायुसेना के सबसे आधुनिक कमांडो गरुड़ की टीम ने भी अपने शौर्य व ताकत का प्रदर्शन किया. एयर वॉरियर की टीम और टीम सारंग के साथ ही विंटेज विमान टाइगर मौथ ने भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया.

इसे भी पढ़ें: चिरुडीह गोलीकांड के पीड़ितों में जगी न्याय की आसः HC ने सरकार को त्वरित जांच कर कार्रवाई का दिया आदेश

कोविंद, मोदी, राहुल ने 86वें वायुसेना दिवस की बधाई दी

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को 86वें वायुसेना दिवस की बधाई दी. राष्ट्रपति ने ट्वीट कर कहा, “हम गर्व से वायुसेना के हमारे वीर योद्धाओं, सेवानिवृत्त सैनिकों और परिवारों का सम्मान करते हैं. वे साहस और प्रतिबद्धता के साथ हमारी रक्षा करते हैं. वायुसेना के बहादुर योद्धाओं का जोश, उत्साह और दृढ़ता हर भारतीय के लिए गर्व का स्रोत है.”

मोदी ने ट्विटर पर आईएएफ जेट का वीडियो साझा करते हुए कहा, “वायुसेना दिवस पर आभारी देश हमारे वायुसेना के बहादुर जाबांजों और उनके परिवारों को सलाम करता है. वे हमारी रक्षा करते हैं और आपदाओं के समय मानवता की सेवा के लिए सबसे आगे खड़े रहते हैं. भारतीय वायुसेना पर गर्व है.”

palamu_12

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने वायुसेना के जवानों की बहादुरी की सराहना करते हुए कहा कि उनकी प्रतिबद्धता सभी भारतीयों के लिए प्रेरणा है.

इसे भी पढ़ें: गुजरात में हिंदी भाषियों पर हमले : बोओगे बबूल तो काटोगे क्या ?

केरल के मुख्यमंत्री ने वायुसेना को दी बधाई

वहीं केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने भारतीय वायुसेना के स्थापना दिवस पर वायुसेना द्वारा केरल में बाढ़ के दौरान किय गए राहत कार्यों के लिए धन्यवाद दिया है. वायुसेना केवल दुश्मनों से देश की रक्षा नहीं करती है, बल्कि जब कभी भी देश पर संकट आता है तो वायुसेना हमेशा मदद के लिए तैयार रहती है. पिछले दिनों जब केरल में बाढ़ ने भारी तबाही मचाई थी. उस समय एयरफोर्स ने बड़े पैमाने पर राहत ऑपरेशन चलाकर बाढ़ की वजह घर की छतों पर फंसे लोगों को सकुशल सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया था. भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टरों ने राहत सामग्री, दवाएं, राशन और खाने और पीने की चीज़े बाढ़ में फंसे लोगों तक पहुंचाई थी.

इसे भी पढ़ें: 2019 लोकसभा चुनाव : पीएम पद पर शरद पवार की नजर, मोदी चूके तो लग सकती है लॉटरी

भारतीय वायुसेना के लिए गौरव का दिन, जानें IAF की ताकत

भारतीय वायुसेना का गठन साल 1932 में किया गया था. पहले इसे रॉयल इंडियन एयर फोर्स के नाम से जाना जाता था. आजादी के बाद 1950 में इसका नाम बदलकर इंडियन एयरफोर्स रखा गया. ताकत की बात करें तो भारत के पास कुल 2185 एयरक्राफ्ट मौजूद हैं. जिसमें की सभी तरह के विमान मौजूद हैं. भारतीय वायुसेना दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है.

भारत के पास कुल 720 हेलीकाप्टर हैं. जिनमें से 15 लड़ाकू हेलीकॉप्टर हैं. राहत और बचाव कार्य के अलावा बाकी अन्य जगह भी इनकी मदद ली जाती है. फाइटर जेट की फेहरिस्त में सुखोई, मिराज, मिग-29, मिग-27, मिग-21 बिसन और जैगुआर जैसे नाम शामिल हैं. भारत के पास Mi-25/Mi-35, MI-26, MI-17V5, चेतक और चीता जैसे ताकतवर हेलीकाप्टर मौजूद है. सिर्फ अमेरिका, चीन और रूस के पास भारत से बड़ी वायुसेना है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: