Main SliderNational

चीन को वायुसेना प्रमुख की दो टूकः LAC पर हर हरकत का जवाब देने के लिए हम तैयार और तैनात

हैदरबाद में वायु सेना एकेडमी में हुई पासिंग आउट परेड में शामिल हुए वायुसेना प्रमुख

विज्ञापन

Hydrabad: गलवान घाटी को लेकर चीन से तल्ख हुए रिश्ते और 20 जवानों की शहादत के बाद भारतीय सेना पूरी तरह से मुस्तैद है. वहीं चीन से सीमा विवाद के बीच वायसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने बड़े ही साफ लहजे में कहा कि एलएसी पर हम हर स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार और तैनात हैं.

इसे भी पढ़ेंःदेश में Corona की स्पीड तेज: एक दिन में रिकॉर्ड 14,516 नये केस, 375 की मौत

हम पूरी तरह से तैयार और तैनात

LAC पर हिंसक झड़प को लेकर चीन से तनाव के बीच वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया शनिवार को एकेडमी फॉर कम्पाइनड ग्रेजुएशन परेड के लिए हैदराबाद पहुंचे. वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल ने पासिंग आउट परेड के दौरान वायुसेना के जवानों को संबोधित किया.  उन्होंने कहा कि वायुसेना लक्ष्य को पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्पित है और वह गलवान में शूरवीरों के बलिदान को कभी व्यर्थ नहीं जाने देगी. लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर छोटी सी सूचना पर हम हालात को संभालने के लिए तैयार हैं.

advt

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि यह स्पष्ट होना चाहिए कि हम पूरी तरह तैयार हैं और किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के सही जगह तैनात हैं. हमें स्थिति के बारे में पता है और हमने आवश्यक कार्रवाई की है. लेह में वायु सेना तैनात है.

adv

चीनी सौनिकों के साथ झड़प के दौरान हमारे सैनिकों की वीरता ने किसी भी कीमत पर अपने देश की संप्रभुता को सुरक्षित रखने के संकल्प को दर्शाया है. जवानों को संबोधित करते हुए एयर चीफ मार्शल ने कहा कि मैं देश को विश्वास दिलाता हूं कि हम स्थिति से निपटने के लिए दृढ़ हैं.

अभिभावक नहीं हो पाये शामिल

बता दें कि हैदराबाद में वायुसेना की पासिंग आउट परेड में चीन के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए सेना के 20 जवानों को श्रद्धांजलि दी गई.

इस पासिंग आउट परेड के साथ ही भारतीय वायुसेना को 123 जाबांज मिले हैं जिनमें 19 महिला अफसर शामिल हैं. इस दौरान वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने पाउसिंग आउट परेड की सलामी ली. वायुसेना एकेडमी से इस बार तट रक्षक बल, नौसेना और वियतनामी सेना के जनावों ने भी ग्रेजुएशन हासिल किया है. वहीं कोरोना संकट के कारण इतिहास में यह पहली बार है जब किसी पासिंग आउट परेड में कैडेट्स के माता-पिता, अभिभावक शामिल नहीं हो पाए हैं.

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button