Corona_UpdatesHEALTHLead NewsNational

AIIMS के निदेशक बोले, कोरोना के प्रोपर इलाज में दवाओं की टाईमिंग सही हो, Remedisivir जादुई दवा नहीं

एंटी-वायरल दवाइयों के नहीं होने के कारण करना पड़ रहा है रेमडेसिविर का इस्तेमाल

New Delhi : देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने सोमवार को कहा कि पिछले एक साल में कोविड मैनेजमेंट के जरिए हमने दो अहम बातें… दवा और दवाओं के लिए समय… सीखी हैं. उन्होंने कहा, ‘अगर आप मरीजों को बहुत जल्दी या फिर बहुत देरी से दवाईयां देते हैं, तो इसका असर घातक हो सकता है.

आपने यदि पहले दिन ही उसे दवाओं का कॉकटेल दे दिया, तो इससे मरीज की मौत हो सकती है या फिर कई गुना हानिकारक हो सकता है.’

advt

इसे भी पढ़ें :Self Lockdown के लिए सांसदों से लेकर सिविल सोसाइटी ने उठायी आवाज, कारोबारियों ने शुरू की सेल्फ लॉकडाउन की पहल

कोरोना के इलाज में कुछ हद तक कारगर मानी जा रही रेमडेसिविर को लेकर एम्स निदेशक ने कहा, ‘यह समझना बेहद जरूरी है कि रेमडेसिविर कोई जादुई गोली नहीं है और ना ही ऐसी दवा है जिससे कोरोना से मरनेवालों मरीजों में कमी आएगी.

हमारे पास एंटी-वायरल दवाइयों के नहीं होने से रेमडेसिविर का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. कोरोना के बिना लक्षण या फिर हल्के लक्षण वालों को यह दवा जल्दी देने से कोई फायदा नहीं है. इसी तरह से अगर रेमडेसिविर को देर से दिया जाए, तो भी इसका कोई मतलब नहीं है.’

इसे भी पढ़ें :BENGAL ELECTION : सीएम ममता बनर्जी बोलीं, तीन चरणों के चुनाव एक ही दिन या दो दिन में कराया जायें

प्लाज्मा थेरेपी की भूमिका एक हद तक ही

प्लाज्मा थेरेपी से जुड़े सवालों पर भी डॉ. रणदीप गुलेरिया ने अपने विचार रखे. उन्होंने कहा, ‘अध्ययन बताते हैं कि कोरोना के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी की भूमिका एक हद तक ही है.

कोरोना के दो प्रतिशत से भी कम मरीजों में Tocilizumab की जरूरत होती है, जिसका इस वक्त काफी मात्रा में उपयोग किया जा रहा है. हल्के और बिना लक्षण वाले अधिकांश कोरोना मरीजों की हालत में सामान्य इलाज से काफी सुधार हो रहा है.’

इसे भी पढ़ें :High Court का निर्देशः दवा की कालाबाजारी पर तत्काल रोक लगाये Jharkhand सरकार

देश में संक्रमण के कुल मामले 1.50 करोड़ के पार पहुंचे

गौरतलब है कि भारत में कोविड-19 के एक दिन में रिकॉर्ड 2,73,810 नए मामले सामने आने के साथ ही संक्रमण के कुल मामले 1.50 करोड़ के पार पहुंच गए. करीब 25 लाख नए मामले बीते महज 15 दिन के भीतर सामने आए हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार की सुबह जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी 19 लाख से अधिक हो गई है.

इसे भी पढ़ें :मरीजों की विवशता का अनुचित लाभ उठा रहे निजी अस्पताल संचालक, सरकार संज्ञान ले : तुषार

उपचार करा रहे मरीजों की संख्या बढ़कर 19,29,329 हुई

सोमवार सुबह आठ बजे जारी अपडेट आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोविड-19 के कुल 1,50,61,919 मामले हैं तथा एक दिन के भीतर 1,619 लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,78,769 पर पहुंच गई. संक्रमण के मामलों में लगातार 40वें दिन वृद्धि हुई है.

देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 19,29,329 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 12.81 प्रतिशत है, जबकि संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर गिरकर 86 प्रतिशत रह गई है. आंकड़ों के मुताबिक, इस बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 1,29,53,821 हो गई है और मृत्यु दर गिरकर 1.19 प्रतिशत हो गई है.

इसे भी पढ़ें :अनुबंध पर नियुक्त असिस्टेंट प्रोफेसर चला रहे राज्य के सात विवि, नियमित नियुक्ति की आस में 1,118 पद खाली

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: