न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अहमदाबाद : सिंचाई घोटाले के आरोपी से 40 लाख घूस मांगने के आरोप में कांग्रेस विधायक गिरफ्तार

कांग्रेस ने अपने विधायक के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की निंदा करते हुए आरोप लगाया है कि घोटाले में शामिल भाजपा नेताओं को बचाने के लिए सांवरिया को ढाल के रूप में निशाना बनाया जा रहा है.

25

Ahmedabad : गुजरात के ध्रांगध्रा से कांग्रेस विधायक पुरुषोत्तम सांवरिया और एक वकील को रिश्वत के एक मामले में रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. विधायक पहली बार चुनाव जीत सदन में पहुंचे हैं. खबरों के अनुसार सांवरिया पर आरोप है उऩ्होंने सिंचाई घोटाले के एक आरोपी से चालीस लाख रुपए की घूस मांगी.  इसके ऐवज में स्थानीय स्तर पर या राज्य की विधानसभा में मामला नहीं उठाने का आश्वासन दिया. बता दें कि मोरबी जिले में सिंचाई विभाग के एक एग्जीक्यूटिव इंजीनियर द्वारा दर्ज कराई एफआईआर के लगभग एक माह  बाद कांग्रेस विधायक को गिरफ्तार किया गया है.  पुलिस के अनुसार सांवरिया दस लाख रुपए की घूस ले चुके हैं.  कांग्रेस विधायक के अलावा भारत गणेश्य को भी गिरफ्तार किया गया है.  जानकारी के अनुसार गणेश्य मोरबी के हलवाड़ टाऊन में वकालत करते हैं. आरोप है कि वे विधायक और घोटाले के आरोपी के बीच बिचौलिए बने हुए थे.  पुरुषोत्तम सांवरिया की गिरफ्तारी से गुजरात कांग्रेस में हड़कंप मच गया है.  कांग्रेस ने अपने विधायक के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की निंदा करते हुए आरोप लगाया है कि घोटाले में शामिल भाजपा नेताओं को बचाने के लिए सांवरिया को ढाल के रूप में निशाना बनाया जा रहा है.

मोरबी के एसपी करनराज वघेला के अनुसार विधायक सांवरिया ने अपने साथी भारत गणेश्य के जरिए घोटाले के आरोपी से चालीस लाख रुपए मांगे.  बदले में आश़्वासन दिया गया कि स्थानीय स्तर पर सिंचाई योजनाओं की मरम्मत और बहाली में अनियमितताओं के मुद्दे विधानसभा के सदन पटल पर नहीं उठाये जायेंगे. एसपी के अनुसार आखिर में डील 35 लाख रुपए में फाइनल हुई. साथ हही बिचौलिए के जरिए 10 लाख रुपए भी ले लिये.  इस क्रम में मोरबी डिविजन के डिप्टी एसपी बन्नो जोशी ने जाकनारी दी कि  हालांकि अभी तक विधायक से राशि बरामद नहीं की गयी है. मगर गणेश्य ने सांवरिया को 25 लाख रुपए के शेष भुगतान की सुरक्षा के रूप में बैंक चेक दिया था.

इसे भी पढ़ेंः पीएम के मन की बात : 31 अक्टूबर को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देश को समर्पित करेंगे

एग्जीक्यूटिव इंजीनियर ने दर्ज कराई थी एफआईआर

palamu_12

खबरों के अनुसार मोरबी जिले में सिंचाई विभाग के एक एग्जीक्यूटिव इंजीनियर द्वारा दर्ज कराई गयी एफआईआर के  बाद कांग्रेस विधायक सांवरिया को गिरफ्तार किया गया है.  एग्जीक्यूटिव इंजीनियर सतीश उपाध्याय ने आरोप लगाया कि तत़्कालीन एग्जीक्यूटिव इंजीनियर सीडी कनानी ने 334 तालाबों की मरम्मत और रेस्टॉरेशन के लिए साल 2017-18 और 2018-2019 में 20.31 करोड़ रुपए की मंजूरी दी, मगर जमीनी स्तर पर कोई बड़ा काम नहीं किया गया.  इस मामले में सरकार को जब अनियमितताओं का पता चला तो सिंचाई विभाग ने पिछले माह पांच कमेटियों का गठन किया और योजना में शामिल तालाबों की जांच की गयी.  खबरों के अनुसार 46 चुने गये प्रोजेक्ट की जांच के बाद टीम ने पाया कि सिर्फ कागजों पर ही काम हुआ है. जमीन पर काम हुआ ही नहीं.  इन 46 प्रोजेक्टों में 66.91 लाख रुपए की अनियमितता की गयी.  इसके बाद नर्मदा, वॉटर रिसोर्सेज, वॉटर सप्लाई और कल्पसार विभाग के सतीश उपाध्याय ने 27 सितंबर को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. इसके बाद   पुलिस ने सीडी कनानी सहित अन्य को गिरफ्तार किया.   कांग्रेस प्रवक्ता मनीष दोषी ने पूछा कि क्या सदन पटल पर उठाये गये  किसी भी मुद्दे पर राज्य सरकार काम करती है? आरोप लगाया कि भाजपा के बड़े नेता मोरबी घोटाले में शामिल हैं. सांवरिया को पुलिस ने निशाना बनाया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: