न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला : अब प्रवर्तन निदेशालय की गिरफ्त में क्रिश्चियन मिशेल  

ईडी ने कहा था कि सीबीआई और उसके द्वारा धन के आवागमन की जांच की जा रही है लेकिन धन की मात्रा को लेकर दोनों एजेंसियों में अंतर है

1,319

 NewDelhi :  प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे मामले के कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया. मिशेल को विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार के समक्ष पेश किया गया जहां ईडी ने उनसे पूछताछ के लिए 15 दिन की हिरासत मांगी. अदालत ने ईडी को ब्रिटिश नागरिक मिशेल से अदालत कक्ष में 15 मिनट पूछताछ करने की अनुमति दी.  इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया. ईडी ने धन शोधन के एक मामले में मिशेल की अलग से गिरफ्तारी की इजाजत मांगी थी.  ईडी ने कहा था कि सीबीआई और उसके द्वारा धन के आवागमन की जांच की जा रही है लेकिन धन की मात्रा को लेकर दोनों एजेंसियों में अंतर है. ईडी ने कहा, हम दो अलग अलग एजेंसियां हैं; कानून के दायरे में रहते हुए संयुक्त जांच असंभव है.  हमें खुद से पूरे मामले पर गौर करना होगा.  एजेंसी ने कहा कि उसे अपराध से जुड़े घटनाक्रम तथा उस धन से खरीदी गयी संपत्ति के धन शोधन वाले पहलू पर जांच करनी है.  ईडी ने कहा, हमें तीन करोड़ यूरो की जांच की जानकारी है.

  सीबीआई की जांच 3.7 करोड़ यूरो से अधिक की है

सीबीआई की जांच 3.7 करोड़ यूरो से अधिक की है.  हमें यह अंतर दूर करना है. एजेंसी ने कहा कि अपराध के धन से दो संपत्तियां खरीदी गयी और इसलिए यह पूरी तरह से धन शोधन के दायरे में आता है. एजेंसी ने कहा कि धन का इस्तेमाल हुआ और यह धन हवाला के जरिये आया.  यह आधिकारिक रास्ते से नहीं आया;  इसकी जांच होनी चाहिए और उससे इस संबंध में पूछताछ की जानी है.  सहआरोपियों से सामना कराना होगा. उसे यूएई में गिरफ्तार किया गया था और प्रत्यर्पण करके चार दिसंबर को भारत लाया गया था. अगले दिन उसे अदालत के समक्ष पेश किया गया जहां अदालत ने उसे पांच दिन के लिये सीबीआई की हिरासत में भेज दिया; उसकी हिरासत अवधि बाद में पांच दिन के लिये बढ़ा दी गयी. इसके बाद चार दिन के लिए उसकी हिरासत और बढ़ा दी गयी. अदालत ने मिशेल की जमानत याचिका पर फैसला 19 दिसम्बर को सुरक्षित रख लिया था और उसे 28 दिसम्बर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

मिशेल के वकील अल्जो के जोसफ ने उसकी 15 दिन की हिरासत का विरोध करते हुए कहा कि सीबीआई द्वारा उसे लंबे समय तक हिरासत में रखा गया और अब उसे ईडी की हिरासत में रखने से उसके मौलिक अधिकार प्रभावित होंगे.  बता दें कि मिशेल मामले में शामिल तीन बिचौलियों में से एक है.  ईडी और सीबीआई इनकी संलिप्ता के संदर्भ में जांच कर रही है.  दो अन्य बिचौलिये गुइदो हाश्खे और कार्लो गेरोसा हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: