न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अगस्ता-वेस्टलैंड मामला : क्रिश्चियन मिशेल ने कोर्ट में कहा, जांच एजेंसी की पूछताछ में किसी का नाम नहीं लिया

बिचौलिए मिशेल ने यह आरोप लगाया कि केंद्र सरकार राजनीतिक एजेंडे के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है. 

90

NewDelhi : अगस्ता-वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला मामले में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल ने शुक्रवार को दिल्ली की अदालत से कहा कि उसने जांच एजेंसी की पूछताछ में किसी का नाम नहीं लिया है.  बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय की ओर से क्रिश्चियन मिशेल के खिलाफ अनुपूरक आरोप पत्र दायर करने के एक दिन बाद बिचौलिए मिशेल ने यह आरोप लगाया कि केंद्र सरकार राजनीतिक एजेंडे के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है.  मिशेल के वकील ने दावा किया कि आरोप पत्र की प्रति मिशेल को देने से पहले मीडिया को दे दी गयी.  मिशेल की तरफ  से याचिका दायर करने वाले वकील अल्जो के जोसेफ ने दावा किया किमिशेल ने किसी का नाम नहीं लिया है.   अपनी याचिका में मिशेल ने सवाल किया कि आरोप पत्र पर अदालत द्वारा संज्ञान लेने से पहले यह मीडिया को कैसे लीक हो गया.  अब इस मामले पर छह अप्रैल को सुनवाई होगी.  बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर डील में प्रवर्तन निदेशालय की ओर से गुरुवार को दाखिल चार्जशीट में अहमद पटेल और किसी श्रीमती गांधी का जिक्र किया गया है.

इसे भी पढ़ें- भाजपा को वोट न दें, सत्ता से बेदखल करें, नसीरुद्दीन सहित छह सौ चर्चित हस्तियों की आम जनता से अपील

एपी और फैम कोडवर्ड की तरह लिखे गये हैं

यह चार्जशीट इस डील के मुख्य आरोपी क्रिश्चेन मिशेल के खिलाफ दाखिल की गयी है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बताया है कि पूछताछ के दौरान क्रिश्चेन मिशेल ने एपी और फैम का जिक्र किया है जिसका मतलब अहमद पटेल और फैम का मतलब फैमिली है.  ईडी को जो डायरी मिली है उसमें एपी और फैम कोडवर्ड की तरह लिखे गये हैं.  52 पन्नों की चार्जशीट और उसके साथ तीन हजार पन्नों की पूरक चार्जशीट में तीन नये नाम भी सामने हैं,  जिसमें मिशेल का बिजनेस पार्टनर डिवेड सेम और दो कंपनियां हैं. चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि क्रिश्चेन मिशेल ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर दबाव डालने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का इस्तेमाल किया था.

इसे भी पढ़ें- बोले राहुल,  चुनाव के बाद चोर की जांच होगी और चौकीदार जेल में होगा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: