JharkhandRanchi

कृषि बिल : सरकारी योजनाओ का नहीं मिला कोई लाभ, किसानों की उपज सरकार लें तो कुछ बात बने

कृषि बिल पर क्या कहते हैं किसान-2

Ranchi : सरकार कोई कृषि बिल लेकर आयी है, इसकी अधिक जानकारी नहीं है. किसी बात को लेकर कुछ विरोध हो रहा है यह मालूम है. अभी जितनी भी सरकारी योजनाएं चल रही है, उसका तो कभी कोई लाभ नहीं मिला. सरकार सीधे हमारी उपज ले तो कुछ बात बनें. ऐसे में कोई कृषि कानून आयें इससे, क्या फर्क पड़ता है. ये कहना है होचर गांव के राकेश कुमार साहू का. राकेश पिछले दस साल से पारिवारिक पेशा खेती में लगे है.

 

 

जितनी मेहनत लगती है उतना लाभ नहीं हो पाता

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

एक एकड़ दस डिसमिल में ये धान उगाते है. 40 डिसमिल में गोभी आदि सब्जियां. राकेश के अनुसार फसल लगाने में जितनी मेहनत होती है, उतना इससे लाभ नहीं मिल पाता. इनके अनुसार ये पिछले पांच छह साल से कृषि बीमा के लिये आवेदन कर रहे है. जिसमें इनका तीन चार सौ रूपये खर्च होता है. लेकिन एक बार भी इन्हें इसका लाभ नहीं मिला. कृषि और बाजार का जिक्र करते हुए राकेश ने कहा कि अगर सरकार फसल लेती है या व्यवस्था मजबूत करती है. तो किसानों को जरूर लाभ मिलेगा. फिलहाल तो बाजार में दाम अधिक होने से ही लाभ मिल पाता है.

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :हाथरस कांड:   प्रदर्शन कर रहे सपा-RLD कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज, प्रियंका ने पूछा – हाथरस के DM को कौन बचा रहा है?

एक टोकरी उपज बाजार ले जाने में लगते है 40 रूपये

राकेश कहते हैं कि उनके गांव से बाजार तक उपज ले जाने में बहुत सी परेशानियां है. होचर गांव के लोगों के लिये नजदीकी बाजार डेली मार्केट है. जो लगभग पंद्रह किलोमीटर की दूरी पर है. ऐसे तो मखमंदरों बाजार भी है, लेकिन यहां दाम कम मिलता है. डेली मार्केट जाने के लिये गांव के किसानों को सुबह तीन बजे ही घर से निकलना पड़ता है. राकेश ने बताया कि गांव से ऑटो में एक टोकरी सब्जी ले जाने में 40 रूपये लगते है. इसके बाद भी सुबह तीन बजे से डेली मार्केट के बाहर सड़क में बैठना पड़ता है. व्यापारी तो सुबह छह बजे तक आते है. इसमें कभी सब्जियां बिक्री होती है, तो कभी नहीं. कभी कभी दाम भी पूरा नहीं मिलता. ऐसे में परेशानी बहुत है. और लाभ कम.

इसे भी पढ़ें :हाल टेक्निकल यूनिवर्सिटी का : 22 हजार स्टूडेंट्स का है भार, नहीं है स्थायी वीसी और लेक्चरर

सब्जियों की खेती भी मौसम पर निर्भर

खेती बस परिवार चलाने लायक: बात चीत के दौरान राकेश ने बताया कि सरकारी योजनाओं के पीछे कितना भागे. परिवार बड़ा है. जिम्मेवारी है. धान तो परिवार के लिये होता है. सब्जियों से कुछ उम्मीद होती है. लेकिन वो भी मौसम पर निर्भर है. क्षेत्र की जमीन ऐसी है कि कीटनाशक नहीं देने से सब्जियां बर्बाद हो जाती है. गांव का हाल बताते हुए इन्होंने कहा सरकार अपनी गाड़ी भी भेज दें तो किसानों को लाभ नहीं मिलने वाला. राज्य में हो रहे विरोध प्रदर्शनों की जानकारी राकेश को नहीं है. बात दें केंद्र सरकार की ओर से पारित तीन कृषि विधेयक का विरोध जोर शोर से किया जा रहा है. हालांकि राजधानी के किसान इनसे अंजान है.

 

इसे भी पढ़ें :हाल-ए-कांग्रेस :  तीन पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, एक की वापसी और दो आने की तैयारी में

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button