JharkhandLead NewsRanchi

JSLPS और इंडियन बैंक के बीच समझौता, 15 हजार सखी मंडलों को क्रेडिट लिंकेज के जरिए मिलेगी आर्थिक मदद

Ranchi : झारखंड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी एवं इंडियन बैंक के बीच सखी मंडल (SHG) की सदस्यों के वित्तीय समावेशन के लिए एमओयू किया गया. हेहल स्थित जेएसएलपीएस के राज्य कार्यालय में सीइओ नैन्सी सहाय एवं इंडियन बैंक, पटना के रिजनल जीएम अमरेन्द्र कुमार शाही ने इस पर हस्ताक्षर किया. नैंसी सहाय के मुताबिक इससे राज्य में ग्रामीण महिलाओं के संगठन को वित्तीय समावेशन के तहत क्रेडिट लिंकेज से जोड़ने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ें: त्योहारों को लेकर जारी गाइडलाइन का हो सख्ती से पालन, अभी थोड़ी सी लापरवाही से स्थिति हो सकती है विस्फोटकः हाइकोर्ट

इंडियन बैंक की इस पहल से अन्य बैंक भी सखी मंडल के क्रेडिट लिंकेज के लिए आगे आयेंगे. बैंकों की छोटी-छोटी पहल के जरिए ग्रामीण महिलाओं के जीवन में बड़े बदलाव की नींव रखी जा रही है.

advt

कोशिश है कि सखी मंडलों को ज्यादा से ज्यादा क्रेडिट लिंकेज उपलब्ध करा कर उनको स्वरोजगार के अवसरों से जोड़ा जाये. सखी मंडल की बहनें आज छोटी-छोटी राशि लोन के रूप में लेकर उद्यमिता के क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं.

इसे भी पढ़ें:पलामू : 16 हजार की उंचाई पर चढ़कर एशिया रिकार्ड बनाने वाले तरहसी के मंजीत बनाना चाहते हैं वर्ल्ड रिकार्ड, आर्थिक तंगी बनी बाधा

adv

अब तक 4500 एसएचजी को क्रेडिट लिंकेज के जरिए मदद

अमरेन्द्र कुमार शाही ने बताया कि आनेवाले समय में इंडियन बैंक झारखंड में करीब 15000 सखी मंडलों के वित्त पोषण का प्रयास करेगा. अब तक इंडियन बैंक ने करीब 4500 सखी मंडलों को क्रेडिट लिंकेज के जरिए वित्त पोषण उपलब्ध कराया है.

वैसे जिले जहां बैंक क्रेडिट लिंकेज की दिक्कत है, इंडियन बैंक उन जिलों में भी सखी मंडलों के लिए पहल करेगा. सखी मंडलों को क्रेडिट लिंकेज के जरिए आर्थिक मदद उपलब्ध कराने की इस पहल से सुदूर गांव के आखिरी परिवार को भी लाभ मिल सकेगा.

जेएसएलपीएस संपोषित 1.60 लाख सखी मंडलों को विभिन्न बैंकों के जरिए क्रेडिट लिंकेज से जोड़ा जा चुका है. इस पहल से करीब 200 करोड़ की राशि राज्य की सखी मंडलों को वित्तीय समावेशन के लिए उपलब्ध करायी जा चुकी है.

इसे भी पढ़ें:वैक्सीनेशन की नई गाइडलाइंस जारी: दिव्यांगों और बुजुर्गों को घर के पास ही लगेगा टीका

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: