BiharJharkhandJobsLead NewsNationalRanchiTOP SLIDER

Agneepath Scheme: अग्निवीरों का भविष्य उज्ज्वल, घूमकर समय ना करें बर्बाद, अगले महीने से होगी बहाली, जानें और क्या कहा सेना के अधिकारियों ने

24 जून से एयरफोर्स, 25 से नेवी और एक जुलाई से आर्मी में शुरू होगी अग्निवीरों की भर्ती

New Delhi: अग्निपथ स्कीम को वापस लेने की किसी भी संभावना से सेना ने इनकार किया है. देशभर में मचे बवाल के बीच रविवार को जल, थल और वायु सेना के अधिकारियों ने संयुक्त रूप से कहा कि अग्निपथ स्कीम वापस नहीं होगा. सेना ने अपने अहम बयान में कहा है कि कोचिंग संस्थान छात्रों को भड़का और उकसा रहे हैं. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि उन्हें हिंसा और प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लेना चाहिए. अनिल पुरी ने कहा कि आज जवान को जो पे-अलाउंस मिल रहे हैं, अग्निवीर को उससे ज्यादा मिलेंगे.

इसे भी पढ़ें: मांडर विधानसभा उपचुनाव :  रांची में AIMIM प्रमुख ओवैसी के स्वागत में लगे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे !

 

Catalyst IAS
ram janam hospital

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

समय बर्बाद ना करें, बहाली की तैयारी करें

पुरी ने युवाओं से कहा कि ‘जो भी युवा इधर-उधर घूम रहे हैं भटक रहे हैं वह अपना समय बर्बाद नहीं करें क्योंकि किसी के लिए भी फिजिकल टेस्ट पास करना उतना आसान नहीं होता है. उनसे गुजारिश है कि वह अपना पूरा ध्यान अगले महीनों में होने वाले टेस्ट पर लगाएं.’

अच्छा लगता है देश की सेना 32 साल की हो?

अनिल पुरी ने सेना में सुधार के लिए नया भर्ती सिस्ट म लाने पर कहा कि ‘क्या’ ये अच्छाइ लगता है कि सेना जो देश की रक्षा कर रही है, वह 32 साल की हो?’ पुरी ने कहा कि इसपर कई वरिष्ठि सैन्यक अधिकारियों ने चर्चा की है, विभिन्नह देशों की स्टाडी हुई. 1989 में रिफॉर्म्स पर काम शुरू हुआ था. इसके लिए बाहर के देशों की स्टडी की. सभी देशों के अंदर उम्र देखी गई.

 

21 साल के अंदर किस युवा की जॉब लगती है?

लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि 21 साल के अंदर किस युवा की जॉब लगती है? लेकिन अग्निपथ स्कीम में भर्ती होने वाले 60 से 70 फीसदी युवा 10वीं पास होंगे. उन्हें 12 पास का सर्टिफिकेट दिया जाएगा. आज की तुलना में अग्निवीरों को ज्यादा अलाउंस दिए जा रहे हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने आगे कहा कि सबसे बड़ी बात है कि अग्निपथ स्कीम में आने वाला युवा डिसिप्लिन्ड होगा. किसी भी फील्ड में काम करने के सबसे पहले डिमांड यही होती है.

इसे भी पढ़ें: देवघर सिविल कोर्ट गोलीकांड : घटनास्थल पर जांच के लिए पहुंची CID और FSL की टीम

आज की जेनरेशन हम लोगों से बेहतर

उन्होंने कहा आज की जेनरेशन हम लोगों से बेहतर है. उसके पास ताकत भी है, जज्बा भी है, जुनून भी है और टेक्नॉलिजी को भी वो बेहतर जानते हैं. सेना ने कहा कि आज का बच्चा मोबाइल के साथ पैदा होता है यानी कि बच्चे छोटे से ही कंप्यूटर और मोबाइल को जानते है. आज की लड़ाई टेक्नॉलिजी पर डिपेंड हो गई है. नई-नई तकनीकि आज आ चुकी हैं. इसके लिए जरूरी है कि हमारा जवान हर तरह से लड़ाई के लिए तैयार रहे.

सेना में जाने की तैयारी करो अग्निवीरों, 1 जुलाई को नोटिफिकेशन

सेना में अग्निवीरों की भर्ती के लिए 1 जुलाई को नोटिफिकेशन जारी हो जाएगा. जिसके बाद लोग एप्लीकेशन रजिस्ट्रेशन शुरू कर सकते हैं. भर्ती के लिए पहली रैली अगस्त के दूसरे सप्ताह से शुरू होगी. रैली में फिजिकल टेस्ट और मेडिकल होगा उसके बाद एंट्रेंस एग्जाम होगा फिर उन्हें कॉलम में मेरिट के हिसाब से भेजेंगे.

पहले लॉट में 25000 अग्निवीर

अगस्त से लेकर नवंबर तक 2 बैच में रैलियां होंगी. पहले लॉट में 25000 अग्निवीर आएंगे. ये लोग दिसंबर के पहले सप्ताह में आएंगे.
अग्निवीरों का दूसरा जत्था फरवरी में आएगा.‌ देशभर में कुल 83 भर्ती रैलियां होंगी, जो देश के हर राज्य में हर आखिरी गांव तक होंगी.

इसे भी पढ़ें: गिरिडीहः प्रधान गुरुद्वारे में धूमधाम से मनाया गया 6वें गुरु हरगोविंद सिंह का प्रकाशोत्सव पर्व

IAF में 24 जून से भर्ती

एयर मार्शल एसके झा के अनुसार भारतीय वायुसेना में 24 जून से भर्ती प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. ऑनलाइन नोटिफिकेशन उस दिन जारी की जाएगी. एक महीने बाद, 24 जुलाई से फेज 1 एग्जाकम की प्रक्रिया शुरू होगी. दिसंबर के अंत तक अग्निवीरों के पहले बैच को एनरोल कर लेंगे. 30 दिसंबर से पहले बैच की ट्रेनिंग शुरू हो जाएगी.

नेवी के लिए 25 जून को विज्ञापन

नेवी के मुताबिक अगले दो-तीन दिनों में 25 जून तक हमारा एडवर्टाइजमेंट इंफॉर्मेशन ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री तक पहुंच जाएगा. 21 नवंबर को नेवी का पहला अग्निवीर बैच आईएनएस चिल्का ओड़िशा में रिपोर्ट करना शुरू कर देगा. हम महिलाओं को भी अग्निवीर बना रहे हैं. मैं 21 नंवबर का इंतजार कर रहा हूं और मुझे आशा है कि महिला और पुरुष अग्निवीर आइएनएस चिल्का पर रिपोर्ट करेंगे.

चार साल बाद अग्निवीर क्या कर सकते हैं?

सेना की तरफ से कहा गया कि उन्हें 4 साल बाद मिलने वाले 11.7 लाख के साथ अग्निवीर जो चाहे वह कर सकते हैं. उनके लिए ब्रिजिंग कोर्स के प्रावधान पर विचार किया जा रहा है. इस पर भी तैयारी चल रही है.
लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि सरकार ने कहा है कि अग्निवीरों को सीएपीएफ में प्राथमिकता दी जाएगी. सीएपीएफ में आरक्षण देने का प्लान पहले से था, क्योंकि सरकार को पता था कि ये जो 75 फीसदी अग्निवीर 4 साल बाद निकलेंगे. ये देश की ताकत होंगे.

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर : कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों और दहशतगर्दों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर

पुलिस में अग्निवीरों को प्राथमिकता

राज्य की सरकारों ने स्पष्ट कहा है कि पुलिस में अग्निवीरों को प्राथमिकता दी जाएगी. चार राज्य तो ऐसे हैं, जिन्होंने स्पष्ट कहा है कि सभी अग्निवीरों को जॉब देंगे. इसके अलावा बैंक अग्निवीरों को क्रेडिट देंगे.

 

Related Articles

Back to top button