न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सफाई व्यवस्था से नाराज एस्सेल इंफ्रा के खिलाफ गोलबंद हुए 11 पार्षद, निगम करेगा शो-कॉज

27 की बैठक में कंपनी को हटाने पर होगा विचार

eidbanner
51

Ranchi : पिछले पांच दिनों से नहीं हो रहे कचरे के उठाव से नाराज 11 पार्षद अब गोलबंद हो गये हैं. नाराज पार्षदों ने सोमवार को नगर आयुक्त मनोज कुमार से मिलकर तत्काल ही कंपनी को हटाने की मांग की. नगर आयुक्त को बताया कि कचरे का सही तरीके उठाव नहीं होने से राजधानी के कई इलाके बीमारियों की चपेट में हैं. पेट्रोल पंप में पैसा बकाया होने से वाहनों को तेल नहीं मिलने का हर्जाना शहर के लोग भुगत रहे हैं. कंपनी के सभी कचरा वाहन मिनी ट्रांसफर स्टेशन (एमटीएस) में खड़े है. इन वाहनों में पड़े कूड़े से उठ रही बदबू ने लोगों का जीना दूभर कर दिया है. इसपर नगर आयुक्त ने पार्षदों का आश्वासन दिया कि सोमवार रात 9 बजे से निगम एक विशेष सफाई अभियान चलायेगा. साथ ही कंपनी को शो-कॉज भेजगा, पूछेगा कि क्यों नहीं कंपनी को हटा दिया जाये.

ज्ञापन सौंपने में ये पार्षद रहे शामिल

ज्ञापन सौंपने वाले पार्षदों में नकुल तिर्की (वार्ड 1), रोशनी खलखो (वार्ड 19), अर्जुन यादव (वार्ड 10), सुनील यादव (वार्ड 20), अरूण झा (वार्ड 26), उर्मिला यादव (वार्ड 41), निरंजन कुमार(वार्ड 52) जैसे पार्षद उपस्थित थे.

शहर की जमीनी हकीकत आयी सामने

मालूम हो कि राजधानी के नगर निगम क्षेत्र में सफाई का बुरा हाल है. एस्सेल इंफ्रा के सफाई वाहन पिछले पांच दिनों से मोहल्लों से कूड़ा उठाने के लिए नहीं जा रहे हैं. इससे घरों में कूड़े का ढेर लग गया है. वहीं चौक-चौराहा डंपिग यार्ड बन गया है. सफाई को लेकर निगम की कोई भी वैकल्पिक उपाय अबतक नाकामी साबित हुई है. सफाई नहीं होने से शहर के आम जनता काफी परेशान हैं. इससे स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतर अंक लाने वाले रांची शहर की जमीनी हकीकत सामने आ गयी है.

तेल नहीं मिलने से एमटीएस में खड़े है वाहन

कंपनी के वाहनों में तेल नहीं होने से कई टाटा एस एमटीएस में खड़े हैं. दरअसल इन वाहनों में ईंधन (पेट्रोल और डीजल) जिस पेट्रोल पंप से भरा जाता है, उसपर पेट्रोल पंप के बकाया राशि का भुगतान नहीं होने से वाहनों को तेल मिलना बंद हो गया है. जिस वजह से एमटीएस में कूड़ा लदे वाहन खड़े हैं. कंपनी इन दिनों 53 वार्डों में से 33 वार्डों में सफाई का काम देख रही है. लेकिन जिस तरह से इन वार्डों के मोहल्लों में सफाई नहीं हो रही है, उसी को लेकर ये पार्षद नाराज है.

कंपनी नहीं पार्षदों से पूछा जा रहा सवाल : पार्षद

वार्ड नंबर 20 और 26 के पार्षद ने बताया कि कंपनी के खराब कार्यशैली का सवाल आज वार्ड की जनता उनसे सवाल पूछ रहे हैं. एक जनप्रतिनिधि होने के बाद भी पार्षदों कुछ करने में असहाय हैं. इसी से नाराज 11 पार्षद नगर आयुक्त से मिल मांग किया कि तत्काल सफाई व्यवस्था दुरुस्त करें, साथ ही कंपनी को हटाने की पहल करें.

निगम करेगा ठोस कार्रवाई, 27 की बैठक में होगा विचार

ज्ञापन मिलने के बाद इन पार्षदों को नगर आयुक्त ने निम्न आश्वासन दिया है.

  • सोमवार रात से निगम अपने स्तर पर एक विशेष अभियान चलायेगा. जिसमें कुल 36 टाटा एस, 15 ट्रैक्टर, 4 कॉम्पेक्टर, 1 बुल ट्रैक्टर और 2 जेसीबी का प्रयोग होगा. इस विशेष सफाई अभियान में 120 सफाई कर्मी भी भाग लेंगे.
  • कंपनी को कारण बताओ नोटिस भेज पूछा जायेगा कि क्यों नहीं उस पर कोई कार्रवाई किया जाये.
  • 27 फरवरी को होने वाले बोर्ड बैठक में सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने और कंपनी को हटाने के संबंध में विचार-विमर्श किया जायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: