न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

सियासत में तय नहीं की जा सकती सेवानिवृत्ति की उम्र सीमा: सुमित्रा महाजन

697

Indore: टिकट घोषणा में हुई देरी से नाराज बीजेपी की वरिष्ठ नेता और लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने आम चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की.

eidbanner

इस घोषणा के पांच दिन बाद बुधवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि राजनीतिक क्षेत्र की उस सरकारी नौकरी से कतई तुलना नहीं की जा सकती, जिसमें निश्चित उम्र पूरी करने पर हर कर्मचारी को रिटायर होना ही पड़ता है.

‘ताई’ के नाम से मशहूर भाजपा की वरिष्ठ नेता महाजन का यह अहम बयान ऐसे वक्त सामने आया है, जब पार्टी द्वारा 75 साल से ज्यादा उम्र के नेताओं को लोकसभा चुनाव नहीं लड़ाने के फॉर्मूले पर सियासी गलियारों में चर्चा जारी है.

इसे भी पढ़ेंःमुंडा बने मिसाल, राय का सरेंडर, चौधरी के तेवर अब भी तल्ख लेकिन पांडेय जी कन्फ्यूजड

‘सरकारी नौकरी से राजनीति की तुलना नहीं’

लोकसभा अध्यक्ष ने पीटीआई को दिये इंटरव्यू में कहा, राजनीति से सरकारी नौकरी की बिल्कुल भी तुलना नहीं की जा सकती. सरकारी नौकरी में सेवानिवृत्ति की उम्र पहले से तय होती है.

लेकिन राजनीति में ऐसा नहीं हो सकता क्योंकि आम जनता के दुःख-सुख से सीधे जुड़े राजनेता न तो घड़ी देखकर काम करते हैं, न ही वे बंधा-बंधाया जीवन जीते हैं.” उन्होंने याद दिलाया, “मोरारजी देसाई अपनी उम्र के 81वें साल में देश के प्रधानमंत्री बने थे.”

आठ बार सांसद रहीं सुमित्रा महाजन

इंदौर से वर्ष 1989 से लगातार आठ बार चुनाव जीतने वाली महाजन को मध्यप्रदेश की इस सीट से भाजपा के टिकट का शीर्ष दावेदार माना जा रहा था.

इस बीच, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने “द वीक” पत्रिका को दिये साक्षात्कार में कहा कि यह उनकी पार्टी का फैसला है कि 75 साल से ज्यादा उम्र के नेताओं को लोकसभा चुनावों का टिकट नहीं दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड में 15 लाख 4 हजार 408 मतदाताओं का अबतक नहीं बन पाया है वोटर आइडी

शाह ने इस साक्षात्कार में हालांकि महाजन का नाम नहीं लिया था. लेकिन 12 अप्रैल को 76 वर्ष की होने जा रहीं महाजन ने पांच अप्रैल को खुद घोषणा कर दी थी कि वह आसन्न लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी.

शाह के इस बयान के बारे में पूछे जाने पर महाजन ने कहा, “लोकसभा अध्यक्ष के पद पर आसीन होने की मर्यादा के कारण मैं पिछले पांच साल के दौरान केंद्रीय भाजपा संगठन की बैठकों में शामिल नहीं हुई हूं.

फिलहाल मुझे इसकी प्रामाणिक जानकारी नहीं है कि उम्रसीमा की नीति पार्टी की किस बैठक में तय की गयी है? इस बारे में खुद शाह ही कुछ कह सकते हैं.”

Related Posts

डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त होने के आसार,  सीएम ममता का हर अस्पताल में पुलिस अधिकारी तैनात करने का आदेश 

डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त होने के आसार हैं. पश्चिम बंगाल में हिंसा के विरोध में हड़ताल पर गये चिकित्सकों और राज्य सरकार के बीच गतिरोध खत्म होने के संकेत नजर आ रहे हैं.

‘भाजपा के लिए करती रहूंगी काम’

भाजपा की वरिष्ठम नेताओं में शुमार महाजन ने हालांकि कहा, “अगर उम्र को लेकर भाजपा संगठन में वाकई कोई नीति तय की गयी है, तो सभी पार्टी कार्यकर्ताओं को इसका पालन करना ही है.”

महाजन ने एक सवाल पर कहा, “अभी मेरी इतनी उम्र भी नहीं हुई है कि मुझे राजनीति से संन्यास लेना पड़े. मैं भाजपा के लिये आज भी काम कर रही हूं और आगे भी करती रहूंगी.”

‘महागठबंधन का लक्ष्य सरकार बनाना नहीं’

उन्होंने विपक्षी दलों के महागठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा, “केंद्र में सरकार बनाने के लिये किसी भी सियासी खेमे के पास कम से कम 272 लोकसभा सीटें होनी चाहिये. लेकिन तथाकथित महागठबंधन में शामिल कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल इतनी सीटों पर मिलकर चुनाव तक नहीं लड़ रहे हैं.

इस गठजोड़ के दल अलग-अलग राज्यों में बंटे हैं और प्रधानमंत्री पद की दावेदारी के संबंध में किसी एक विपक्षी नेता के नाम पर सहमत भी नहीं हैं.”

महाजन ने कटाक्ष किया, “मुझे तो लगता है कि चुनावी महागठबंधन में शामिल विपक्षी दलों का मकसद सरकार बनाना है ही नहीं. इनका असल लक्ष्य है कि इस बार उनका कोई नेता कम से कम लोकसभा में विपक्ष के नेता की कुर्सी किसी तरह हासिल कर ले.”

इसे भी पढ़ेंःअमेठी में नामांकन के बाद राहुल का मोदी पर वार, कहा- सुप्रीम कोर्ट ने भी माना राफेल डील में घोटाला…

‘न्याय’ योजना पर उठाये सवाल

वरिष्ठ भाजपा नेता ने न्यूनतम आय योजना (न्याय) के तहत गरीब परिवारों को हर महीने 6,000 रुपये देने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की महत्वाकांक्षी चुनावी घोषणा पर भी सवाल उठाये.

उन्होंने कहा, “गरीबी हटाओ का नारा देने वाली कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों में गरीबों ने हमेशा ठोकरें ही खायी हैं और अन्याय झेला है. राहुल जरा हिसाब तो लगायें कि क्या कोई सरकार इतने धन का इंतजाम कर सकती है कि वह हर साल देश भर के गरीबों के खातों में 72,000-72,000 रुपये डाल सके?”

उन्होंने मराठी भाषा की एक कहावत का हवाला देते हुए कहा, “मनुष्य हर बात का स्वांग रच सकता है. लेकिन वह किसी को धन देने का स्वांग नहीं रच सकता. लिहाजा “न्याय” के चुनावी वादे को लेकर कोई भी गरीब कांग्रेस पर भरोसा नहीं करेगा.”

इसे भी पढ़ेंःरामटहल चौधरी ने भाजपा से दिया इस्तीफा, निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव, 16 को…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: