न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड : मुख्य आरोपी के खिलाफ हुई सुनवाई, कोर्ट ने की LCR की मांग

755

Ranchi : अरगोड़ा थाना क्षेत्र के अशोक नगर रोड नंबर एक स्थित निजी चैनल के कार्यालय में हुए अग्रवाल ब्रदर्स की हत्या के मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी के द्वारा सिविल कोर्ट में दायर क्रिमिनल रिवीजन पिटिशन पर सुनवाई हुई. मामले की सुनवाई न्यायाधीश एसएस प्रसाद की अदालत में हुई.

कोर्ट ने सुनवाई करते हुए एलसीआर की मांग की है. वहीं अगली सुनवाई 29 अप्रैल को होगी, बता दें कि अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी के अधिवक्ता द्वारा उसके ऊपर लगे धारा 82, 83 को खारिज करने के लिए अदालत में क्रिमिनल रिवीजन दाखिल किया गया है.

इसे भी पढ़ेंःबिलक़ीस का किस्सा हर हिंदुस्तानी को सुनना और उसके मायने समझना ज़रूरी है

पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं आरोपी

छह मार्च की शाम हुए अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं. लोकेश चौधरी और एमके सिंह हत्या के बाद से फरार हैं. दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम ने कई संभावित जगहों पर छापेमारी की. लेकिन दोनों की गिरफ्तारी अब तक नहीं हो सकी है.

आरोपियों को फरार घोषित करने की तैयारी में पुलिस

अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड के मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी और एमके सिंह को स्थाई रूप से फरार घोषित करने के लिए रांची पुलिस की ओर से तैयारी की जा रही है. इस मामले में पुलिस की ओर से न्यायालय में जल्द आवेदन दिया जाएगा. आवेदन के जरिए न्यायलय से आग्रह किया जाएगा कि दोनों आरोपियों के खिलाफ रेड वारंट जारी किया जाए.

इसे भी पढ़ेंःरांची : चंदाघांसी में दो सौ एकड़ का भूमि घोटाला, मूल रैयत के नाम में हुई हेरफेर

कुर्की जब्ती के बाद भी नहीं किया सरेंडर

पुलिस लोकेश के दोनों बॉडीगार्ड धर्मेंद्र तिवारी और सुनील कुमार समेत ड्राइवर शंकर को गिरफ्तार कर पहले ही जेल भेज चुकी है. धर्मेंद्र तिवारी और सुनील को रिमांड पर लेकर पूछताछ भी की गई थी. पूछताछ के दौरान दोनों ने हत्याकांड को लेकर कई अहम जानकारियां दी. गिरफ्तारी नहीं होने के बाद रांची पुलिस ने दोनों आरोपियों के घर पर इश्तेहार चिपकाकर सरेंडर करने का आदेश दिया. लेकिन दोनों ने सरेंडर नहीं किया. जिसके बाद दोनों के घरों की कुर्की की गई. इसके बावजूद दोनों ने अब तक सरेंडर नहीं किया.

राजनीतिक पहुंच का उठा रहा फायदा

मिली जानकारी के अनुसार लोकेश चौधरी और एमके सिंह बिहार में ही कहीं छिपकर रह रहा है. बताया जा रहा है कि लोकेश चौधरी बिहार की राजनीतिक गलियारों में अच्छी पकड़ रखता है. और वह इसी का फायदा उठा रहा है. शायद यही वजह हो सकती है कि पुलिस दोनों का पता लगाने में असफल है. हालांकि इस मामले में पुलिस हमेशा से कहते आ रही है कि लोकेश चौधरी और एमके सिंह को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. लेकिन कब गिरफ्तारी होगी इसका जवाब किसी के पास नहीं.

इसे भी पढ़ें – हजारीबाग में फिर शुरू हुआ लिंकेज कोयले का अवैध कारोबार, पुलिस के दो अफसरों को हर माह मिलता है 1.50…

जानिए पूरा घटनाक्रम

  • 6 मार्च 2019 को अशोक नगर रोड नंबर 1 में एक निजी न्यूज कार्यालय में शाम के समय अग्रवाल ब्रदर्स की गोली मारकर हत्या.
  • 7 मार्च 2019 को अशोक नगर रोड नंबर 1 स्थित निजी न्यूज चैनल कार्यालय से अग्रवाल ब्रदर्स का शव बरामद.
  • 11 मार्च 2019 को लोकेश चौधरी के ड्राइवर शंकर को पुलिस ने पटना से किया गिरफ्तार.
  • 14 मार्च 2019 को लोकेश चौधरी के बॉडीगार्ड को पुलिस ने बोकारो थर्मल से किया गिरफ्तार.
  • 19 मार्च 2019 को एमके सिंह के बॉडीगार्ड धर्मेंद्र तिवारी ने कोर्ट में किया सरेंडर.
  • 24 मार्च 2019 अग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांड में शामिल दो आरोपी सुनील सिंह और धर्मेंद्र तिवारी को रांची पुलिस ने चार दिन की रिमांड पर लिया.
  • 25 मार्च 2019 को लोकेश चौधरी और एमके सिंह के घर पुलिस ने चिपकाया इश्तेहार.
  • 7 अप्रैल 2019 को लोकेश चौधरी और एमके सिंह के घर पुलिस ने कुर्की जब्ती किया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: