न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जमीन हड़पने के खिलाफ आदिवासी समाज 9 नवंबर को करेगा विशेष महाधिवेशन

32

Ranchi: सरकार आदिवासी समाज को जड़ से समाप्त करना चाहती है. इसलिए आदिवासी जमीन को गैर-आदिवासियों के लिए खरीदने का प्रावधान किया जा रहा है. आदिवासी की जमीन पर फर्जी हुकुमनामा बनाकर हड़पी जा रही है. इसका आदिवासी समाज पुरजोर विरोध करेगी. ये बातें आदिवासी जन परिषद के प्रेम शाही मुंडा ने कही. उन्‍होंने कहा कि तमाड़ में अड़की से दलभंगा तक और बघई ग्राम की सड़क का निर्माण किया जा रहा है. लेकिन, सड़क के निर्माण में गुणवत्‍ता का कोई ख्याल नहीं रखा जा रहा है. सड़क निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल हो रहा है. इस घोटाले से संबंधित एक ज्ञापन मुख्य सचिव को सौंपी जायेगी. जिसमें सड़क निर्माण और इसमें इस्तेमाल की जा रही  सामग्रियों की जांच कराने की मांग की जायेगी. साथ ही गलत पाये जाने पर संवेदक को ब्लैकलिस्टेड करने की भी मांग की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःदिवाली में 10 बजे रात के बाद पटाखा जलाया तो एक लाख रुपये का लगेगा जुर्माना 

दिउड़ी मंदिर से पहान पुरोहितों को हटाने का परिषद करेगा विरोध

प्रेम शाही मुंडा ने कहा कि तमाड़ प्रखंड में दिउड़ी मंदिर के विकास के नाम पर यदि आदिवासी समाज की भूमि का अधिग्रहण किया गया तो आदिवासी जन परिषद सड़क पर उतर कर विरोध करेगी. उन्होंने कहा कि दिउड़ी मंदिर में आदिकाल से ही पहान पुरोहितों द्वारा पूजा होती रही है. दिउड़ी मंदिर से पहान पुरोहितों को हटाने के लिए धार्मिक षड्यंत्र रची जा रही है. यदि ऐसा कुछ हुआ तो परिषद् शांत नहीं बैठेगा, इसके विरोध में आंदोलन किया जायेगा. इन सभी मुद्दों को लेकर आदिवासी जन परिषद के तत्वावधान में आगामी नौ नवंबर को विशेष महाधिवेशन का आयोजन किया जायेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: