न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फिर सामने आयी रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की गुंडागर्दी, भाजपा नेता के परिजन से की मारपीट

295
  • इलाज करने को कहने पर देने लगे गाली
  • एक साल में चौथी बार जूनियर डॉक्टरों ने मरीजों व परिजनों के साथ की मारपीट

Ranchi: रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की बदसलूकी रुक ही नहीं रही है. जूनियर डॉक्टर बात-बात पर मरीजों से औकात में रहने की हिदायत देते हैं. मरीजों से बदतमीजी उनके लिए आम बात है. एक बार फिर जूनियर डॉक्टरों ने अपनी गुंडागर्दी दिखायी है. इस बार गिरिडीह के भाजपा नेता के परिजन पंकज कुशवाहा के साथ मेडिसिन विभाग के डॉ चंदन कुमार ने मारपीट की है.

देखें वीडियो-

इसे भी पढ़ें- झारखंड में सरकारी वेकेंसी का नहीं भरना और उद्योग का विकास नहीं होना बेरोजगारी का बड़ा कारण

गिरिडीह के बगोदर विधानसभा के भाजपा मंडल अध्यक्ष उदय का पैर टूटने के बाद ईलाज के लिए रिम्स लाया गया था. पीड़ित पंकज ने बताया कि इमरजेंसी में डॉक्टर बातचीत के दौरान बदतमीजी करने लगे. विरोध करने पर गाली-गलौच पर उतारू हो गये. उसके बाद धमकी दी और फिर मारपीट करने लगे.

एक साल में चौथी बार मरीजों के परिजनों पर जूनियर डॉक्टरों ने उठाया हाथ

रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की गुंडागर्दी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक साल के अंदर चौथी बार जूनियर डॉक्टरों के मरीजों को मारने का मामला प्रकाश में आया है. कई बार तो लोग मामला ईलाज कराने और मजबूरी के कारण सामने नहीं आने देते.

इसे भी पढ़ें – चार साल बाद भी खड़ा नहीं हो पाया बिजली कंपनियों का संगठनात्मक ढांचा, अफसरों और इंजीनियरों के पद नाम भी नहीं बदले

सबसे पहले 2 जून 2018 को महिला की मौत के बाद मरीजों के परिजनों की शिकायत के कारण जूनियर डॉक्टरों ने बहुत मारा था. जिसके बाद ही रिम्स की नर्सें हड़ताल पर चली गयीं थीं. वहीं आठ सितंबर 2018 को चतरा बंदगांवा की महिला सुदैन खातून और उनके परिजनों के साथ मारपीट की थी, तीसरी बार 1 दिसंबर को डॉक्टर सोमनाथ सेन गुप्ता ने मरीज के परिजन को गाली भी थी दी और मरीज शंकर सोनी के अनुसार दस से बारह डॉक्टरों ने मरीज के भतीजे सूरज को पटक-पटक कर मारा था.

इसे भी पढ़ें – नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ राजीव कुमार ने कहा- झरिया पुनर्वास से संबंधित कार्यों में तेजी लायें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: