न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मोमेंटम झारखंड में हुए खर्चों की जांच करेगा एजी, सरकार से खर्चों की फाइल मांगी

57

Ranchi: मोमेंटम झारखंड एक बार फिर से चर्चा में है. इस बार मोमेंटम झारखंड एजी के रडार पर है. न्यूज विंग आयोजन के बाद से ही लगातार मोमेंटम झारखंड में हुई शाहखर्ची को लेकर लिखता आया है. पाठकों को बताता रहा है कि कैसे पानी की तरह निवेश के नाम पर पैसे बहाये गये. जितने निवेश का दावा रघुवर सरकार की तरफ से किया जा रहा था उतना नहीं हुआ. मोमेंटम झारखंड के आयोजन में हुआ खर्च शुरू से ही विवादों के घेरे में रहा है. अब एजी ने सरकार से कहा है कि मोमेंटम झारखंड के खर्चों की ऑडिट होगी. खर्च से संबंधित सारे कागजात को एजी कार्यालय में जमा करने को कहा गया है.

इसे भी पढ़ें – मंत्री रणधीर सिंह के साथ गाली-गलौज, लोगों ने कैसे धक्का-मुक्की कर मंच से उतारा देखें वीडियो

चार अधिकारी करेंगे ऑडिट

घोटाले की आशंका के मद्देनजर भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक कार्यालय झारखंड स्थित निकाय ने जांच की पहल की है. एजी ने मोमेंटम झारखंड के स्पेशल ऑडिट के आदेश दिए हैं. झारखंड के प्रधान महालेखाकार की ओर से चार अधिकारियों को ऑडिट के इस काम के लिए तैनात किया गया है. इन्हें सम्मेलन के दौरान हुई पूरी खर्च में अनियमितताओं की तहकीकात करने के लिए कहा गया है. नियमों के उल्लंघन की भी जांच होगी. इसके अलावा बिना सही प्रावधान के किए गए खर्च की पूरी रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है. झारखंड सरकार की ओर से मोमेंटम झारखंड 16-17 फरवरी 2017 को खेलगांव में आयोजित किया गया था. इसमें देश और दुनिया की बड़ी कंपनियों ने झारखंड में निवेश के लिए तीन लाख दस हजार करोड़ के निवेश के करार किए थे.

इसे भी पढ़ें- नोटबंदी : दूसरी सालगिराह पर पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा- तबाही का असर अब स्पष्ट हो चुका है

25 करोड़ था बजट खर्च हो गए 70 करोड़

आयोजन का बजट 25 करोड़ था और सरकार ने आयोजन में 70 करोड़ खर्च किए. 19 करोड़ तो केवल आयोजन स्थल पर खर्च हुए. 43 करोड़ रुपए प्रचार पर खर्च हुए. पांच करोड़ शहर को सजाने और तीन करोड़ रुपए रांची की सड़कों को बिजली-बत्ती से सजाने पर खर्च हुए. ऐसे खर्चों में उचित प्रक्रिया का पालन नहीं होने की चर्चा के बाद एजी ने स्पेशल ऑडिट का फैसला किया है. सिंगापुर, संघाई और न्यूयॉर्क में तीन अंतरराष्ट्रीय रोड शो किए गए थे. दिल्ली, कोलकाता, मुंबई हैदराबाद और बेंगलुरु में कार्यक्रम का आयोजन हुआ था.

इसे भी पढ़ें – गोल्डेन कार्ड होते हुए भी रिम्स के ऑर्थो वार्ड के मरीजों को नहीं मिल रहा इसका लाभ

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: