Lead NewsWorld

बचपन में ‘स्टार ट्रेक’ देखने के बाद नासा पहुंचने का तैयार हुआ रास्ता : स्वाति मोहन

Washington: भारतवंशी एयरोस्पेस इंजीनियर स्वाति मोहन ने गुरुवार को अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन को बताया कि नासा में आने का रास्ता उस वक्त खुल गया था जब उन्होंने बचपन में ‘स्टार ट्रेक’ की पहली कड़ी देखी थी.

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के ‘पर्सेवियरेंस’ रोवर के मंगल की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने के अभियान में स्वाति मोहन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी.

स्वाति ने नासा के मंगल 2020 अभियान में दिशा-निर्देश, दिशा-सूचक और नियंत्रण अभियान का नेतृत्व किया. पर्सेवियरेंस रोवर 18 फरवरी को मंगल की सतह पर उतरा था. स्वाति मोहन पहली व्यक्ति थीं जिन्होंने यह पुष्टि की थी कि रोवर सफलतापूर्वक मंगल की सतह पर उतर गया है.

इसे भी पढ़ें :देश में 1.8 करोड़ से अधिक लोगों को लगा कोरोना का टीका

वह जब एक साल की थीं तभी उनका परिवार भारत से अमेरिका आ गया था. स्वाति ने कहा कि अंतरिक्ष के लिए उनकी जिज्ञासा बचपन में तब से शुरू हो गयी थी जब वह लोकप्रिय टीवी शो ‘स्टार ट्रेक’ देखा करती थीं.

स्वाति ने डिजिटल माध्यम से बाइडन से बातचीत के दौरान बताया कि अंतरिक्ष के अद्भुत दृश्यों ने सबसे ज्यादा मेरा ध्यान खींचा और अंतरिक्ष के अन्वेषण के लक्ष्य के इरादे से काम करने लगी.

राष्ट्रपति बाइडन ने नासा की टीम को पिछले महीने मंगल पर छह पहिए का रोवर सफलतापूर्वक उतारने के अभियान और अमेरिका का विश्वास बढ़ाने के लिए बधाई दी. स्वाति ने बताया कि जैसे-जैसे दिन करीब आ रहे थे हम वाकई बहुत घबराहट महसूस कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें : PLI योजना से बढ़ेंगे रोजगार के अवसर, पांच साल में उत्पादन में होगी 520 अरब डॉलर की वृद्धि: पीएम मोदी

अभियान के अंतिम सात मिनट में तो धड़कनें और बढ़ गयी थी. मंगल की सतह पर रोवर के उतरने की पहली तस्वीरें मिलने के बाद जैसे लगा कि कोई सपना पूरा हो गया.

बाइडन ने अंतरिक्ष एजेंसी के जेट प्रणोदन प्रयोगशाला की टीम के नेतृत्व से वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बातचीत की और ‘पर्सेवियरेंस रोवर’ के 18 फरवरी को मंगल की सतह पर उतरने की घटना पर खुशी जाहिर की.

बाइडन ने स्वाति मोहन और अभियान से जुड़े नासा के अन्य वैज्ञानिकों की सराहना की. बाइडन ने कहा कि आपने लाखों बच्चों, अमेरिकी युवाओं के सपनों को पूरा किया. आपकी टीम ने जो काम किया, उससे आपने अमेरिकी लोगों का भरोसा बढ़ाया.

बाइडन से बातचीत में स्वाति ने कहा कि पर्सेवियरेंस मेरा पहला अभियान है और जेपीएल में मुझे शुरुआत से काम करने का मौका मिला. अभियान के दौरान इन सभी बातों ने मुझे एहसास कराया कि मैं भी चालक दल की सदस्य हूं.

इसे भी पढ़ें : GOOD NEWS : रसोई गैस सिलेंडर LPG लेने के बनाये गये नये नियम, जानिये क्या होगा आपको फायदा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: