न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलवामा हमले के बाद अरब सागर में तैनात किये गये थे 60 पोत, 80 विमान और परमाणु पनडुब्बी

नौसेना पहले से ही एक बड़ा अभ्यास कर रही थी, लेकिन 14 फरवरी के पुलवामा हमले के बाद पोतों को अभ्यास के बदले कार्रवाई के लिए तैनात कर दिया गया.

69

NewDelhi :  नौसेना ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था. इस सबंध में नौसेना अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी कि उत्तरी अरब सागर में विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य, परमाणु पनडुब्बी चक्र, 60 पोत और करीब 80 विमान तैनात किये गये थे.  बताया कि नौसेना पहले से ही एक बड़ा अभ्यास कर रही थी, लेकिन 14 फरवरी के पुलवामा हमले के बाद पोतों को अभ्यास के बदले कार्रवाई के लिए तैनात कर दिया गया. जानकारी दी कि नौसेना के लगभग 60 पोतों के साथ ही भारतीय तटरक्षक बल के 12 पोतों और करीब 80 विमानों को तैनात कर दिया गया. नौसेना के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने बताया कि नौसेना ट्रॉपेक्स अभ्यास में जुटी थी और इससे उसे जल्दी ही बदलती स्थिति में जवाब देने के लिए पोतों को तैनात करने में मदद मिली.

उन्होंने कहा कि सतह, समुद्र के अंदर और हवा में भारतीय नौसेना की श्रेष्ठता के कारण पाकिस्तानी नौसेना की गतिविधियां मकरान तट तक ही सीमित रहीं और वे खुले सागर में नहीं आये. नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा सोमवार को कोच्चि नौसेना बेस में ट्रॉपेक्स के नतीजों का आकलन करेंगे. नौसेना के प्रवक्ता ने कहा कि कमांडरों के साथ एडमिरल लांबा की दिन भर की समीक्षा का मकसद अभ्यास के संचालन की जांच करना और भारतीय नौसेना की तैयारियों का जायजा लेना है.

Related Posts

यूरोपीय संसद में #KashmirIssue पर भारत का समर्थन, पाकिस्तान की निंदा, कहा, चांद से आतंकी नहीं आते

भारत दुनिया का सबसे महान लोकतंत्र है.  हमें भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में होने वाली आतंकी घटनाओं पर गौर करने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें : झूठ फैला रहे हैं राहुल गांधी, विपक्ष मतदाताओं को कम आंक रहा है  : जेटली  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: