JamshedpurJharkhand

पति के गुजरने के बाद 5 बेटियां पालने को मजदूर बनी मालती की रिम्स में मौत, मुआवजे की मांग पर ग्रामीणों ने दिया धरना

Ghatshila :  काम करने के दौरान घायल हुई जादूगोड़ा थाना अंतर्गत सांखोडीह निवासी मालती मार्डी  की रांची रिम्स में इलाज के दौरान मौत हो गयी. मालती के मारने के बाद उसकी पांच बेटियां अनाथ हो गई हैं. उसकी मौत से आक्रोशित ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग को लेकर रविवार की शाम यूसिल आवासीय कॉलोनी में ठेकेदार के घर के सामने शव के साथ करीब 4 घंटे तक धरना दिया.  मामले की जानकारी मिलने पर मुसाबनी अंचलाधिकारी प्रशांत हेम्ब्रम घटना स्थल पर पहुंचे व ठेकेदार से बात करने का प्रयास किया परंतु बात नही हो सकी. हेम्ब्रम ने शव को यूसिल अस्पताल के शीतगृह में रखवा दिया गया है.  सोमवार को ठेकेदार को बुलाकर वार्ता कर मालती के बच्चों को उचित मुआवजा दिलवाने का प्रयास किया जाएगा.  ग्रामीणों का कहना है कि जब तक मृतक के परिजनों को मुआवजा नहीं मिल जाता, तब तक शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे.

भाजपा नेता लिटा राम मुर्मू ने बताया कि मालती के पति किसून मार्डी की मौत सात माह पहले ट्रेन दुर्घटना में हो गई थी. पति को मौत के बाद मालती पांच बच्चियों का पेट पालने के लिए मजदूरी करने लगी. 12 सितंबर को ठेकेदार हरीश भगत उसे काम करवाने के लिए घाटशिला ले गया, जहां काम के दौरान उसके सिर पर सीमेंट का बोरा गिर गया. इस घटना में उसके गर्दन की हड्डी टूट गई थी. उसे इलाज के लिए टीएमएच में भर्ती कराया गया, जहां से रिम्स रेफर कर दिया गया. शनिवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. अब मालती की पांच बेटियां अनाथ हो गयी हैं. ग्रामीणों ने मांग की है कि ठेकेदार 10 लाख रुपये मुआवजा दे.

इसे भी पढ़ें – मैट्रिक पास अमित कुमार ने मयंक सिंह बनकर कारोबारियों की नाक में कर रखा था दम

Sanjeevani

Related Articles

Back to top button