DhanbadJharkhand

पीएम के आह्वान के बाद चलने लगे कुम्हारों के चाक, मिलने लगे दीयों के ऑर्डर

विज्ञापन

Dhanbad : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद कोयलांचल के कुम्हार समाज में गजब की खुशी और उत्साह देखा जा रहा है. शनिवार की सुबह शहर के मनईटांड़ स्थित कुम्हारपट्टी में वर्षों से रहनेवाले कुम्हार समाज के घरों में हलचल बढ़ गयी और लोग अपने काम में जुट गये हैं. उन्हें विश्वास है कि प्रधानमंत्री के आह्वान के बाद बाद उनके दीये जरूर बिकेंगे.

देखें वीडियो

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdates: कुल 2902 केस आये, 30 फीसदी केस तबलीगी जमात से जुड़े – स्वास्थ्य मंत्रालय

advt

लॉकडाउन में पड़ने लगे थे खाने के लाले

जब कुम्हारों से न्यूज विंग की टीम ने जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि कुम्हार समाज के लिए सरकार द्वारा कोई वित्तीय सुविधा नहीं मिलने के बावजूद कई दशकों से वह खानदानी रूप से मिट्टी के बर्तन बनाने के काम में लगे हुए हैं.

आधुनिक समाज में तरह-तरह की रंगीन झालरों के प्रचलन के बाद उनके पुश्तैनी धंधे में वीरानी छा गयी है. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के वजह से देशव्यापी लॉकडाउन में उन्हें खाने के लाले पड़ गये थे. ऐसे समय देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से दीप जलाने और रोशनी करने की अपील की है. जिससे उनके रोजगार में तेजी आ गयी.

पिछले 24 घंटों में कई जगह से उन्हें भारी संख्या में दीये बनाने के ऑर्डर मिले हैं. अगर ऐसा ही रहा तो उनके धंधे में चार चांद लग जायेंगे. इसके लिए वह पीएम मोदी के आभारी हैं.

इसे भी पढ़ें – राजीव अरुण एक्का को सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव और जेबीवीएनएल के एमडी का भी प्रभार

adv

कुम्हारों ने कहा - अधिक से अधिक जलायें दीप

वहीं इस मौसम में उनके द्वारा बनाये गये मिट्टी के घड़ों की ही बिक्री होती थी. लेकिन प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद दीये बनाने के भारी मात्रा में मिले ऑर्डर से उन्हें काफी खुशी है. उनकी लोगों से यही प्रार्थना है कि प्रधानमंत्री की अपील को ध्यान में रखते हुए अपने घरों में ज्यादा से ज्यादा संख्या में दीप प्रज्ज्वलित कर कोरोना नामक वैश्विक महामारी को खत्म करने के संघर्ष में बढ़-चढ़ कर भाग लें.

इसे भी पढ़ें – #Coronaeffects : वित्त विभाग का निर्देश – राजस्व में संभावित कमी के कारण नहीं होगा निर्माण कार्य से जुड़ा व्यय

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button