न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एडवोकेट जनरल से लीगल एडवाइस लेने के बाद देवघर पुलिस करेगी प्रदीप यादव पर कार्रवाई

यौन उत्पीड़न के मामले में पुलिस जांच में दोषी पाये गये हैं विधायक

346

Ranchi: जेवीएम महिला नेत्री से यौन उत्पीड़न के मामले जेवीएम के पोड़ैयाहाट विधायक प्रदीप यादव को पुलिस जांच में दोषी पाया गया है. इस मामले में देवघर पुलिस एडवोकेट जनरल से लीगल एडवाइस लेने के बाद ही प्रदीप यादव के ऊपर कोई भी कार्रवाई करेगी.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : पलक झपकते हटा दिए गए सरायढेला थानेदार, कोयलांचल से लेकर राजधानी रांची तक चर्चा 

इस मामले में देवघर एसपी नरेंद्र कुमार सिंह का कहना है कि प्रदीप यादव की जमानत याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया है. प्रदीप यादव थाने में आकर अपना बयान भी दर्ज करा चुके हैं. यौन उत्पीड़न के मामले में सात साल या इससे कम की सजा हो सकती है. नियम कहता है सात साल या इससे कम की सजा होने पर आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए. साथ ही आरोपी जांच में सहयोग भी कर रहा है, तो उसे अरेस्ट नहीं किया जाना चाहिए. लेकिन कोर्ट से बेल रिजेक्ट होने के बाद पुलिस के पास दोनों ऑप्शन मौजूद हैं. मामला हाइकोर्ट में जाना है इसलिए लीगल एडवाइस लेने के बाद ही पुलिस प्रदीप यादव के खिलाफ कोई भी कार्रवाई करेगी.

इसे भी पढ़ें – गढ़वा : अन्नराज नावाडीह घाटी में अनियंत्रित होकर गिरी बस, छह की मौत, कई घायल

पुलिस की जांच में दोषी पाये गये हैं प्रदीप यादव

जेवीएम महिला नेत्री से यौन उत्पीड़न के मामले जेवीएम के पोड़ैयाहाट विधायक प्रदीप यादव को पुलिस जांच में दोषी पाया गया है. केस की अनुसंधानकर्ता साइबर डीएसपी नेहा बाला की रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है. पुलिस की जांच में प्रदीप यादव के खिलाफ आइपीसी की धारा 354, 354ए, 354बी, 354डी, 506 और 509 में मामला सत्य पाया गया है.

इसे भी पढ़ें – Corruption: शिक्षा विभाग में हर काम के लिए रेट तय, स्थिति नियंत्रण से बाहर, निदेशक की अपील- ACB  को दें सूचना, होगी कार्रवाई

SMILE

कोर्ट ने जमानत याचिका को कर दिया है खारिज

यौन उत्पीड़न मामले में आरोपी पोड़ैयाहाट से जेवीएम विधायक प्रदीप यादव की जमानत याचिका को 18 जून को कोर्ट ने खारिज कर दिया था. जेवीएम की एक महिला नेत्री द्वारा प्रदीप यादव पर बीते 20 अप्रैल को होटल शिव सृष्टि पैलेस में बुला कर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया गया था. 2 मई को महिला ने साइबर थाना में यौन उत्पीड़न का केस दर्ज कराया था. मामले के बाद पुलिस द्वारा उक्त होटल को भी सीज किया गया था. वहां फोरेंसिक टीम को भी बुलाया गया था.

इसे भी पढ़ें – रिपोर्टः हाल के दिनों तेजी से बढ़ा हेट क्राइम, बीजेपी शासित राज्यों में 66% घटनाएं

13 जून को दर्ज कराया था अपना बयान

13 जून को प्रदीप यादव ने साइबर थाना में एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव एवं कांड की आइओ संगीता कुमारी के समक्ष बयान दर्ज करवाया था. पुलिस ने बंद कमरे में उनसे दो घंटे तक पूछताछ की थी. प्रदीप यादव को अपना पक्ष रखने के लिए सात जून का समय दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने समय मांगा था. उन्हें 13 जून का समय दिया गया था. दिये गये समय पर आकर उन्होंने पक्ष रखा था.

इसे भी पढ़ें – छोटे मामले मुख्यमंत्री जनसंवाद में पहुंचने पर भड़के सीएम, कहा- जिलास्तर पर मामलों को निपटाये डीसी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: