JamshedpurJharkhandNEWS

एमजीएम में सर्जिकल डिलिवरी के बाद मरीज का टांका खुला, शिकायत पर भी नहीं हुआ इलाज, अधीक्षक को करना पड़ा हस्तक्षेप

Jamshedpur : जमशेदपुर का एमजीएम अस्पताल अक्सर सुर्खियों में ही रहता है. पिछले दिनों ही नर्स द्वारा गायनिक वार्ड में एक महिला से मारपीट का मामला सामने आया था. अब इलाज में लापरवाही की बात सामने आई है. दरअसल पटमदा के आइगोडांगरा निवासी रंजीत रजक की पत्नी सरस्वती देवी को प्रसव पीड़ा के बाद एमजीएम अस्पताल में एडमिट कराया गया था. 10 दिन पहले उसे ऑपरेशन से एक बच्चा भी हुआ. ऑपरेशन के चार दिन बाद ही पेट में लगे टांके खुलने लगे. ऑपरेशन की हुई जगह से पस निकलने लगा. इसके बाद रंजीत ने अस्पताल प्रबंधन से कई बार शिकायत भी की, पर इलाज नहीं हुआ. इस बीच सरस्वती की स्थिति गंभीर होने लगी, तो  शनिवार को रंजीत ने इसकी शिकायत भाजपा नेता विमल बैठा से की.

सूचना पाकर विमल बैठा अस्पताल पहुंचे और मरीज के परिजनों के साथ अस्पताल के अधीक्षक से मिले और उन्हें सारी जानकारी दी. अधीक्षक ने मामले को संज्ञान में लिया और तत्काल सरस्वती के इलाज का आदेश दिया. फिलहाल सरस्वती का इलाज किया जा चुका है. उसकी स्थिति खतरे से बाहर है. इधर अस्पताल के अधीक्षक डॉ अरुण कुमार ने कहा कि उन्हें अभी तक मामले की लिखित शिकायत नहीं मिली है. फिर भी परिजनों के मिलने पर उन्होंने  जांच का आदेश दिया है.  जांच में अगर लापरवाही पायी गयी, तो जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जायेगी.

advt

इसे भी पढ़ें– BIG NEWS : BJP का दामन छोड़ दीदी का पल्लू पकड़ा पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: