ChaibasaJamshedpurJharkhand

Jamshedpur: सोनारी के बाद अब कदमा में गेल की पीएनजी परियोजना पहुंची, प्रोफेशनल फ्लैट कदमा में परियोजना का उदघाटन, इस वर्ष कदमा के एक हजार घरों में गैस आपूर्ति का लक्ष्य

Jamshedpur: गेल इंडिया लिमिटेड ने मंगलवार को कदमा क्षेत्र के टाटा स्टील आवासीय परिसर में पाइप्ड प्राकृतिक गैस (पीएनजी) की आपूर्ति के लिए एक परियोजना शुरू की. परियोजना का उद्घाटन चाणक्य चौधरी, उपाध्यक्ष, कॉर्पोरेट सेवा टाटा स्टील, गौरीशंकर मिश्रा, महाप्रबंधक, सीजीडी परियोजना, गेल, संजीव कुमार चौधरी, अध्यक्ष, टाटा वर्कर्स यूनियन (टीडब्ल्यूयू) की उपस्थिति में प्रोफेशनल फ्लैट्स (ब्लॉक सी) कदमा में हुआ. पीएनजी अधिक कुशल और हरित जीवाश्म ईंधन में से एक है और अन्य जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करता है. जमशेदपुर में प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा परियोजना के प्रसार में इसे महत्वपूर्ण मील का पत्थर माना जा रहा है. वित्त वर्ष 2022-23 तक गेल टाटा स्टील आवासीय कॉलोनी क्षेत्रों में एक हजार किचेन बनाने के साथ ही 5000 घरों में पीएनजी के लिए बुनियादी ढांचा विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है.

वर्तमान में सोनारी क्षेत्र के एक हजार घरेलू उपभोक्ताओं को ट्राइबल कल्चरल सेंटर सोनारी के पास स्थापित डी-कम्प्रेशन यूनिट (डीसीयू) के माध्यम से पर्यावरण के अनुकूल, किफायती और स्वच्छ ईंधन मिल रहा है. यह परियोजना रसोई गैस की आपूर्ति जारी रखना सुनिश्चित करेगी. ग्राहकों द्वारा भुगतान वास्तविक खपत के आधार पर होगा. इसके अलावा यह उपयोगकर्ताओं के लिए सुरक्षित, सुविधाजनक, पर्यावरण के अनुकूल और किफायती है. इस वित्तीय वर्ष में ईसीसी फ्लैट्स, प्रकृति विहार, प्रोफेशनल फ्लैट-ए एंड बी, केएफ टू फ्लैट और कैसर बंगला आदि को कवर करने की योजना है.

उल्लेखनीय है कि गेल (इंडिया) लिमिटेड प्राकृतिक गैस मूल्य श्रृंखला में विविध हितों के साथ भारत की अग्रणी प्राकृतिक गैस कंपनी है और देश में फैली लगभग 14,381 किमी प्राकृतिक गैस पाइपलाइनों के नेटवर्क का संचालन करती है. “प्रधान मंत्री ऊर्जा गंगा प्राकृतिक गैस पाइपलाइन परियोजना” के निष्पादन पर भी साथ-साथ काम कर रहा है, जिसे “जगदीशपुर-हल्दिया बोकारो-धामरा प्राकृतिक गैस पाइपलाइन (जेएचबीडीपीएल) परियोजना” भी कहा जाता है. इस परियोजना की अनुमानित लंबाई 2540 किमी की है और इसका उद्देश्य पूर्वी राज्यों की ऊर्जा आवश्यकता को पूरा करने के लिए देश के पूर्वी हिस्से को राष्ट्रीय गैस ग्रिड से जोड़ना है.”प्रधान मंत्री ऊर्जा गंगा परियोजना” के तहत वाराणसी, पटना, जमशेदपुर, रांची, भुवनेश्वर और कटक शहरों में गैस वितरण परियोजनाओं को विकसित करने की जिम्मेदारी भी दी गई है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

ये भी पढ़ें- कुलपति से ज्यादा आरोपपति रहे हैं गंगाधर पंडा, पत्नी और बेटे की नियुक्ति में भी धांधली करने का लगा आरोप

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

Related Articles

Back to top button