न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेल से निकलने के बाद कारोबारियों से रंगदारी मांग रहे हैं अपराधी

73

Ranchi: जेल में बंद और जेल से जमानत पर निकले अपराधी शहर के व्यवसायियों, ठेकेदारों व जमीन कारोबारियों से रंगदारी की मांग कर रहे हैं. इनमें सुजीत सिन्हा, संदीप थापा, गेंदा सिंह और जमानत पर छूटे आरोपी सोनू इमरोज के नाम भी शामिल हैं. एक सप्‍ताह पहले जहां जेल में बंद अपराधी गेंदा सिंह एक व्यवसायी से रंगदारी की मांग की, वहीं बीती रात राजधानी के फॉर्क एंड कॉर्क होटल के मालिक से जेल से जमानत पर निकले सोनू इमरोज ने खुद जाकर रंगदारी की मांग की थी. राजधानी रांची में इन अपराधियों ने लेवी, रंगदारी और फिरौती के पैसों से करोड़ों की संपत्ति अर्जित की है.

इसे भी पढ़ें: महागठबंधन की कवायद तेज, नायडू ने शरद पवार और फारुक अब्दुल्ला से की मुलाकात

हर महीने वसूल रहे हैं रंगदारी

जेल में बंद होने के बाद भी इन अपराधियों का वर्चस्व कम नहीं हुआ है. जानकारी के अनुसार कोयला कारोबारी, ट्रांसपोटर्स, व्यापारी, जमीन दलाल और होटल व्यवसायी अपराधियों को लेवी देते हैं. हर माह इनके गिरोह से सदस्य पैसे की वसूली करते हैं. जो पैसा देने में आनाकानी करते हैं, उसकी बात वे जेल में बंद मास्टरमाइंड से मोबाइल पर सीधे कराते हैं.

इसे भी पढ़ें: बिजली नहीं होने के कारण अधर में लटका रिम्स हॉस्टल का निर्माण कार्य

स्पेशल ब्रांच ने अपराधियों कि संपति का लगाया पता

ये सभी अपराधी वसूले गये पैसे को अब रियल इस्टेट में अपने करीबियों के नाम से लगा रहे हैं. बता दें कि स्पेशल ब्रांच ने अपराधियों द्वारा राजधानी में अर्जित संपत्ति का पता लगा कर इनकी विस्तृत रिपोर्ट डीजीपी को दी है और संपत्ति जांच करवाने को कहा है.

जेल में बंद आरोपी गेंदा सिंह व्यवसायियों को फोन कर मांग रहा रंगदारी

बता दें कि जेल में बंद आरोपी ने 23 अक्टूबर को व्यवसायियों को फोन कर रंगदारी की मांग की थी. साथ ही रंगदारी नहीं देने पर वह गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहा था. इसका खुलासा उस वक्त हुआ, जब अरगोड़ा चौक पर खड़े 15 से अधिक लोगों ने इसकी जानकारी अरगोड़ा थाने के एएसआई संतोष महतो को दी. एएसआई के बयान पर एफआईआर दर्ज कर ली गयी. प्राथमिकी में वे दोनों मोबाइल नंबर का भी जिक्र किया गया है, जिनसे गेंदा सिंह फोन कर रहा था.

इसे भी पढ़ें: कोई तो ले लो इनके दीये, इन्हें भी मनानी है दिवाली

रंगदारी मांगने गया था सोनू इमरोज़

मेन रोड ओवर ब्रिज के समीप फॉर्क एंड कॉर्क रेस्टोरेंट के संचालक ऋषि सिंह से रंगदारी के मांगने के इरादे से मंगलवार को सोनू इमरोज अपने पांच साथियों के साथ फॉर्क एंड कॉर्क पहुंचे था. लेकिन, ऋषि सिंह के वहां नहीं रहने के कारण सभी लौट गये. बताया जाता है कि सोनू इमरोज जब जमशेदपुर जेल में बंद था, तो उस समय भी ऋषि सिंह को हर महीने 5 लाख रुपये रंगदारी देने को कहा था.

रंगदारी नहीं देने के चलते हुई बाबू खान की हत्या

मंगलवार की देर रात नगड़ी थाना क्षेत्र के रहने वाले बाबू खान की हत्या रंगदारी नहीं देने के कारण कर दी गयी. बाबू खान के परिजनों के अनुसार चार-पांच दिन पहले उससे 5 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गयी थी. और रंगदारी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी भी दी गई थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: