न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज ठाकरे के बाद #Shiv_Sena ने भी कहा, बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों को बाहर निकाला जाना चाहिए

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने कहा, सावरकर और बालासाहेब के हिंदुत्व के मुद्दे को लेकर चलना बच्चों का खेल नहीं है.  फिर भी अगर कोई हिंदुत्व की बात कर रहा है तो हमारे पास उसका स्वागत करने की दिलदारी है.

51

NewDelhi : बांग्लादेशी और पाकिस्तानी मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर निकाला जाना चाहिए. शिवसेना के मुखपत्र सामना ने अपने संपादकीय में इस बात पर जोर दिया है. इससे पहले महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के प्रमुख राज ठाकरे बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों को बाहर निकालने को लेकर मोदी सरकार को अपना समर्थन देने की बात कह चुके हैं.  राज ठाकरे द्वारा दिये गये बयान के दो दिन बाद शिवसेना ने शनिवार को कहा कि इन देशों के मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर निकाला जाना चाहिए.

इस क्रम में शिवसेना ने हिंदुत्व की तरफ अपनी विचारधारा बदलने के लिए राज ठाकरे पर निशाना साधा. कहा कि वीडी सावरकर और दिवंगत पार्टी संस्थापक बालासाहेब ठाकरे द्वारा प्रसारित विचारधारा के तौर पर हिंदुत्व का मुद्दा लेकर चलना बच्चों का खेल नहीं है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

जान लें कि शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा, पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर करना चाहिए. इसमें कोई शक नहीं होना चाहिए. लेकिन यह देखना दिलचस्प है कि एक पार्टी इसके लिए अपना झंडा बदल रही है. कहा  कि दो झंडे होना दिमाग में भ्रम की स्थिति दिखाता है.  जान लें कि राज ठाकरे ने मराठी मुद्दे पर 14 साल पहले अपनी पार्टी की स्थापना की थी लेकिन अब यह हिंदुत्व की ओर जाती दिख रही है.

इसे भी पढ़े : शशि थरूर ने कहा,  मुस्लिम लीग से पहले सावरकर ने धर्म के आधार पर #Two_Nation_Theory दी थी

हिंदुत्व पर चलना बच्चों का खेल नहीं

राज ठाकरे ने गुरुवार को अपनी पार्टी के नये झंडे का अनावरण किया जो भगवा रंग का है और जिसमें योद्धा राजा शिवाजी के समय के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली राजमुद्रा  है. उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी ने कहा, सावरकर और बालासाहेब के हिंदुत्व के मुद्दे को लेकर चलना बच्चों का खेल नहीं है.  फिर भी अगर कोई हिंदुत्व की बात कर रहा है तो हमारे पास उसका स्वागत करने की दिलदारी है.  विचार उधार के भले ही हों लेकिन हिंदुत्व के ही हैं.  हो सके तो आगे बढ़ो.

शिवसेना ने अपनी विचारधारा नहीं छोड़ी है

संपादकीय में कहा गया है, शिवसेना ने कांग्रेस और राकांपा के साथ महाराष्ट्र में सरकार बनाई.  इसका यह मतलब नहीं है कि पार्टी ने अपनी विचारधारा छोड़ दी है.  इसमें कहा गया है, भाजपा महबूबा मुफ्ती समेत किसी के भी साथ हाथ मिला सकती है लेकिन अगर अन्य ऐसा ही राजनीतिक कदम उठाये तो यह पाप बन जाता है. हालांकि राकांपा-शिवसेना और कांग्रेस की विचारधाराएं अलग हैं, लेकिन उनके बीच सहमति है कि सरकार लोगों के कल्याण के लिए काम करेगी.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़े : #Case_Of_Treason : असम को देश से अलग कर देंगे वाले बयान पर हंगामा, JNU छात्र शरजील इमाम पर देशद्रोह का केस

शिवसेना ने देशभर में हिंदुत्व पर काफी काम किया है.

पार्टी ने कहा, शिवसेना ने मराठी के मुद्दे पर पहले ही काफी काम कर लिया है. अत: मनसे को मराठी लोगों से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली.  यह आलोचना है कि राज ठाकरे हिंदुत्व की ओर चले गये क्योंकि भाजपा ऐसा चाहती थी. लेकिन मनसे को इस मोर्चे पर भी कुछ नहीं मिलने की उम्मीद है क्योंकि शिवसेना ने देशभर में हिंदुत्व पर काफी काम किया है.

कहा कि भाजपा जो पांच वर्षों में नहीं कर पायी,  वह महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार ने 50 दिनों में कर दिखाया.  मनसे प्रमुख के इस बयान पर कि शिवसेना ने सरकार का हिस्सा बनने के लिए अपना रंग बदल लिया,  पार्टी ने कहा कि ऐसी टिप्पणियां राजनीतिक दिवालियापन दिखाती हैं.

इसे भी पढ़े : राहुल गांधी ने कहा, #Bhima_Koregaon प्रतिरोध का प्रतीक, मोदी-शाह का विरोध करने वाले अरबन नक्सल करार दिये जाते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like