GiridihJharkhand

सौ से अधिक मौत के बाद गिरिडीह स्वास्थ्य विभाग की नींद टूटी, अब आईसीयू यूनिट चालू करने का फैसला

Giridih: पिछले डेढ़ माह में कोरोना से सौ से अधिक मौतों के बाद गिरिडीह स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली है. अब जब कोरोना की दूसरी लहर थमती दिख रही है तब आईसीयू यूनिट चालू करने का फैसला लिया जा रहा है. वह भी सात बेड का.

शुक्रवार से सदर अस्पताल में शुरु होने वाले सात बेड के आईसीयू यूनिट को लेकर गुरुवार को महत्पूर्ण बैठक हुई. जिसमें कोरोना को लेकर लगातार हो रहे मौत पर चिंता जाहिर की गई.

प्रधानमंत्री केयर फंड से जिले के स्वास्थ विभाग को मिले चार वेंटिलेटर छह माह से पड़े-पड़े खराब हो गए। अब तक खराब पड़े इन वेंटिलेटर पर किसी ने जवाबदेही लेना जरुरी नहीं समझा.

advt

इसे भी पढ़ें : जिलाधिकारियों से बोले पीएम मोदी- गांवों पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत

बैठक में सदर विधायक सुदिव्य कुमार सोनू, प्रभारी सिविल सर्जन डा. सिद्धार्थ सन्याल, जिले के वरीय चिकित्सक डा. मो. आजाद के अलावा सदर अस्पताल के चिकित्सक डा. अमित गौड़, डा. राजीव कुमार, डा. रवि महर्षि और डा. आशीष मोहन सिन्हा, कारोबारी प्रदीप अग्रवाल व चाटर्ड एकाउंटेड विकास खेतान शामिल हुए.

बैठक की जानकारी देते हुए विधायक सोनू ने कहा कि शुक्रवार से सात बेड का आईसीयू यूनिट को शुक्रवार से सदर अस्पताल में शुरू कर दिया जाएगा. शहर के वरीय चिकित्सक डा. मो. आजाद के साथ सदर अस्पताल के चिकित्सक भी आईसीयू यूनिट में अपना योगदान देगें.

फिलहाल यह स्पस्ट नहीं हो पाया है कि सात बेड के आईसीयू यूनिट में कितने वेंटिलेटर लगने हैं, लेकिन स्वास्थ विभाग के सूत्रों की मानें तो चार वेंटिलेटर की व्यवस्था रहेगी. इनमें स्वास्थ कर्मियों की भी प्रतिनियुक्ती की गई है. बहरहाल, नए आईसीयू यूनिट वार्ड का गुरुवार को विधायक सोनू ने सिविल सर्जन समेत चिकित्सकों के साथ निरीक्षण किया.

इसे भी पढ़ें :ई-पास व्यवस्था खत्म करने की याचिका हाइकोर्ट ने की खारिज, कहा- यह जरूरी है 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: