INTERVIEWSJharkhandRanchi

#LockDown के बाद पीडीएस दुकानदारों की कारगुजारियों का करेंगे खुलासा, कई होंगे सस्पेंड और बर्खास्त:  झारखंड यूथ कांग्रेस

  • गरीबों को राशन देने सहित हेमंत सरकार से उम्मीदों को लेकर यूथ कांग्रेस महासचिव उज्जवल प्रकाश तिवारी ने न्यूज विंग से की बात

Ranchi : वैश्विक कोरोना महामारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन लागू किया हुआ है. अभी लॉकडाउन का तीसरा चरण चल रहा है. इस कारण जनजीवन ठप है, लोगों का घर से बाहर निकलना बंद है. लोगों के काम धंधे ठप हैं.

इस स्थिति में अगर सबसे अधिक कोई प्रभावित हुआ है, तो वह गरीब तबके के ही लोग हैं. राज्य में गरीबों की संख्या की संख्या लाखों में है. संकट की इस घड़ी में झारखंड प्रदेश युथ कांग्रेस ने गरीबों को राशन उपलब्ध कराने की एक बड़ी जिम्मेदारी उठायी है.

यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने पूरे लॉकडाउन के दौरान गरीबों को राशन देने की बेहतर रणनीति पर काम किया है. प्रदेश अध्य़क्ष कुमार गौरव और महासचिव सह प्रवक्ता उज्जवल प्रकाश तिवारी इस रणनीति की लगातार मॉनिटरिंग भी करते रहे है.

advt

न्यूज विंग संवाददाता Nitesh Ojha ने इस रणनीति, लॉकडाउन में हुई गतिविधियों सहित कई मुद्दों पर उज्जवल प्रकाश तिवारी से बातचीत की. पेश है बातचीत के प्रमुख अंश :

इसे भी पढ़ें – #Railway ने जारी की पूरी सूची: जानिए कब और कहां से चलेगी ट्रेन, किन स्टेशनों पर रुकेगी

सवाल :  संकट के इस समय में गरीबों को राशन वितरण की क्या व्यवस्था की गयी है?

जवाब :  विगत 24 मार्च को लगे लॉकडाउन के एक दिन बाद से ही यूथ कांग्रेस ने हर जिले व विधानसभा क्षेत्र तक गरीबों को राशन बांटा है. इसके लिए प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में एक वार रूम भी बनाया गया. यहां से रामगढ़, बोकारो, धनबाद सहित कई जिलों में राशन पहुंचाया गया है.

adv

प्रत्येक दिन अमूमन 1000 से अधिक गरीबों तक राशन पहुंचाया गया है. इस तरह पूरे लॉकडाउन के दौरान 4.50 से 5 लाख गरीबों को यूथ  कांग्रेस ने राशन दिया है. हर जिला अध्य़क्ष, प्रदेश पदाधिकारी ने अपने-अपने निजी फंड से भी गरीबों को मदद पहुंचायी है.

सवाल :  17 मई को लॉकडाउन-3 समाप्त होने वाला है. यह तय है कि लॉकडाउन हटने के बाद भी अर्थव्यस्था पटरी पर नहीं आने वाली. तो क्या यूथ  कांग्रेस का राशन देने का प्रोग्राम बाद की अवधि में चलेगा या इसे रोक दिया जायेगा?

जवाब : नहीं, राशन वितरण का काम सीमित स्तर पर यूथ कांग्रेस जारी रखेगी. लॉकडाउन हटने के बाद लोग अपने निजी काम में भी लग जायेगे. ऐसे में यूथ  कांग्रेस ने जो टॉल फ्री नंबर पहले जारी किया था, उसपर फोन कर मदद मांगने पर गरीबों को राशन पहुंचाया जायेगा. यह सीमित स्तर पर ही होगा, लेकिन होगा जरूर.

सवाल :  गरीबों को राशन देने के साथ राज्य लौटे या बाहर फंसे प्रवासी मजदूरों को यूथ कांग्रेस किस तरह की मदद दी है?

जवाब :  दो दिन पहले ही यूथ कांग्रेस ने एक प्रेस रिलीज जारी कर प्रवासी मजदूरों को एक नंबर उपलब्ध कराया है. घर लौटे जो भी प्रवासी मजदूरों इस पर फोन कर रहे है. उसका एक डाटा बनाकर प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव को दिया जा रहा है.

वहीं तमिलनाडु, कर्नाटक जैसे राज्यों में फंसे हुए मजदूरों की मदद करने के लिए संबंधित राज्य के यूथ कांग्रेस अध्यक्ष को कहा गया था. कई मजदूरों को मदद दी गयी है. झारखंड प्रदेश कांग्रेस के फेसबुक पेज पर कई मजदूरों ने मदद मिलने की बात कही है.

इसे भी पढ़ें – #CoronaUpdates: रांची से मिला नया कोरोना पॉजिटिव मरीज, झारखंड में हुए संक्रमण के 161 केस


सवाल : 
राज्य में कांग्रेस-जेएमएम की सरकार है. खाद्य आपूर्ति विभाग कांग्रेस के पास है. इस लॉकडाउन में कई पीडीएस दुकानदारों ने राशन देने में अनियमितता बरती है. इससे गरीबों को राशन नहीं मिल पाया है. इसे आप कैसे देखते है?

जवाब : मंत्री सह प्रदेश अध्यक्ष ने पहले ही एक निगरानी कमिटी बनायी है. कई पीडीएस दुकानदार गड़बड़ी करते हुए पाये गये हैं. जिला स्तर के एसडीओ और बीडीओ को एक रिपोर्ट भी सौंपी गयी है.

लॉकडाउन के कारण ऐसे पीडीएस दुकानदारों पर कार्रवाई नही की जा सकी है. लॉकडाउन के बाद एक रिपोर्ट संबंधित मंत्री को दी जायेगा. कड़ी कार्रवाई करते हुए कई पीडीएस दुकानदार संस्पेंड भी होंगे और कई को बर्खास्त भी किया जायेगा.

सवाल :  हेमंत सरकार से यूथ कांग्रेस क्या उम्मीद करती है?

जवाब : यूथ कांग्रेस हमेशा झारखंडी छात्र-छात्राओं को रोजगार की हितैषी रही है. जाहिर है कि हेमंत सरकार से भी यूथ कार्यकर्ता यहीं चाहेंगे. सभी को रोजगार देना भी संभव नही है. ऐसे में हेमंत सरकार से यूथ कांग्रेस उम्मीद करती है कि युवाओं की इच्छा जिस फील्ड (जैसे व्यापार, सरकारी वैकेंसी, आइटीआइ या उद्योग) में है, हेंमत सरकार को चाहिए कि उस फील्ड में रोजगार के साधन मुहैया कराये.

इसे भी पढ़ें – # Chhattisgarh में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में साहिबगंज का जवान शहीद 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button