JharkhandMain SliderRanchi

#LockDown खत्म होते ही बदल जाएगा BJP प्रदेश कमेटी का चेहरा, बड़े पद के लिए लॉबिंग शुरू

Akshay Kumar Jha

Ranchi: बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश जेएमएम और कांग्रेस को बैकफुट पर भेजने के लिए अपनी टीम तैयार कर रहे हैं. पूरे प्रदेश स्तर की शक्ल बदलने वाली है. वहीं दूसरी तरफ सरकार में नहीं रहने की वजह से विधायकों का भी जोर प्रदेश कमेटी में शामिल होने का है. सभी चाह रहे हैं कि उन्हें पार्टी में एक मन मुताबिक और मजबूत कुर्सी मिल जाए. इसके लिए लगातार लॉबिंग हो रही है.

मौजूदा कमेटी के सदस्यों के अलावा दूसरे दिग्गज अपनी गोटी सेट करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं. बताया जा रहा है कि लॉकडाउन खत्म होते ही नये प्रदेश कमेटी की घोषणा हो सकती है. प्रदेश कमेटी में अध्यक्ष के बाद महामंत्री दूसरा सबसे बड़ा पद होता है. वहीं उपाध्यक्ष फिर सचिव की बारी आती है. कोषाध्यक्ष एक डमी पद के रूप में हमेशा से देखा जाता रहा है. वहीं प्रवक्ता बनना अपने-आप में एक सम्मान की बात होती है.

advt

इसे भी पढ़ें- व्यंग्य : कोरोना पर लगातार बदलते सियासी हुक्म- नया टाइप का चीज़ आया है, सब तुक्का मार रहा है

महामंत्री की दौड़ में

झारखंड बीजेपी में महामंत्री के तीन पद हैं. फिलहाल दीपक प्रकाश के प्रदेश अध्यक्ष बन जाने के बाद अनंत ओझा और सुनील सिंह इस पद पर बने हुए हैं. यह तय है कि महामंत्री वही बनेगा जिसकी पार्टी में पकड़ और ओहदा काफी ऊंचा हो. सबसे ज्यादा जोर इसी पद को हासिल करने के लिए हो रहा है.

यूं तो कई लोग इस पद के लिए लॉबिंग कर रहे हैं. लेकिन जिनका नाम इस रेस में सबसे आगे चल रहा है उसमें प्रदीप वर्मा और अभय सिंह शामिल हैं. वहीं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष समीर उरांव भी रेस में हैं. कुछ सांसद और पार्टी के पुराने विधायक भी कोशिश में लगे हुए हैं.

उपाध्यक्ष की दौड़ में

प्रदेश कमेटी की दूसरा वजनदार पद उपाध्यक्ष का होता है. फिलहाल इस पद पर सत्येंद्रनाथ तिवारी, विद्युत बरन महतो, प्रिया सिंह, प्रदीप वर्मा और आदित्य साहू बने हुए हैं. हालांकि इनमें से ज्यादातर बदल दिए जाने की उम्मीद है.

क्योंकि इनमें से कुछ का कार्यकाल उतना अच्छा नहीं रहा है. खबरों में भी इन्हें कम ही देखा जाता रहा है. उपाध्यक्ष के पद के लिए जो नाम चल रहे हैं. उनमें से सुबोध सिंह गुड्डु, आदित्य साहू, विनोद शर्मा और शोभा यादव जैसे नाम रेस में हैं.

इसे भी पढ़ें- #RahulGandhi ने लॉकडाउन को बताया पूरी तरह फेल, कहा- आगे का प्लान बताये केंद्र सरकार

मीडिया प्रभारी की दौड़ में

इससे पहले मीडिया प्रभारी की पूरी जिम्मेदारी शिवपूजन पाठक के ही कंधों पर थी. लेकिन इस बार इस टीम को और बड़ा बनाने का विचार है. यह टीम तीन से चार लोगों की हो सकती है. शिवपूजन पाठक के अलावा जेवीएम से बीजेपी आए मो. तोहिद, पंकज पांडे और सावरमल अग्रवाल का नाम आगे चल रहा है.

पार्टी के प्रवक्ता की दौड़ में

बाकी प्रदेश कमेटी के पदों से प्रवक्ता का पद बिलकुल अलग माना जाता है. मीडिया से सीधा संवाद करने वाले प्रवक्ता का पद एक सम्मानित पद माना जाता है. कोरोना संकट को देखते हुए आने वाले दिनों में कोई बड़ी रैली या कोई बड़ा आयोजन होना मुश्किल है. ऐसे में मीडिया के जरिए ही पार्टी को अपनी बात लोगों तक पहुंचानी है.

ऐसे में प्रवक्ताओं को वोकल और हाजिर जवाब होना काफी लाजिमी हो जाता है. फिलहाल इस टीम में प्रतुल शाहदेव, दीनदयाल बर्णवाल, राजेश शुक्ला, जेबी तुबिद, मिसफिका हसन और अनिल सिन्हा शामिल हैं. इन छह प्रवक्ताओं में पार्टी चार प्रवक्ताओं को इस बार साइड कर सकती है. प्रतुल शाहदेव और अनिल सिन्हा का कार्यकाल दोहराया जा सकता है. बाकी नामों पर पार्टी विचार कर रही है.

वैसे झारखंड के पूर्व डीजीपी डीके पांडे पूरा जोर लगा रहे हैं कि उनकान नाम प्रवक्ताओं के पैनल में शामिल हो जाए. वहीं दो नाम ऐसे हैं जिन्हें अध्यक्ष की तरफ से प्रवक्ता की टीम में रखा जा सकता है. वो नाम प्रेम मित्तल और प्रदीप सिन्हा के हैं. बाकी ऐसे लोगों की तलाश जारी है, जो पार्टी की बात जोर शोर से मीडिया में रख सकें.

आइटी सेल मजबूत करने की कवायद

पीछले विधानसभा चुनाव और मौजूदा जेएमएम के आइटी सेल के काम को देख कर कहा जा सकता है कि जेएमएम की टीम बीजेपी पर भारी है. खास कर सोशल मीडिया.

बीजेपी इस बार सोशल मीडिया को मजबूत करने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती. इसलिए इस टीम की कमान किसी ऐसे के हाथों में दिया जाना है, जो बीजेपी को सोशल मीडिया में एक मुकाम तक पहुंचाए. हालांकि ऐसे किसी नाम पर पार्टी ने मुहर नहीं लगायी है, लेकिन तलाश जारी है.

इसे भी पढ़ें- Bihar Board Result: 96.20% मार्क्स के साथ हिमांशु राज बने बिहार बोर्ड में 10वीं के टॉपर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: