न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विश्व कप सेमीफाइनल में भारत की हार के बाद गावस्कर ने खेल से धौनी के लंबे ब्रेक पर सवाल उठाये

1,572

New Delhi  :  सुनील गावस्कर ने जुलाई में विश्व कप सेमीफाइनल में भारत की हार के बाद से खेल से महेंद्र सिंह धौनी के ब्रेक पर शनिवार को सवाल उठाते हुए कहा कि क्या कोई स्वयं को इतने लंबे समय तक भारत की ओर से खेलने से दूर रख सकता है?

नौ जुलाई को विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत की हार के बाद से धोनी के भविष्य को लेकर अटकलों का दौर जारी है. 38 साल के धौनी ने इस हार के बाद से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला है लेकिन उनके आइपीएल में वापसी करने की उम्मीद है.

Sport House

इसे भी पढ़ेंः #NewsWing पड़तालः रघुवर सरकार ने मोमेंटम झारखंड को लेकर गुमराह किया,  विधानसभा में दी गलत जानकारी

फिटनेस के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता

गावस्कर व्याख्यान के दौरान ये भी कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून बनने के बाद देश उथल-पुथल के दौर से गुजर रहा है. इस पर सरकार को सोचना चाहिये.

यह पूछने पर कि क्या धौनी भारत की टी20 विश्व कप टीम में जगह बना सकते हैं, गावस्कर ने कहा, ‘‘फिटनेस ऐसी चीज है जिसके बारे में मैं आपको कुछ नहीं बता सकता. यह सवाल स्वयं धोनी से पूछा जाना चाहिये. उसने 10 जुलाई से खुद को भारत की ओर से खेलने के लिए उपलब्ध नहीं रखा है.’’

महान बल्लेबाज और पूर्व भारतीय कप्तान गावस्कर ने यहां 26वें लाल बहादुर शास्त्री स्मृति व्याख्यान के बाद कहा, ‘‘यह महत्वपूर्ण सवाल है. क्या कोई भारत के लिए खेलने से खुद को इतने समय तक दूर रख सकता है? यह सवाल है और इसी के अंदर जवाब है.’’

Mayfair 2-1-2020

गावस्कर ने साथ ही कहा कि देश के शीर्ष प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्राफी में जब तक खिलाड़ियों की मैच फीस में भारी भरकम इजाफा नहीं किया जाता तब तक यह लुभावनी इंडियन प्रीमियर लीग की बराबरी नहीं कर सकती.

इसे भी पढ़ेंः #Heritage को संरक्षित करने का राष्ट्रवादी अभियान बंगाल से हो रहा शुरू : पीएम मोदी

रणजी ट्राफी पर आइपीएल का दबदबा रहता है

रणजी ट्राफी खेलने के लिए एक खिलाड़ी को प्रति मैच लगभग ढाई लाख रुपये मिलते हैं लेकिन कुछ समय पहले तक खिलाड़ियों को काफी कम मैच फीस मिलती थी. इस इजाफे के बावजूद इस प्रथम श्रेणी टूर्नामेंट से खिलाड़ियों को होने वाली कमाई मामूली है.

गावस्कर ने कहा, ‘‘रणजी ट्राफी पर आइपीएल का दबदबा रहता है. जब तक कि मैच फीस में बड़ा इजाफा नहीं किया जाता तब इसे अनाथ और भारतीय क्रिकेट का रिश्ते का गरीब भाई ही माना जायेगा.’’

टेस्ट क्रिकेट को पांच दिन से घटाकर चार दिन का करने के आइसीसी के प्रस्ताव पर गावस्कर ने कहा, ‘‘मैं क्या सोचता हूं यह मायने नहीं रखता. मौजूदा खिलाड़ी क्या सोचते हैं यह मायने रखता है. बीसीसीआइ के फैसला करने से पहले उनसे सलाह मशविरा होना होना चाहिये.’’

इसे भी पढ़ेंः #Congress_Working_Committee ने कहा,  CAA असंवैधानिक और विभाजनकारी कानून, वापस ले मोदी सरकार

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like