Crime NewsGiridih

गिरिडीह में बढ़ते सड़क हादसे के बाद डीसी ने सख्ती बरतने का दिया निर्देश

Giridih:  जिले में बढ़ते सड़क हादसे और उसमें हो रही मौत को लेकर जिला प्रशासन गंभीर नजर आ रही है. सोमवार को डीसी नमन प्रियेश लकड़ा ने जिलास्तरीय अधिकारियों के साथ इस मुद्दे को लेकर बैठक की और कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए ताकि सड़क हादसों में कमी लाई जा सके. लगभग डेढ़ घंटे तक चली बैठक में एएसपी हारिश-बिन-जमां के साथ डीटीओ रोहित सिन्हा, जिला शिक्षा अधीक्षक नीलम आईलीन टोप्पो समेत कई अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे. डीसी ने लोगों के बीच जागरुकता अभियान चलाने का निर्देश दिया तो वहीं आपातकालीन सेवाओं को 24 घंटे दुरुस्त रखने की भी बात कही. ट्रैफिक लाईट के इस्तेमाल के साथ आगामी नौ दिसबंर से सड़क सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम चलाने का भी निर्णय लिया गया. जिसमें यातायात पुलिस के सहयोग से जांच अभियान शुरु करने के साथ सड़क सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर पेंटिंग प्रतियोगिता छात्रों के बीच आयोजित करने का निर्देश दिया.
इसे भी पढ़ें: गिरिडीह के डुमरी में नशे में धुत बाईक चालक ने युवक को मारी टक्कर, हुई मौत

बैठक में पेटिंग प्रतियोगिता के लिए जिन स्कूलों का चयन हुआ, उसमें आर के महिला कॉलेज, हाई स्कूल गिरिडीह, मकतपुर हाई स्कूल, सर जेसी बोस गर्ल्स हाई स्कूल समेत अन्य स्कूलों को शामिल किया गया. बैठक में डीसी ने पदाधिकारियों को सुझाव देते हुए कहा कि इसकी जानकारी लोगों तक पहुंचाने की व्यवस्था करें कि अगर सड़क हादसे में कोई जख्मी होता है तो जख्मी व्यक्ति को वक्त पर अस्पताल पहुंचाने वालों को गुड सेमेरिटन पद से नवाज कर उसे दो हजार रूपए की पुरस्कार राशि दी जाए. किसी एक व्यक्ति के जख्मी होने के बाद उसे तत्काल एक घंटे के भीतर अस्पताल पहुंचाने वाले दो गुड सेमेरिटन को दो-दो हजार का पुरस्कार देने की व्यवस्था की जाएगी.

डीसी ने बैठक में यातायात थाना और डीटीओ को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि ओवर लोडिंग, नशे में वाहन का चलाना, बिना हेलमेट के वाहन चलाना और मोबाइल में बात करते हुए गाड़ी चलाने वालों की सख्ती से जांच के साथ उनका लाईसेंस रद्द करने का निर्देश दिया. डीसी ने कहा कि उनके लाईसेंस रद्द होने के बाद केन्द्र सरकार के पोर्टल में अपलोड करें, जिसे ऐसे लोगों के लाईसेंस किसी दुसरे राज्य में भी नहीं बन सके.

Related Articles

Back to top button