न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अब होली के बाद शिबू सोरेन के सामने होगी महागठबंधन की सीट शेयरिंग की घोषणाः हेमंत

चुनाव की घोषणा से तीन महीने पहले से गठबंधन के स्वरुप पर हो रही चर्चा, अबतक साफ नहीं हुई तस्वीर

1,374

Ranchi: चुनाव आयोग के चुनाव तारीखों की घोषणा करने से करीब तीन महीने पहले से झारखंड में गठबंधन का स्वरूप बन रहा है. जो रांची में करीब पांच और दिल्ली में करीब 10 बैठकों के बाद भी नहीं बन सका है. जेएमएम, जेवीएम और कांग्रेस ने सीट शेयरिंग को लेकर अब तक जनता को कन्फ्यूज कर रखा है. कुछ सीटों की बात छोड़ दें तो कई ऐसी सीट है जिस पर अबतक यह साफ नहीं हो पाया है कि जेएमएम का उम्मीदवार खड़ा होगा या कांग्रेस या फिर जेवीएम का.

इसे भी पढ़ेंः जनवरी में ही HC ने खारिज की कुमार नीरज की बेल पिटीशन, अबतक नहीं हुए गिरफ्तार 

गोड्डा, कोडरमा, जमशेदपुर, चाईबासा और चतरा जैसी सीटों पर पेच फंसा हुआ है. इस बीच सीट बंटवारों को लेकर कई बार दिल्ली दरबार में हाजिरी लगाने वाले हेमंत ने शनिवार की सुबह ट्वीट के जरिये एक जानकारी देकर सारा मामला होली तक ठंडे बस्ते में डाल दिया है.

अब होली के बाद पता चलेगा कि क्या है महागठबंधन का स्वरूप

शनिवार की सुबह हेमंत सोरेन ने एक ट्वीट किया. ट्वीट के जरिये हेमंत ने जानकारी दी कि उन्होंने झारखंड के प्रभारी आरपीएन सिंह के साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की. लिखा कि महागठबंधन की सीट शेयरिंग को लेकर एक सकारात्मक बात हुई. महागठबंधन में लेफ्ट की भूमिका पर भी चर्चा हुई. इन सभी चीजों के बारे में अंतिम घोषणा होली के बाद शिबू सोरेन के सामने की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः आंकड़ों का है कहना जमशेदपुर लोकसभा सीट पर भगवा रंग को बड़ी चुनौती देगा महागठबंधन का समीकरण

हेमंत के इस ट्वीट के बाद महागठबंधन को लेकर अब कई तरह की बातें हो रही हैं. सवाल यह उठ रहा है कि अगर सर्वसम्मति से सीट शेयरिंग पर बात तय हो चुकी है तो महागठबंधन अपने सभी घटक दलों के साथ मिलकर एक संयुक्त प्रेस वार्ता कर इसकी जानकारी क्यों नहीं देंगे. क्यों सिर्फ शिबू सोरेन के सामने ही महागठबंधन अपने पत्ते खोलेगा.

झारखंड में चार चरणों में वोट डाले जाएंगे

पहला चरण, 29 अप्रैल- चतरा, लोहारदगा, पलामू.
दूसरा चरण, 6 मई- कोडरमा, रांची, खूंटी, हजारीबाग.
तीसरा चरण, 12 मई- गिरिडीह, धनबाद, जमशेदपुर, सिंहभूम.
चौथा चरण, 19 मई- राजमहल, दुमका, गोड्डा.

इसे भी पढ़ेंःलचर है झारखंड की बिजली व्यवस्था, 39 दिन में 2706 मेगावाट बिजली सरेंडर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: