Khas-KhabarRanchi

लगातार चार हार के बाद हेमलाल मुर्मू पर बीजेपी को क्या अब भी है भरोसा या होगी राजनीति से विदाई

Akshay Kumar Jha

Ranchi: 2014 का लोकसभा चुनाव हार जाना. 2014 में ही फिर बरहेट से विधानसभा चुनाव हार जाना. 2015 में लिट्टीपाड़ा से विधानसभा का उपचुनाव हारना और अब 2019 में राजमहल से दोबारा चुनाव हार कर लगातार चार बार हार का रिकॉर्ड बनाने वाले हेमलाल मुर्मू की राजनीतिक विदाई के चर्चे हो रहे हैं.

advt

बात हो रही है कि क्या इतने हार के बाद बीजेपी फिर से हेमलाल पर भरोसा जताएगी या इनकी राजनीतिक करियर पर फुलस्टॉप लग गया.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड पर 85234 करोड़ कर्जः 14 साल की सरकारों ने लिये 37593.36 करोड़, रघुवर सरकार ने 5 साल में ही ले लिया 47640.14 करोड़ का ऋण

2019 के लोकसभा चुनाव में राजमहल सीट से जेएमएम के विजय हांसदा ने हेमलाल मुर्मू ठीक वैसे ही हराया है जैसे बीजेपी ने दूसरे लोकसभा क्षेत्र में अपने विरोधियों को.

adv

जीत का अंतर करीब एक लाख वोट रहा. आखिर क्या वजह थी, जिसने बीजेपी की आंधी को राजमहल में रोक दिया.

कमजोर रही बीजेपी की कैंपेनिंग

राजमहल लोकसभा के कुछ बीजेपी कार्यकर्ताओं को कहना है कि जेएमएम की तुलना में बीजेपी की कैंपेनिंग निश्चित तौर पर कमजोर रही. जहां हेमलाल मुर्मू एक बार भी नहीं पहुंच पाए, वहां उनके विरोधी लगातार दौरा करते रहे.

कमजोर कैंपेनिंग का नतीजा साफतौर से पाकुड़ विधानसभा में दिखता है. बीजेपी ने इस विधानसभा से करीब 20,000 वोट की लीड लेने का सोचा था. लेकिन नतीजा यह हुआ कि 50,000 वोटों से बीजेपी पीछे हो गयी.

हेमलाल मुर्मू के हार के पीछे यह भी कहा जा रहा है कि बीजेपी अपनी रणनीति पर यहां ठीक से काम नहीं कर पायी. ऐसा कहा जा रहा है कि हेमलाल मुर्मू ने कैंपेनिंग में पूरी तरह से अपनी चलायी. कार्यकर्ताओं की बातों को अनसुनी करते रहे.

इसे भी पढ़ेंःसरायकेलाः सर्च ऑपरेशन पर निकले जवानों पर हमला, IED ब्लास्ट में 17 जवान घायल, भाजपा ने की निंदा, देखें तस्वीर

लिट्टीपाड़ा में किया फोकस तो महेशपुर में लगा जोर का झटका
हेमलाल मुर्मू ने शुरुआत से ही आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र पर फोकस किया. सबसे ज्यादा कैंपेनिंग लिट्टीपाड़ा में किया गया. जिस वजह से बाकी के विधानसभा क्षेत्र से नतीजे वैसे नहीं आए, जैसे आने चाहिए थे.

महेशपुर में बीजेपी को काफी जोर का झटका लगा. जहां से बीजेपी 20,000 वोट से लीड लेने का सोच रही थी, वहां से बीजेपी करीब 30,000 वोट से पीछे हो गयी. वहीं बोरियो विधानसभा में भीतरघात की भी बात सामने आ रही है.

बीजेपी के विधायक ताला मरांडी के क्षेत्र बोरियो से पार्टी को वैसे नतीजे नहीं मिले. जिसकी वो उम्मीद कर रही थी. बोरियो में भी जेएमएम ने 12,000 से लीड ली.

स्टार प्रचारक नहीं आये, टीएमसी भी फैक्टर

राजमहल लोकसभा क्षेत्र की बात की जाये तो वहां कोई बड़ा बीजेपी का स्टार प्रचारक नहीं पहुंचा.

हिरणपुर में अमित शाह ने सभा की, लेकिन उसका असर सीधे तौर पर नहीं दिखा. कार्यकर्ताओं का कहना है कि अगर यही सभा साहेबगंज इलाके में होती, तो इसका ज्यादा प्रभाव पड़ता.

अपनी चुनावी व्यस्तता की वजह से अर्जुन मुंडा को भी राजमहल का दौरा कैंसल करना पड़ा. स्टर प्रचारक नहीं आने की वजह से युवाओं में जोश की कमी साफ तौर से देखी गयी.

वहीं टीएमसी के उम्मीदवार मोनिका किस्कु के चुनावी मैदान में आने से सीधे तौर से बीजेपी को नुकसान हुआ. मोनिका को करीब 17,000 वोट आए. जो बीजेपी की झोली में आ सकते थे. मोनिका को ज्यादातर वोट बंगाल से सटे इलाकों से आये.

इसे भी पढ़ेंःएक हफ्ते में राज्यभर से 28.54 लाख की लूट, केवल राजधानी से 20.50 लाख ले उड़े अपराधी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close