Lead NewsNational

असदुद्दीन ओवैसी की कार पर फायरिंग के बाद सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा, Z कैटेगरी की सेक्यूरिटी

New Delhi : केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर सांसद औवेसुद्दीन औवेसी को जेड कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान की गई है. उन्हें CRPF की तरफ से यह सुरक्षा चक्र प्रदान किए जाने के आदेश किए है. औवेसी पर उत्तर प्रदेश में हुए हमले के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने औवेसी की सुरक्षा की समीक्षा किए जाने के बाद ये आदेश जारी कर दिए है.
दरअसल औवेसी पर गुरुवार को उत्तर प्रदेश के छिजारसी टोल प्लाजा के पास गोलियां चलाई गई थी और पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

इसे भी पढ़ें:Covid 19 Vaccination Jamshedpur : सात फरवरी से होगा डोर टू डोर सर्वे एवं किशोर-किशोरियों का काेरोना टीकाकरण

गाड़ी पर चार राउंड फायर किए गए

Catalyst IAS
ram janam hospital

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख ओवैसी ने गुरुवार को दावा किया था कि उनकी गाड़ी पर चार राउंड फायर किए गए. फायर करने वाले तीन चार लोग थे. ये लोग गोलीबारी करने के बाद वहां से फरार हो गए.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें:पलामू में तीन साल की मासूम के साथ दरिंदगी, मुंहबोले भाई ने किया दुष्कर्म

दो आरोपी गिरफ्तार

पुलिस को आरंभिक जांच के दौरान औवेसी की गाड़ी पर गोलियों के निशान भी मिले थे. इस संबंध में उत्तर प्रदेश पुलिस ने तात्कालिक कार्रवाई करते हुए सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से पहचान करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया था.

इनकी पहचान बादलपुर गौतमबुद्द नगर निवासी सचिन और शुभम के तौर पर की गई है. आरंभिक पूछताछ में इन लोगों ने बताया था कि औवेसी के हिंदू विरोधी बयानों से आहत होकर इन लोगों ने हमला किया था. इनके अन्य सहयोगियों की तलाश की जा रही है.

इसे भी पढ़ें:रांची : मोरहाबादी में ढाई एकड़ भूमि पर है अवैध कब्जा, कल से हटेगा अतिक्रमण

गृह मंत्रालय ने समीक्षा कर बढ़ाई सुरक्षा

उधर गृह मंत्रालय ने औवेसी पर हुए हमले को गंभीरता से लेते हुए उनकी सुरक्षा समीक्षा करने के निर्देश दिए. सूत्रों ने बताया कि इस सुरक्षा समीक्षा के बाद औवेसी को जेड स्तर की सुरक्षा दिए जाने का निर्णय लिया गया. इसके बाद मंत्रालय ने सीआरपीएफ को यह सुरक्षा दिए जाने की जिम्मेदारी संबधी आदेश जारी कर दिए.

मंत्रालय के आदेश पर जिस किसी को भी सुरक्षा दी जाती है तो फिलहाल उसकी जिम्मेदारी सीआऱपीएफ के पास ही है.

उधर औवेसी ने आज स्वयं पर हुए हमले को लेकर संसद में भी महत्वपूर्ण लोगों से मुलाकात की. ओवैसी पर हमले को लेकर राजनीतिक लड़ाई भी छिड़ गई थी.

इसे भी पढ़ें:झारखंड में IPS के दर्जनों पद खाली, प्रमोशन के इंतजार में कट रहे कईयों के दिन

Related Articles

Back to top button