Bihar

बिहार में इथेनॉल के बाद अब कृषि आधारित उद्योग को दिया जा रहा है बढ़ावा

Patna : बिहार में इथेनॉल उत्पादन प्रोत्साहन नीति लागू होने के बाद से ही काफी संख्या में निवेशक बिहार की तरफ रुख कर रहे हैं. अब कृषि आधारित उद्योगों को भी बढ़ावा मिलेगा. कृषि मंत्री ने दावा किया है कि बिहार के किसानों को काफी लाभ मिलेगा क्योंकि अब कृषि के क्षेत्र में भी निवेशक निवेश करने के लिए बिहार आ रहे हैं.

बिहार सरकार के कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने बिहार कृषि प्रोत्साहन नीति 2020 एवं केंद्र सरकार द्वारा संपोषित प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उदयन उन्नयन योजना को लेकर एक दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन किया.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics 2020 : डिस्कस थ्रो में मेडल की उम्मीद चकनाचूर, छठे स्थान पर रहीं कमलप्रीत कौर

वहीं मंत्री ने कहा कि बिहार कृषि निवेश प्रोत्साहन नीति का मुख्य उद्देश्य बिहार में कृषि व्यवसाय क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है.

advt

फसल के प्रसंस्करण को बढ़ावा देने के लिए विभाग काम कर रहा है जिसमें मक्का, मखाना, फल एवं सब्जी, शहद, औषधीय पौधे, चाय और बीज जैसे फसलों से संबंधित उद्योगों के लिए सरकार सहायता कर रही है.

निवेशक बड़ी संख्या में आ रहे हैं. 24 परियोजना लाभान्वित होने के भिन्न स्तरों पर है. जिनकी कुल परियोजना लागत 13773.59 लाख है.

इसे भी पढ़ें :निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव को लेकर 10 अगस्त तक जिलों से मांगा प्रस्ताव, हो सकती है चुनाव की घोषणा

कृषि मंत्री अमरेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि हम चाहते हैं कि बड़ी संख्या में कृषि आधारित उद्योग बिहार में लगे और इसको लेकर हमारा विभाग लगातार प्रयास कर रहा है. निवेशक बिहार का रुख कर रहे हैं और बहुत जल्द कई इस तरह के उद्योग राज्य में में लग जायेंगे.

आपको बता दें कि मार्च 2021 में बिहार पहला राज्य बना जिसने इथेनॉल उत्पादन प्रोत्साहन नीति को लांच किया. इथेनॉल नीति लागू होने के बाद से ही बिहार में काफी संख्या में बड़े निवेशक आ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :प्रधानमंत्री के सलाहकार अमरजीत सिन्हा ने दिया इस्तीफा

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: