National

राहुल के बयान पर बोले कमलनाथः आम चुनाव में मिली हार के बाद मैंने की थी इस्तीफे की पेशकश

Bhopal: लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद से कांग्रेस में संकट का दौर जारी है. एक ओर राहुल गांधी अबतक अपने इस्तीफे की बात पर अड़े हैं. वहीं राज्यों में पार्टी अध्यक्षों द्वारा लोकसभा चुनाव में मिली हार की जिम्मेदारी नहीं लेने पर भी बहस छिड़ी हुई है.

Jharkhand Rai

इन सबके बीच, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद मैंने मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफे की पेशकश की थी.

इसे भी पढ़ेंःकेंद्र सरकार ने टाइम्स ऑफ इंडिया, द हिन्दू,टेलीग्राफ,आनंद बाजार पत्रिका में सरकारी विज्ञापन पर लगायी रोक

क्या कहा था राहुल ने

कमलनाथ का यह बयान लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की उस टिप्पणी के एक दिन बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि मुझे इस बात का दुख है कि मेरे इस्तीफे के बाद किसी मुख्यमंत्री, महासचिव या प्रदेश अध्यक्ष ने हार की जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा नहीं दिया.

Samford

मैंने की थी इस्तीफे की पेशकश- कमलनाथ

लोकसभा चुनाव पर राहुल द्वारा दी गई इस टिप्पणी की ओर इशारा करते हुए एक कार्यक्रम के बाद मीडिया से कमलनाथ ने कहा, ‘‘मैंने मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी ली है. मैं नहीं जानता कि इसके लिए कौन जिम्मेदार है, लेकिन मैंने पहले इस्तीफे की पेशकश की थी.’’

इसे भी पढ़ेंःकार्ड कहीं का बना हो, राशन मिलने में नहीं होगी असुविधा, ‘एक देश-एक राशन कार्ड’ की दिशा में काम कर रही केंद्र सरकार

उन्होंने कहा, ‘‘राहुल गांधी सही कह रहे हैं. बाकी नेताओं के बारे में नहीं पता, लेकिन मैं हार की जिम्मेदारी लेता हूं.’’

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि कमलनाथ ने लोकसभा चुनाव में मध्यप्रदेश में करारी हार के बाद मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश की थी.

उन्होंने कहा, ‘‘कमलनाथ ने इस्तीफे की पेशकश करते हुए कहा था कि वह इस हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हैं.’’ इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मध्यप्रदेश में 29 सीटों में से मात्र एक सीट मिली थी. यह प्रदेश में अब तक कांग्रेस का सबसे खराब प्रदर्शन था.

इसे भी पढ़ेंःरांची जिले में 35131.65 एकड़ जमीन की हुई अवैध जमांबदी, 17488 मामले लंबित

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: